इण्डोनेशिया में रामायण (Ramayana in Indonesia)

इण्डोनेशिया में रामायण (Ramayana in Indonesia) in Hindi

इण्डोनेशिया में भारतीय शासक ‘अजी कका’ (78 ई.) के समय में संस्कृृत भाषा तथा ‘पल्लव’ एवं ‘देवनागरी’ लिपि के प्रयोग के प्रणाम मिलते हैं। बाद में यह ‘कवि-भाषा’ के रूप में विकसित हुई। राम-कथा के आगमन की तिथि पर विवाद हो सकता है, किंतु सातवीं शताब्दी के प्रम्बनान के शिव-मन्दिर पर शिलोत्कीर्ण राम-कथा मिलती है, जिस पर शैव-मन्दिर पर शिलोत्कीर्ण राम-कथा मिलती है, जिस पर शैव एवं बौध शिल्प-शैलियों का प्रभाव है।

इसके उपरान्त 14वीं शताब्दी में जावा के पनातरान नामक स्थान पर निर्मित शिव-मन्दिर में भी राम-कथा मिलती है। यह राम-कथा भित्ति पर लम्ब रेखाओं में उत्कीर्ण फूल-पत्तियों की बेल से सज्जित बेड शैली में 106 दृश्यों में सम्पन्न हुई है। इन दोनों के अलावा पूर्व जावा में जलतुण्डों के अवशेषों में 10वीं शतब्दी के उत्तरार्द्ध के भित्ति-चित्र उपलब्ध हैं।

बालि में भी भित्ति-चित्रों तथा आधुनिक वास्तुकला में सीता की अग्नि-परीक्षा आदि महत्वपूर्ण दृश्यों
का अंकन होता रहा है। Indonesia में अभिलेख एवं साहित्य के रूप में राम-कथा प्राप्त होRamayana Indonesiaती है। 8वीं शताब्दी के राजा संजय के अभिलेख में राम-कथा का उल्लेख हुआ है। 9वीं शताब्दी तक मध्य जावा में रावण, लंका, पवन, अयुद्धा, भरत, राम, लाघव, सीता, बालि, लक्ष्मण इत्यादि नाम प्रचलित हो चुके थे, जिसका विस्तृृत विवेचन एच.बी. सरकार ने ‘इण्डियन इन्फ्तुएन्सेज आन दि लिटिरेचर आॅफ जावा एण्ड बालि’ में किया है। छठी शताब्दी में मध्य जावा का एक भाग ‘लंग्गा’ कहलाता है। इसी प्रकार राजा बलितुंड के एक अभिलेख में किसी प्राचीन जावा राम-कथा के पाठ की चर्चा आयी है।

प्राचीन जावा-रामायण (Java Ramayana) या प्राचीन ककविन-रामायण Indonesia की सर्वाधिक प्राचीन एवं विशालकाय रचना है, जिसके रचनाकार के रूप में योगश्वर कवि का प्रमाण मिलता है। इस रामायण में 26 सर्ग हैं, जिसमें 2771 श्लोक हैं। इसकी तुलना संस्कृत के भट्टिकाव्य से की जाती हैं, क्योंकि दोनों के कुछ सर्गों में साम्य मिलता है। इसके अतिरिक्त बालि के संस्कृत-साहित्य में भी कई ग्रन्थ हैं, जिसमें राम-कथा मिलती है।

इण्डोनेशिया में आज भी नृृत्य एवं अभिनय के माध्यम से राम-कथा प्रस्तुत की जाती है। राष्ट्रपति सुकर्णो के समय में पाकिस्तान का एक प्रतिनिधिमंडल इंडोनेशिया की यात्रा पर था। उस दौरान प्रतिनिधिमंडल को वहाँ रामलीला देखने का मौका मिला और वह इस बात से हैरान था कि एक मुस्लिम देश में रामलीला का मंचन क्यों किया जाता है। इस बारे में जब उन्होंने राष्ट्रपति से सवाल किया तो उन्होंने तपाक से जवाब दिया,

हमने अपना धर्म बदला है, अपनी संस्कृति नहीं।

Go back to: विदेशों में राम-कथा Story of Ram in the World in Hindi


आपको यह लेख इण्डोनेशिया में रामायण Ramayana in Indonesia in Hindi कैसा लगा, कृप्या कमेंट बाक्स पर साझा करें। अगर आपके पास विषय से जुडी और कोई जानकारी है तो हमे kadamtaal@gmail.com पर मेल कर सकते है |

आपके पास यदि Hindi में कोई motivational inspirational article, story, essay है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Email Id है: kadamtaal@gmail.com. हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ प्रकाशित करेंगे.

Random Posts

  • k r ramanathan हमारे वैज्ञानिकः के.आर. रामनाथन (K.R. Ramanathan)

    हमारे वैज्ञानिकः के.आर. रामनाथन Our Scientist K.R. Ramanathan in Hindi प्रोफेसर कलपथी रामकृष्ण रामनाथन (Kalpathi Ramakrishna Ramanathan) का जन्म कलपथी गांव, जिला पालघाट, केरल में 28 फरवरी 1893 में हुआ था। […]

  • failure quotes hindi असफलता पर अनमोल विचार

    असफलता पर अनमोल विचार Failure Quotes in Hindi  हर व्यक्ति को खुले दिल से विफलता  (failure)को स्वीकार करना चाहिए। हम विफलता से ही सीखते हैं। दुनिया के सफलतम लोगों को […]

  • Prerak Bal Kahani बालक का संकल्प – Prerak Bal Kahani

    बालक का संकल्प – Prerak Bal Kahani वह अत्यन्त वैभवशाली घर, कहिए कि पूरा राजमहल ही था। सुख-सुविधाओं के जितने साधन हो सकते हैं, सब थे। उस भवन का स्वामी […]

  • सदन कसाई 1 ईश्वर भक्त सदन कसाई

    ईश्वर भक्त सदन कसाई प्राचीन काल में सदन कसाई ईश्वर के परम भक्त थे। जाति के कसाई होने के वावजूद उनके हृदय में हमेशा दया का संचार रहता था। जातिगत […]

One thought on “इण्डोनेशिया में रामायण (Ramayana in Indonesia)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*