स्वाभिमान | Inspirational Story of Hazrat Umar

स्वाभिमान | Inspirational Story of Hazrat Umar

एक बार हज़रत उमर (Hazrat Umar) अपने नगर की गलियों से गुज़र रहे थे, तभी उन्हें एक झोपड़ी से एक महिला व बच्चों के रोने की आवाज़ सुनाई दी। वे रुके, फिर जिज्ञासावश झोपड़ी के भीतर झांक कर देखा तो पाया कि एक महिला अपने रोते हुए चार बच्चोें को चुप करा रही थी, लेकिन साथ-साथ स्वयं भी रो रही थी।

Hazrat Umar ने सोचा कि बच्चे भूख से बिलख रहे होंगे और खाना अभी तैयार नहीं हुआ होगा। उन्होंने चूल्हे पर चढ़े बर्तन की ओर इशारा कर उस महिला से कहा, तुम इसमे से थोड़ा-बहुत निकाल कर बच्चों को दे क्यों नहीं देती। सामने भोजन देखकर बच्चे आश्वस्त हो जायेंगे कि बस अब तैयार हुआ भोजन उन्हें मिलने ही वाला है।

महिला ने सुबकते हुए इशारा किया कि आप खुद ही देख लें कि बर्तन में क्या है। जब Hazrat Umar ने उसमें झांक कर देखा तो सन्न रह गए। बर्तन में कुछ न था, सिर्फ पानी खौल रहा था, जिसे दिखाकर वह महिला अपने भूखे बच्चों (hungry children) का बहला रही थी।

Hazrat Umar ने पूछा, जब तुम्हारे पास बच्चों को खिलाने को कुछ नहीं है, तो तुमने अपने शासक खलीफा के पास फरियाद क्यों नहीं की?

उस महिला नें स्वाभिमान (self respect) से उत्तर दिया, जब खलीफा ने परिवार के एकमात्र कमाने और देखभाल करने वाले मेरे पति को लड़ाई पर भेजा हुआ है तो क्या उसका कर्तव्य नहीं है कि मेरी और मेरे बच्चों की देखभाल करें, मेरी हालत का पता लगाएं। मुझे ही उनके पास क्यों जाना चाहिए।

Hazrat Umar उस महिला के स्वाभिमान (Self Respect) के प्रति नतमस्तक हो गए। उन्होंने तुरन्त शाही भंडार से राशन मंगवाकर अपने हाथों से उन भूखे बच्चों को खाना खिलाया। इसके साथ ही उन सभी लोगों के घर जिन्हें लड़ाई पर भेजा गया था, दूत भेजकर उनकी हालत का पता लगाया। उन सभी परिवारों के भरण-पोषण की व्यवस्था की और मन ही मन उस महिला को धन्यवाद दिया जिसने शासक का कर्तव्य बताकर उन्हें सही कार्य करने की प्रेरणा दी।

Also Read :

रबिया बसरी: मुस्लिम महिलाओं की रोल माॅडल

मलिक मुहम्मद जायसी : कुरूपता


आपको यह कहानी स्वाभिमान | Inspirational Story of Hazrat Umar कैसी लगी, कृप्या कमेंट बाक्स पर साझा करें।

आपके पास यदि Hindi में कोई motivational inspirational article, story, essay है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ kadamtaal@gmail.com पर E-mail करें. हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ प्रकाशित करेंगे|

Random Posts

  • lalach buri bala hai लालच बुरी बला है (Greed is the root of all evils)

    लालच बुरी बला है । Greed is the root of all evils किसी गांव में हरिदत्त नाम का एक ब्राह्मण रहता था। वह जीविका चलाने के लिए खोती करता था, […]

  • ramayana in ancient china प्राचीन चीनी साहित्य में रामायण (Ramayana in Ancient Chinese Literature)

    प्राचीन चीनी साहित्य में रामायण Ramayana in Ancient Chinese Literature in Hindi प्राचीन चीनी साहित्य में राम कथा पर आधारित कोई मौलिक रचना नहीं हैं। ये रचानाऐं चीन में बौध […]

  • onam ओणम (Onam)

    ओणम (Onam) क्यों मनाया जाता है? ओणम (Onam) केरल का एक बेहद अहम त्यौहार है। यह पूरे केरल में बहुत ही हर्षोल्लास पूर्वक मनाया जाता है। ओणम (Onam) से जुड़ी […]

  • सफलतम सीईओ दुनिया के कुछ सफलतम सीईओ की व्यापारिक सोच

    दुनिया के कुछ सफलतम सीईओ की व्यापारिक सोच Business thinking of successful top CEO / Businessman in Hindi वॉल्ट डिजनी, द वॉल्ट डिजनी कंपनी Walt Disney संस्थापक और सीईओ (1923-66) The Walt […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*