हीरो अलोम – इच्छाशक्ति की जीत

Hero Alom | इच्छाशक्ति की जीत

हम अपने आसपास कई बार बहुत ही साधारण व्यक्तित्व, आर्थिक रूप से कमजोर, पारिवारिक परेशानी से जूझने वाले और अल्प शिक्षा प्राप्त लोगों को देखते हैं जो कि विपरीत परिस्थितयों के बावजूद अपनी मेहनत, दृढ इच्छाशक्ति से सफलता का मुकाम हासिल करके सबको अचंभित करते है। ऐसे लोग हम सब के लिए प्रेरणा के स्त्रोत होते हैं।

यहां हम बात कर रहे हैं अलोम (Alom) के बारे में जिसका पूरा नाम अशरफुल आलोम सईद है। अलोम (Alom) का जन्म गांव इरुलिया (डिस्ट्रिक्ट बोगरा), बांग्लादेश के एक बेहद गरीब परिवार में हुआ। उनके पिता चनाचूर (चने से बनी डिश) बेचकर गुजारा करते थे। अलोम (Alom) जब 10 साल के थे तो उनके पिता ने उन्हें और उनकी मां को छोड़ दूसरी शादी कर ली।

अब उनके परिवार में आय का संकट शुरू हो गया। गुजारे के लिए अलोम ने चानाचूर बेचने का कार्य शुरू कर दिया जिस कारण से वे अपनी शिक्षा पर ध्यान नहीं दे पाये रहे थे, इसकी वजह से वो सातवीं कक्षा में फेल हो गए।

उनके घर के पास एक छोटी सा वीडियो की दुकान थी। दिन भर चनाचूर बेचने के बाद वह वीडियो की दुकान में आकर बैठ जाते थे। यहीं से उनकी रूचि एक्टिंग की तरफ होने लगी। कुछ समय बाद जब वीडियो वाले ने दुकान बेचने का फैसला किया, अलोम ने किस्तों दुकान खरीदने के लिए मालिक को राजी कर लिया। अतः अब 15 वर्ष की अल्पआयु में वह दो-दो काम कर रहा था। उसकी पढ़ाई भी छूट चुकी थी। वह दिन भर चनाचूर बेचने के बाद शाम को वीडियो की दुकान में बैठने लगा।

hero alom

यहीं पर अब्दुल रज्जाक नामक व्यक्ति जो कि उसकी दुकान का स्थायी ग्राहक था, उससे बहुत प्रभावित हुआ और बाद में उसने अलोम को पुत्र के रूप में अपना लिया।

सीडी का बिजनेस नहीं चला रहा था तो अलोम (Alom) ने केबल नेटवर्क का काम भी शुरू कर दिया। अलोम ने अपने गांव से ही इसकी शुरुआत की। सीडी और केबल के बिजनेस से अलोम की महीने की आय महज 70-80 रुपए हो पाती थी।

अलोम (Hero Alom) के मन में माॅडल बनने का सपना हिलारे ले ही रहा था। वह समझ नहीं पा रहे थे कि सीडी बेचने वाला शख्स आखिर मॉडल कैसे बनेगा। वह जानते थे कि उनका न कोई खास रंगरूप है, न शरीर ही एैसा है। लोगों ने भी उनको इस काम के लिए मना किया। यह कमियां भी उसकी इच्छाशक्ति के आगे बोनी सिद्ध हो रही थी। 2008 में, अलोम ने अपना पहली संगीत वीडियो बनाया और उसे अपने केबल टीवी नेटवर्क में प्रसारित किया। वह स्क्रिप्ट, संगीत आदि सबको खुद ही देखते थे। विडियो बनाने का सारा खर्चा भी उसने खुद ही वहन किया। लोग को उसका संगीत वीडियो पसंद आया।

सन् 2009 में अलोम (Hero Alom) का विवाह नजदीक के गांव में रहने वाली लड़की सूमी अख्तर के साथ हो गया। उनके दो बच्चे बेटा अबीर और बेटी अलो हैं।

हाल ही में, किसी ने अलोम का वीडियो यूट्यूब पर अपलोड कर दिए और उनका यह वीडियो वायरल हो गया। फिर क्या देखते ही देखते अलोम की लोकप्रियता अब आसमान में थी। वे बांग्लादेश में पॉपुलर होने लगे। दिसंबर, 2016 तक उनके यूट्यूब चैनल को 3.66 मिलियन (करीब 37 लाख) व्यू मिल चुके हैं।

अलोम (Hero Alom) के 500 से ज्यादा म्यूजिक वीडियो आ चुके हैं। वो रैप सॉन्ग भी गा चुके हैं। फिलहाल अलोम केबल टीवी बिजनेस में भी एक्टिव हैं। बांग्लादेश में सोकल-सोंधा केबल नेटवर्क के नाम से उनका बिजनेस है।

यूट्यूब पर उनके वीडियो को देखने के बाद, कई म्यूजिक कंपनी ने उनके संपर्क किया और उन्हें संगीत वीडियो में काम करने की पेशकश की। मिडिया रिपोर्ट के अनुसार चेनल-1 आॅनलाइन नें अलोम को एक लघु फिल्म, दो टीवी नाटकों और टीवी विज्ञापनों में काम करने के ऑफर दिये। यहां तक कि उन्हें विदेशों में भी काम करने का अवसर मिलने लगे है। उन्हें संयुक्त राज्य अमेरिका, सिंगापुर में काम करने का प्रस्ताव मिला है।

hero alom

वह अब बांग्लादेश में काफी फेमस हैं। इतना ही नहीं इन्हें वहां का सुपरस्टार भी कहा जाता है। अलोम की पॉपुलैरिटी का आलम ये है कि उनके फॉलोअर्स ने फेसबुक पर कई फैन पेज बना रखे हैं। बांग्लादेशी क्रिकेटर्स भी अलोम के फैन है। बांग्लादेश क्रिकेट टीम के प्लेयर तस्कीन अहमद के मुताबिक, अलोम हमारे फेवरेट हीरो हैं। वहीं टीम के एक और प्लेयर मुश्तफिकुर रहीम कहते हैं- अलोम हमारे एकमात्र हीरो हैं।

अलोम (Hero Alom) के मुताबिक, उन्होंने गांव में रहते हुए ही कमाना-खाना सीखा। इसलिए गांव के प्रति उनका बेहद लगाव है। वह 2011 और 2016 में उन्होंने अपने क्षेत्र से अध्यक्ष के पद के लिए चुनाव में भाग गया, लेकिन दोनों बार असफल रहा। वह अब भी आशावान हैं और फिर चुनाव लड़ना चाहते हैं।

अलोम एक अच्छे दिल के इन्सान हैं। एक साक्षात्कार में उन्होंने कहा था कि कई लोग उनके देखकर हंसी उड़ाते थे और कहते थे कि उसमें न एक हीरो जैसी पर्सनेलिटी है और न ही रूप रंग। महिला कलाकार भी उनकी व्यक्तित्व देखकर उनके साथ काम करने से मना कर देती थी। अतः उन्हें राजी करने के लिए उन्हें अधिक पैसे देने पड़ते थे। लेकिन उन्होंने इसको कभी दिल पर नहीं लिया। उनका ध्यान हमेशा अपने मकसद की तरफ रहा। उसके पास अब फिल्मों, टीवी नाटकों में काम करने के प्रस्तावों की ढेरों प्रस्ताव है। उनकी भविष्य की योजना में गरीबो-बुर्जुगों के लिए आश्रय स्थल का निर्माण करना है। वे हमेशा की तरह आज भी विनम्र बने हुए हैं।

पूरी लिस्टः Great personality महान व्यक्तित्व


आपको यह जीवनी हीरो अलोम – इच्छाशक्ति की जीत Hero Alom in Hindi  कैसी लगी, कृप्या कमेंट बाक्स पर साझा करें।

आपके पास यदि Hindi में कोई article, story, essayहै जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ kadamtaal@gmail.com पर E-mail करें. हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ प्रकाशित करेंगे|

Random Posts

  • hanuman ji ka ghamand हनुमान जी का घमण्ड चकनाचूर

    हनुमान जी का घमण्ड चकनाचूर, short story on Hanuman Ji Ka Ghamand Chaknachur in Hindi यह वाकया उस समय का है जब लंका तक जाने के लिए समुद्र पर सेतु बांधने […]

  • hanuman shanidev fight हनुमान जी द्वारा शनिदेव को दण्ड

    हनुमान जी द्वारा शनिदेव को दण्ड, short story of Hanuman Shanidev Fight and why we devote oil to Shanidev in Hindi एक बार की बात है। शाम होने को थी। […]

  • raja raghu राजा रघु और कौत्स

    राजा रघु और कौत्स Story of Raja Raghu and Kautsya अयोध्या नरेश रघु (Raja Raghu) के पिता का दिलीप और माता का  नाम सुदक्षिणा था। इनके प्रताप एवं न्याय के […]

  • G N Ramachandran Our Scientist in Hindi जी.एन. रामचन्द्रन | Our Scientist in Hindi

    जी.एन. रामचन्द्रन | Our Scientist in Hindi गोपालसमुन्द्रम नारायणा रामचन्द्रन (Gopalasamudram Narayana Iyer Ramachandran popularly known as G.N. Ramachandran) उन गिनचुने India’s Great Scientists में से एक हैं जिन्होंने अपने […]

14 thoughts on “हीरो अलोम – इच्छाशक्ति की जीत

    1. धन्यवाद! आपके कमेन्ट हमें प्रोत्साहित करते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*