आप मेरी माता हैं

आप मेरी माता हैं | Maharaja Chhatrasal

motivational stories in hindi

छत्रसाल (Raja Chhatrasal) बड़े प्रजापालक थे। वे अपनी प्रजा की देखभाल पुत्र के समान करते थे। वे राज्य का दौरा करते और जनता से उसकी कठिनाईयाँ पूछते थे।

एक बार एक युवती महाराज की ओर आकर्षित हुई। वह उनके पास आकर बोली-‘राजन! आपके राज्य में मैं दुःखी हूँ।’

यह सुनकर छत्रसाल बड़े व्याकुल हुए। वे सोच में पड़ गये। मन-ही-मन कहने लगे-‘मेरे लगातार प्रयत्नशील रहने पर भी राज्य की जनता दुःखी रहे, यह मेरे लिए बड़े कष्ट की बात है।’

उन्होने महिला से पूछा-‘देवी! बताइये आपको क्या कष्ट है । मैं उसे दूर करने का यथाशक्ति प्रयत्न करूंगा।’

‘ऐसी आश्वासन भरी बातें सभी करते हैं, पर पूरी करने वाले बिरले ही होते हैं। पहले आप वचन दे तो मैं अपनी बात बता सकती हूँ’-युवती ने जवाब दिया।

‘हाँ! हाँ!! आप अपनी बात निःसंकोच कहिये।’ सरल हृदयी महाराज का उत्तर था।

‘मैं चाहती हूँ कि आप जैसी संतान मेरे भी हो।’ युवती का जवाब था।

महाराज यह सुनकर स्तब्ध (stunned) रह गये। फिर विवेक और संयम से काम लेते हुए उन्होंने उस नारी से चरणों में मस्तक झुकाकर निवेदन किया-

‘माँ! आप जिस पुत्र की कल्पना कर रही हैं, सम्भव है, वह मेरी तरह न हो, अतः आज से आप मुझे ही अपना पुत्र स्वीकार करें।’

नरेश का उत्तर सुनकर नारी की मोह-मुरछा जगी। उसे अपनी गलती (mistake) का बोध हो गया। राजा जीवनभर उसके प्रति राजमाता के समान respect रखते रहे।

Also Read : सभ्यता और शिष्टाचार, inspirational story of King Henry IV of France


आपको यह कहानी आप मेरी माता हैं| Maharaja Chhatrasal in Hindi  कैसी लगी, कृप्या कमेंट बाक्स पर साझा करें।

आपके पास यदि Hindi में कोई motivational article, story, essay है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ kadamtaal@gmail.com पर E-mail करें. हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ प्रकाशित करेंगे|

Random Posts

  • वाल्मीकि वाल्मीकि । डाकू से महर्षि तक का सफर

    वाल्मीकि । डाकू से महर्षि तक का सफर महर्षि वाल्मीकि का पूर्व नाम रत्नाकर था। रत्नाकर का काम राहगीरों को लूट कर धन कमाना था। रत्नाकर जिस किसी को भी लूटता, […]

  • संस्कार

    संस्कार Our Traditional Ethics in Hindi हमारे जीवन में हजारों पुराने व नये संस्कार (Traditional Ethics) होते हैं। जो बनते और समाप्त होते हैं। हर व्यक्ति के अपने-अपने संस्कार होते हैं। […]

  • hero alom हीरो अलोम – इच्छाशक्ति की जीत

    Hero Alom | इच्छाशक्ति की जीत हम अपने आसपास कई बार बहुत ही साधारण व्यक्तित्व, आर्थिक रूप से कमजोर, पारिवारिक परेशानी से जूझने वाले और अल्प शिक्षा प्राप्त लोगों को […]

  • क्लाउडियस motivational story काबिलियत तो मौका मिलने पर पता चलती है

    काबिलियत तो मौका मिलने पर पता चलती है – Motivational Hindi Story of Roman Emperor Claudius यह कहानी है रोमन सम्राट क्लाउडियस (Roman Emperor Claudius) की। वे विभिन्न शारीरिक दिक्कतों से ग्रस्त […]

2 thoughts on “आप मेरी माता हैं

  1. जय ही महाराजा छत्रशाल की में इन्ही की पावन नगरी मौसहानिया मैं रहता हूं जहा सुख की अनुभूति होती ह

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*