धोबी की ईमानदारी (Washerman’s Honesty)

धोबी की ईमानदारी (Washerman’s Honesty)

washerman

जीवन में कुछ ऐसी घटनायें अक्सर घटित होती हैं जो हमारे दिल कि गहराईयों में पेठ कर जाती हैं। यह छोटी-छोटी घटनायें हमें अनमोल पाठ पढ़ाती हैं। मैं यहां अपने साथ घटित ईमानदारी की एक सच्ची कहानी को आपके सामने ला रहा हूँ जो कि कुछ वर्षों पहले मेरे साथ घटित हुई है। 

घटना शुक्रवार 10 जुलाई 2015 की है। मैने अपनी पेंट की जेब में 5 हजार रूपये रखे थे। दूसरे दिन सुबह घर से आॅफिस जाते समय दूसरी पेंट पहन ली और जिस पेंट में रूपये थे, घर पर छोड़ दिया। उसी दिन पत्नी ने उस पैंट को धुलवाने के लिये धोबी को दे दिया। जब शाम को आॅफिस से आया और पैंट में रखे रूपये के बारे में पत्नी से पूछा तब पता चला कि वह पैंट को धोबी (washerman) के पास धुलवाने के लिए दे दिया है। यह सुनते ही मैं घबरा गया और सोचने लगा कि अब तो रूपये मिलना मुश्किल है। मैं काफी थका हुआ था लेकिन चिन्तित होने के कारण उसी समय भागा-भागा घोबी के घर पहुंच गया।

घोबी के घर में ताला लगा हुआ था। आस-पड़ोस में पता करने पर मालुम हुआ कि वे दोपहर से ही कहीं गये हुए है, पता नहीं कब तक वापिस आयेंगे। मैं निराश होकर घर की तरफ चल दिया। जब मैं सब्जी मण्डी के पास से गुजर रहा था तब ही ऐसा लगा कोई पीछे से आवाज दे रहा है। मुड़ कर देखता हूँ तो धोबी परिवार सहित मेरी तरफ ही आ रहा है।\

धोबी की पत्नी ने मेरे पूछने से पहले ही कह दिया,

‘आपके पैंट की जेब में पांच हजार रुपये मिले हैं, कल सुबह आपके घर कपड़ों के साथ पहुंचा दूंगी’

धोबी की पत्नी ने अपने वायदा अनुसार सुबह कपड़ों के साथ पांच हजार रुपये वापिस कर दिये।

मैंने उन रुपयों में से पांच सौ का नोट इनाम के तौर पर धोबी की पत्नी देने के लिए बढ़ाया। वे इन अतिरिक्त पैसों को लेने के लिए बिल्कुल तैयार नहीं हुई तथा कपड़े की धुलाई के जितने पैसे बनते थे, लेकर चली गयी।

कदमताल पर प्रकाशित कहानियों की सूची

आज के इस युग में जहां चारों तरफ बेईमानी (dishonesty) और कुछ रूपयों के लिए लड़ाई-झगड़ा होता रहता है वहां आर्थिक रूप से कमजोर (financially weak) धोबी की इस ईमानदारी (honesty) को देखकर मैं आश्चर्य में पड़ गया और यह सोचने में विवश हो गया कि आज के युग में भी ईमानदारी (honesty) मौजूद है तभी यह दुनिया चल रही है।

प्रेषक: मनोज कुमार, सिताबपुर, कोटद्वार, गढ़वाल


आपको यह real life inspirational story धोबी की ईमानदारी (Washerman’s Honesty)  कैसी लगी कृप्या कमेंट बाक्स पर साझा करें।

यदि आपके पास वास्तविक जीवन की कोई प्रेरणादायक कहानी है जो कि आपके साथ घटित हुई हो तथा जिसने आपको प्रभावित किया हो तो आप उस कहानी को हमारे साथ kadamtaal@gmail.com पर सेयर कर सकते हैं। हम उसे आपके नाम व पते के साथ प्रकाशित करेंगे।

Random Posts

  • thread love प्यार की डोर

    प्यार की डोर – Thread of Love (Heart-touching Inspirational story) कड़ी ठंडी रात थी। एक बूढी औरत (old lady) की गाडी सड़क में पैंचर हो गयी। उसके पास स्टेपनी तो […]

  • इन्द्राणी शची और नहुष का घमण्ड इन्द्राणी शची और नहुष का घमण्ड

    इन्द्राणी शची और नहुष का घमण्ड इन्द्र की पत्नी शची का जन्म दानवकुल में हुआ था। उनके पिता का नाम पुलोमा था। बचपन में शची ने भगवान शंकर को प्रसन्न […]

  • lalach buri bala hai लालच बुरी बला है (Greed is the root of all evils)

    लालच बुरी बला है । Greed is the root of all evils किसी गांव में हरिदत्त नाम का एक ब्राह्मण रहता था। वह जीविका चलाने के लिए खोती करता था, […]

  • Chinua Achebe आधुनिक अफ्रीकी साहित्य के जनक – Chinua Achebe

    आधुनिक अफ्रीकी साहित्य के जनक – चिनुआ अचेबे Father of Modern African Literature – Chinua Achebe Chinua Achebe वर्तमान काल के महानतम उपन्यासकारों में से एक हैं। उनकी कहानियों का […]

2 thoughts on “धोबी की ईमानदारी (Washerman’s Honesty)

  1. सच तो यही है की दुनिया में ईमानदार लोगों से ही ये दुनिया कायम है ..
    बहुत सुन्दर प्रेरक प्रस्तुति
    शुभ दीपावली!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*