प्यार की डोर

प्यार की डोर – Thread of Love (Heart-touching Inspirational story)

thread love

कड़ी ठंडी रात थी। एक बूढी औरत (old lady) की गाडी सड़क में पैंचर हो गयी। उसके पास स्टेपनी तो थी पर वह बदल नही सकती थी। गाड़ियाँ आ-जा रही थी लेकिन पिछले एक घंटे से उसकी मदद के लिए कोई आगे नहीं आया।

गुजरते हुए एक आदमी ने उसको सड़क के किनारे गाड़ी के सामने इतनी ठंड में खड़े हुए देखा। उसे लगा कि महिला को मदद की आवश्यकता है।

उसने पूछा-‘मैं कुछ मदद कर सकता हूँ।

महिला को यह आदमी ठीक नहीं लग रहा था। “यह गरीब और भूखा लग रहा है। क्या वह उसे नुकसान पहुंचाना चाह रहा है?”

उस आदमी के चेहरे में मुस्कुराहट थी, पर महिला का चिन्ता और घबराहट से बुरा हाल था।

वह जान रहा था कि महिला उससे डरी हुई है, और इसलिए इतनी कड़ी ठंड में भी कार से बाहर खडी है।

घबराइये नहीं! कृप्या आप कार में बैठ जाइए। मैं टायर बदलने का प्रयास करता हूँ। वैसे मेरा नाम अनिकेत है।’

अनिकेत ने कार के अंदर से जैक को निकाला। वह गाड़ी के नीचे लेट कर गया और सही तरह से जैक लगा दिया। कुछ ही देर में उसने टायर बदल दिया। इस कार्य में उसके कपड़े गंदे हो गये और कई जगह खंरोचें भी आ गयी।

महिला ने उससे घबरा-घबरा कर पैसों के लिए पूछा। महिला के मन में अभी भी अनहोनी के विचार चल रहे थे। अनिकेत इस कार्य के लिए कोई पैसा तो लेना ही नहीं चाहता था। यह उसका काम थोड़े ही था बस वह तो जरूरतमंद की मुसीबत में मदद कर रहा था और अभी तक की जिन्दगी में वह इसी तरह से करता आ रहा था। उसका मानना था कि भगवान ने ही उसे महिला की मदद के लिए भेजा है।

महिला (old lady) की जिद्द करने पर उसने कहा कि यदि वह उसे कुछ देना ही चाहती है तो यह वायदा (promise) करें कि भविष्य (future) में यदि किसी व्यक्ति को सहायता की आवश्यकता हो तो उसकी मदद अवश्य करे और इस प्यार की डोर (thread of love) को टूटने न दें।

महिला (old lady) अपनी कार स्टार्ट करके जब तक चली नहीं गयी, वह वहीं खड़ा रहा। आज का पूरा दिन बहुत निराशाजनक था, उसे कोई काम भी नहीं मिला था। वह भारी कदमों से घर की तरफ बढे चले जा रहा था।

कुछ मील दूर जाने के बाद महिला को सड़क किनारे एक ढाबा दिखा। आगे की यात्रा जारी रखने से पहले कुछ खाने-पीने और आराम के लिए वह ढाबे में रूक गयी। यह ढाबा कुछ गंदा और अजीब सा था। इस प्रकार की जगह उस अमीर महिला ने पहली बार देखी था। खैर, वेट्रेस आयी और उसने गीले बालों को सौखने के लिए एक साफ तौलिया दिया। वह अपने चेहरे में एक मधुर मुस्कान लिये हुए थी, जिससे की समाने वाले की पूरी दिन की थकावट मिट गयी। महिला ने ध्यान दिया कि वेट्रेस लगभग आठ महीने की गर्भवती है, पर उसके व्यवहार में कोई तनाव या सिकन नही थी। बूढी औरत को उसके रवैया पर बड़़ा आश्चर्य हुआ कि कैसे एक गरीब महिला अपने परेशानी पर भी अजनबी को कितनी अच्छी सेवायें दे रही है। उसके मन में अनिकेत वाली घटना घूमने लगी थी।

खाना खाने के बाद बूढी महिला (old lady) ने बिल के भुगतान के लिए दो हजार का नोट दिया। वेट्रेस जैसे ही नोट बदलने के लिए काउंटर में गयी तब तक बूढी औरत दरवाजे से बाहर ओझल हो गयी। कुछ देर वेट्रेस ने महिला का इंतजार किया उसे आश्चर्य हो रहा था कि वह अचानक कहां चली गयी। उसकी नजर नेपकीन पर लिखे गये कुछ शब्दों पर पड़ी।

बूढी औरत (old lady) ने जो लिखा था उसे पढ़कर उसकी आंखों में आंसू आ गये। उसमें लिखा था-“तुम्हें पैसे वापिस करने की आवश्यकता नहीं है। यही कुछ मेरे साथ भी हुआ है। किसी ने बाहर मेरी मदद (help) की थी, बस उसी तरह मैं भी तुम्हारी मदद (help) कर रही हूँ। यदि तुम मेरे पैसे वापिस करना ही चाहती हो तो बस इस प्यार की डोर (thread of love) को कभी टूटने मत देना। आगे जरूरतमंद (needy) की मदद अवश्य करना।” नेपकीन के नीचे 2 हजार के चार नोट ओर रखे हुए थे।

उस रात वह घर आते समय पैसे और उस महिला के बारे में ही सोच रही थी। आखिर उस बूढी औरत को यह कैसे पता चला कि उसे और उसके पति को पैसे कि कितनी आवश्यकता है! अगले महीने बच्चे का जन्म होने वाला था…. पैसे की वैसे ही काफी किल्लत (problems) चल रही थी। वह जानती थी कि उसके पति कितने परेशान चल रहे हैं उनके पास कोई रोजगार की व्यवस्था नहीं हो पा रही है। वह पति के बगल में लेटी और प्यार से उनको थपकी दी और कहा- सब कुछ ठीक हो जायेगा। मैं तुमसे बहुत प्यार करती हूँ। अनिकेत

 पूरी लिस्टः Inspirational stories in Hindi


आपको यह story प्यार की डोर – Thread of Love (Heart-touching Inspirational story)  कैसी लगी, कृप्या कमेंट बाक्स पर साझा करें।

आपके पास यदि  Hindi में कोई article, motivational & inspirational story, essay  है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ kadamtaal@gmail.com पर E-mail करें. हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ प्रकाशित करेंगे|

Random Posts

  • kadamtaal डर (Fear)

    Essay on डर (Fear) in Hindi डर (fear) एक ऐसी प्रक्रिया है जो कि मनुष्य के मस्तिष्क में बचपन से हावी रहती है। बचपन में शिशुकाल से ही, किसी आहट […]

  • modern education system आधुनिक/वर्तमान शिक्षा पद्धति में भाषा और आचरण

    आधुनिक/वर्तमान शिक्षा पद्धति में भाषा और आचरण Essay on Language and behavior in the modern education system in Hindi आधुनिक / वर्तमान शिक्षा (modern education system) का उद्देश्य तो केवल ऐसी […]

  • sune pahad सूने पहाड़-मेरा संस्मरण

    सूने पहाड़-मेरा संस्मरण अभी कुछ दिनों पहले ही मैं अपने ननिहाल गया। लगभग 14 साल बाद। नानी की मृत्यु के बाद बस जाना ही नहीं हुआ। मेरी माताजी सिर्फ दो […]

  • muslim youth save cow मुस्लिम युवक की युक्ति से गाय की प्राण-रक्षा

    मुस्लिम युवक की युक्ति से गाय की प्राण-रक्षा Muslim youth save cow in Hindi मुसलमान युवक (muslim youth) और गाय (cow) के प्रति उसकी दया की यह सच्ची घटना जुलाई सन् […]

2 thoughts on “प्यार की डोर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*