वेलेंटाइन डे का सच

वेलेंटाइन डे का सच – True Story of Valentine Day in Hindi

प्रेम की अभिव्यक्ति का इस दिवस का इतिहास वास्तव में romantic तो बिल्कुल भी नहीं है। यह कहानी है एक पुजारी की जिन्होंने प्रेम को जिन्दा रखने के लिए अपने प्राणों की आहूति दी। उनके संघर्ष और बलिदान की याद में ही यह दिवस (valentine day) मनाया जाता है।

सन् 270 में रोम सम्राट क्लोडिएस नामक एक क्रूर शासक था। वह अपने खूनी संघर्षों और अलौकप्रिय आदेशों के कारण काफी बदनाम था। क्लोडिएस बहुत विशाल सेना की आकांशा रखता था लेकिन अपनी हरकतों के कारण उसे लोगों को सेना में भर्ती कराने में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था।

उसने अपने स्तर पर इसके कारण जानने का प्रयास किया तो उसे महसूस हुआ कि रोमन लोग अपने परिवार के प्रति बेहत लगाव रखते हैं, इसलिए वे उनसे दूर नहीं जाना चाहते। परिवार के प्रति लोगों का प्रेम ही उन्हें सेना में भर्ती होने से रोक रहा है। इसका नतीजा यह हुआ कि, क्लोडिएस ने पूरे रोम में शादी और सगाई पर रोक लगा दी।

उस समय एक सज्जन Valentine रोम में पुजारी थे। उन्होने इस अजीबो-गरीब आदेश का न सिर्फ विरोध किया बल्कि कई जोड़ों की सगाई और शादी गुपचुप तरीके से कराई।

यह सब कब तक छुपा रह सकता था। आखिर एक दिन राजा को उनके कृत का पता चल ही गया। अपने आदेश का ऐसा उल्लंघन देख उसे बहुत क्रोध आया। उसने वेलेंटाइन को बालों से घसीट कर अपने सामने प्रस्तुत करने का आदेश दिया। वेलनटाइन की बैइज्जती करके राजा के सम्मुख लाया गया तथा अगले आदेश तक के लिए जेल भेज दिया गया।

बहुत से लोग वेलेंटाइन से मिलने और अपना समर्थन जताने जेल जाते थे। जेल के एक अधिकारी की बेटी भी उन्हीं में से एक थी। वह रोज उनके मिलने जाती और वे आपस में घंटों बातें करते। यह सिलसिला चलता रहा। आखिर वह मनहूस दिन आ गया जब उनको मौत की सजा दी जानी थी। अपनी सजा से पहले उन्होने उस युवती का आभार व्यक्त करने के लिए कुछ शब्द लिखे जो कि वह युवती उनकी मृत्यु के बाद पढ़ सके। कहा जाता है कि तब ही से अपना प्रेम प्रदर्शित करने के इस तरह का सिलसिला चल पड़ा। राज आज्ञा के अवेहलना के लिए उन्हें फरवरी 14 को मौत की सजा दी गयी।

शहीद पुजारी सतं वेलेंटाइन ने विवाह प्रथा और प्रेम को जारी रखने के लिए अपना जीवन का बलिदान दिया। उनकी याद में शहादत दिवस को valentine day के रूप में मनाया जाने लगा।

Also Read : लौरा वार्ड ओंगले success story


आपको यह लेख वेलेंटाइन डे का सच – True Story of Valentine Day in Hindi  कैसा लगा, कृप्या कमेंट बाक्स पर साझा करें। अगर आपके पास विषय से जुडी और कोई जानकारी है तो हमे kadamtaal@gmail.com पर मेल कर सकते है |

आपके पास यदि Hindi में कोई motivational article, story, essay है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Email Id है: kadamtaal@gmail.com. हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ प्रकाशित करेंगे.

Random Posts

4 thoughts on “वेलेंटाइन डे का सच

  1. Hi this is very good story and I am send to this story my girl friend to inspired .After this she is like me most .I wish you keep writing continue

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*