मुस्लिम युवक की युक्ति से गाय की प्राण-रक्षा

मुस्लिम युवक की युक्ति से गाय की प्राण-रक्षा
Muslim youth save cow in Hindi

Muslim youth save the life of cow in Hindi

मुसलमान युवक (muslim youth) और गाय (cow) के प्रति उसकी दया की यह सच्ची घटना जुलाई सन् 2015 के अन्तिम सप्ताह की है, मैं अपने पति के साथ कुछ आवश्यक खरीदारी के लिये बाजार निकली। मुहल्ले की गली से होकर हम गुजर रहे थे। एक नाले के पुल के पास कुछ लोगों को इकट्ठा देखकर हमें भी कोतूहल हुआ। वहां पहुंचकर हम ठिठक गये। मेरी तो सांस ही रुक-सी गई। हमने देखा कि एक गाय (cow) नाले के पुल के पास बिजली के नंगे तारों के बीच फंसकर जीवन के लिए संघर्ष कर रही थी। ऐसा लग रहा था कि उसके प्राण अब निकले तब निकले।

उपस्थित लोग करंट फैले होने के कारण पास जाने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे थे। मैं सजल नेत्रों एवं भरे हृदय से उन गोमाता की प्राणरक्षा के लिए निमित्त प्राणदाता प्रभु से प्रार्थना करने लगी।

भीड़ धीरे-धीरे बढ़ती जा रही थी। अपनी-अपनी बुद्धि के अनुसार लोग तरह-तरह के उपाय सोच रहे थे। उधर गाय पल-प्रतिपल सुस्त पड़ती जा रही थी।

अचानक भीड़ में से एक युवक चिल्लाया कि आप लोग तनिक ठहरिये, मैं रस्सा लेकर आता हूँ। इतना कहकर वह भागता हुआ गया और एक मोटा रस्सा और लकड़ी का फट्टा लेकर उपस्थित हुआ। गाय (cow) के सम्मुख कुछ इंटे फैंकी गयी। उन इंटों के ऊपर उस फट्टे को रखा गया। उस युवक ने अपनी जान की प्रवाह न करके फट्टों पर से चलकर गाय के सम्मुख पहुंचा। उसने जुगत लगाकर गाय के एक पांव पर रस्सी बांध दी। फिर उपस्थित लोगों ने मिलकर उस रस्सी से गाय को खींच कर करंट के क्षेत्र से बाहर निकाल लिया।

कुछ ही देर में गाय धीरे-धीरे उठकर चलने लगी। हम सबकी जान-मे-जान आयी। उपस्थित लोगों की बातों से पता चला कि यह मुस्लिम युवक (muslim youth)  है। गाय को सर्वप्रथम उसी ने देखा, लोगों का इकट्ठा किया और अन्ततः उसी की युक्ति से गाय की प्राणरक्षा भी सम्भव हो सकी। धन्य है प्रभु की कृपा। धन्य है वह मुस्लिम युवक (muslim youth) और धन्य है उसकी मानवता (humanity)।

वह अपने इस सद्कर्म करने के बाद वहां से चला गया जैसे कि कुछ हुआ ही न हो। वहां उपस्थित सभी लोग उसकी खुले दिल से तारीफ कर रहे थे जिसने अपनी जान को जौखिम में डालकर गाय की प्राण रक्षा की। आजकल के आम परिपेक्ष में cow and Islam को लेकर भी वहां उपस्थित लोग कभी देर तक चर्चा करते रहे।

प्रेषक: सुषमा, गाजियाबाद

कदमताल पर प्रकाशित कहानियों की सूची


आपको यह real life inspirational story मुस्लिम युवक की युक्ति से गाय की प्राण-रक्षा (Muslim youth cow in Hindi) कैसी लगी कृप्या कमेंट बाक्स पर साझा करें।

यदि आपके पास वास्तविक जीवन से जुड़ी कोई प्रेरणादायक कहानी है जो कि आपके साथ घटित हुई हो तथा जिसने आपको प्रभावित किया हो तो आप उस कहानी को हमारे साथ kadamtaal@gmail.com पर सेयर कर सकते हैं। हम उसे आपके नाम व पते के साथ प्रकाशित करेंगे।

Random Posts

  • rabia basri in hindi रबिया बसरी: मुस्लिम महिलाओं की रोल माॅडल

    रबिया बसरी: मुस्लिम महिलाओं की रोल माॅडल Rabia Basri : A Role Model For Muslim Women in Hindi रबिया अधिकतर मुस्लिम महिलाओं के लिए एक रोल माॅडल हैं। वह दुनिया […]

  • अनजाने पाप

    अनजाने पाप कपिल वर्मा धीरे-धीरे सड़क पार कर रहे थे, चारों तरफ इतनी भीड़ थी कि सड़क पार करना कठिन था आज वर्मा जी को बहुत समय बाद इस क्षेत्र […]

  • Henry IV France सभ्यता और शिष्टाचार

    सभ्यता और शिष्टाचार, a very short inspirational story of King Henry IV of France एक बार फ्रांस के राजा हेनरी चतुर्थ (13 December 1553 – 14 May 1610) अपने अंगरक्षक के साथ […]

  • maharshi dadhichi महर्षि दधीचि का त्याग

    महर्षि दधीचि का त्याग Story of Maharishi Dadhichi in Hindi आजकल आये दिन हमारे कोई-न-कोई सैनिक सीमा पर दुश्मन की गोली से शहीद हो रहे हैं। वे राष्ट्र की रक्षा […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*