नकल का प्रभाव | Inspirational story

नकल का प्रभाव | Inspirational story of Thief

नकल chor

एक चोर आधी रात को किसी राजा के महल में सेंधमारी करने जा घुसा। उस समय राजा-रानी के बीच अपनी विवाह योग्य कन्या को लेकर विचार चल रहा था।

चोर ने राजा को रानी से यह कहते सुना कि ‘मैं पुत्री का विवाह उस साधु से करूंगा जो गंगा के किनारे रहता है।’

चोर ने सोचा कि ‘यह अच्छा अवसर है। कल मैं भगवा पहन कर साधुओं के बीच चला जाऊँगा। सम्भव है राजकुमारी का विवाह मेरे साथ ही हो जाए।’

नकल sadhu

दूसरे दिन उसने ऐसा ही किया। राजा के कर्मचारी बारी-बरी से साधुओं के बीच गये और उनसे राजकन्या के साथ विवाह कर लेने की प्रार्थना करने लगे, लेकिन किसी ने स्वीकार नहीं किया। वे उस चोर साधु के पास भी गये ओर वही प्रार्थना वे उससे भी करने लगे। चोर से सोचा कि एकदम प्रस्ताव स्वीकार कर लेने से संदेह उत्पन्न हो सकता है। इसलिए उसने असमन्जस्य की स्थिति का नाटक किया और कोई तत्काल जवाब नहीं दिया।

कर्मचारी राजा के पास गये और उन्होंने सारी स्थिति सच-सच बता दी।

उन्होंने कहा कि-‘महाराज! कोई भी साधु राजकुमारी के साथ विवाह के लिए तैयार नहीं हुआ। एक सन्यासी अवश्य मिला जो कुछ प्रयास करने से सम्भवतः विवाह प्रस्ताव स्वीकार कर ले।

राजा ने कर्मचारियों को तत्काल उसे साधु के पास ले चलने का आदेश दिया। वहाँ पहुँच कर उसने साधु से अपनी पुत्री के साथ विवाह करने का अनुरोध किया।

राजा के स्वयं आने से चोर दंग रह गया और उसका हृदय एकदम परिवर्तित हो गया।

उसने सोचा ‘अभी तो केवल सन्यासियों के कपड़े पहनने का यह परिणाम हुआ है कि इतना बड़ा राजा मुझसे मिलने स्वयं आया है। यदि मैं वास्तव में सच्चा सन्यासी बन जाऊँ तो न मालूम आगे कैसे अच्छे-अच्छे परिणाम देखने को मिलेंगे।’

इन विचारों और घटनाओं से उसके मन में ऐसा अच्छा प्रभाव पड़ा कि उसने राजकुमारी से विवाह करना एकदम अस्वीकार कर दिया और उस दिन से वह एक सच्चा साधु बनने का प्रयास करने लगा। वह आगे चल कर बहुत ही पहुँचा हुआ संत बना।

मित्रों देखा आपने अच्छी बात की नकल से भी कभी-कभी अनपेक्षित और अपूर्व फल की प्राप्ति हो जाती है। अतः हमें किसी से भी अच्छाई ग्रहण करने में कभी भी संकोच नहीं करना चाहिए।

Also Read : आखिर हम बार-बार हारते क्यों है?


आपको यह कहानी inspirational story of thief नकल का प्रभाव  कैसा लगी, कृप्या कमेंट बाक्स पर साझा करें।

Random Posts

  • सदन कसाई 1 ईश्वर भक्त सदन कसाई

    ईश्वर भक्त सदन कसाई प्राचीन काल में सदन कसाई ईश्वर के परम भक्त थे। जाति के कसाई होने के वावजूद उनके हृदय में हमेशा दया का संचार रहता था। जातिगत […]

  • सफलतम सीईओ दुनिया के कुछ सफलतम सीईओ की व्यापारिक सोच

    दुनिया के कुछ सफलतम सीईओ की व्यापारिक सोच Business thinking of successful top CEO / Businessman in Hindi वॉल्ट डिजनी, द वॉल्ट डिजनी कंपनी Walt Disney संस्थापक और सीईओ (1923-66) The Walt […]

  • फिल्म प्रेरणादायक हिन्दी फिल्में जो हमें अवश्य देखनी चाहिए

    प्रेरणादायक हिन्दी फिल्में जो हमें अवश्य देखनी चाहिए। हमारे जीवन में बहुत बार ऐसा होता है कि लगातार संघर्ष और विपरीत परीस्थिति से जूझते हुए मन में निराशा आ ही […]

  • mechanic bus संकटमोचक मैकेनिक

    संकटमोचक मैकेनिक (Unforgettable Help of Mechanic)  सन् 2000 में उत्तरकाशी से गंगोत्री वापिस आते समय, बस खराब हो गई थी। ड्राईवर (driver) ने काफी प्रयास किया परन्तु बस स्ट्रार्ट नहीं हो […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*