संकटमोचक मैकेनिक

संकटमोचक मैकेनिक (Unforgettable Help of Mechanic) 

mechanic bus

सन् 2000 में उत्तरकाशी से गंगोत्री वापिस आते समय, बस खराब हो गई थी। ड्राईवर (driver) ने काफी प्रयास किया परन्तु बस स्ट्रार्ट नहीं हो पाई। अंधेरा होने वाला था, आस-पास कोई बस का mechanic भी नहीं मिल पाया। जो लोग मिलें उन्होंने कहा कि रात को यहाँ रूकना खतरनाक है। यह सुनते ही बस की महिला यात्री रोने लग गई। जब कोई बात नहीं बनी तब सभी से हनुमान चालीसा का पाठ करने को कहा गया। यात्री पाठ करने लगे और हमने एक दो यात्रियों के साथ आती-जाती बसों को रोकने का प्रयास शुरू किया परन्तु बसें नहीं रूकी।

काफी देर बार एक बस को रोकने में हम कामयाब हो गए। हमने ड्राईवर को बताया कि आस-पास कोई bus mechanic मिल जाये तो हमारा काम बन जाएगा। कृपया करके एक व्यक्ति को वहाँ तक छोड़ दें।

उस बस में बैठे हुए एक व्यक्ति ने पूछा कि बस में क्या खराबी है। मैं देख लेता हूँ। और वह व्यक्ति अपना थैला लेकर उतर गया। वह बस अपने गन्तव्य को चली गई। उसने देख कर बताया कि बस (bus) का एक छोटा सा पुर्जा खराब हो गया है वह नया लगाना पड़ेगा। अब वह पुर्जा रात में पहाड़ों में कहाँ मिलेगा। इस पर उस व्यक्ति ने कहा कि शायद मेरे थैले में एक पुर्जा है लगा कर देख लेते हैं और उस आदमी का प्रयास सफल हो गया। गाड़ी स्ट्रार्ट हो गई। सभी ने हनुमान जी की जय-जयकार की।

Mechanic से मेहनत एवं सामान की राशि चुकाने की बात आई तो उसने पैसे लेने से मना कर दिया। उसने कहा कि हनुमान जी भगवान की पूजा की जा रही थी इससे अधिक में क्या लूँ, मुझे रास्ते में मेरे गाँव के पास छोड़ देना। वह रास्ते में अंधेरे में उतर गए और औझल हो गए। वास्तव में संकटमोचक ही मैकेनिक के रूप में आये थे। उस संकट की विकट घड़ी में हमें जिस तरीके से बचाया है।

प्रेषक: दलीप कुमार, द्वारका, दिल्ली

कदमताल पर प्रकाशित कहानियों की सूची


आपको यह real life inspirational story संकटमोचक मैकेनिक (Unforgettable Help of Mechanic)   कैसी लगी कृप्या कमेंट बाक्स पर साझा करें।

यदि आपके पास वास्तविक जीवन से जुड़ी कोई प्रेरणादायक कहानी है जो कि आपके साथ घटित हुई हो तथा जिसने आपको प्रभावित किया हो तो आप उस कहानी को हमारे साथ kadamtaal@gmail.com पर सेयर कर सकते हैं। हम उसे आपके नाम व पते के साथ प्रकाशित करेंगे।

Random Posts

  • arjun राजकुमार सुधन्वा और अर्जुन (Sudhanva and Arjun War)

    राजकुमार सुधन्वा और अर्जुन Story of war between Rajkumar Sudhanva and Arjun in Hindi राजकुमार सुधन्वा (Sudhanva) चम्पकपुर के नरेश हंसध्वज का छोटा पुत्र था। वह जितना महान शूरवीर था, उतना ही महान […]

  • क्लाउडियस motivational story काबिलियत तो मौका मिलने पर पता चलती है

    काबिलियत तो मौका मिलने पर पता चलती है – Motivational Hindi Story of Roman Emperor Claudius यह कहानी है रोमन सम्राट क्लाउडियस (Roman Emperor Claudius) की। वे विभिन्न शारीरिक दिक्कतों से ग्रस्त […]

  • S.R. Ranganathan एस आर रंगनाथन | Father of Library Science

    S. R. Ranganathan | Father of Library Science शियाली राममृत रंगनाथन (S R Ranganathan) का जन्म 9 अगस्त 1892 को मद्रास राज्य के तंजूर जिले के शियाली नामक क्षेत्र में […]

  • रानी पद्मिनी (पद्मावती) – राजपूताना का गौरव

    रानी पद्मिनी (पद्मावती) – राजपूताना का गौरव सन् 1275 ई. में चित्तौड़ के राजसिंहासन पर राणा लक्ष्मणसिंह आसीन था, उसकी अवस्था उस समय केवल बारह साल की थी। राज्य की […]

One thought on “संकटमोचक मैकेनिक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*