प्रेरणादायक

failure success

हार के बाद जीत है Failure to Success

हार के बाद जीत है Failure to Success Motivational Stories in Hindi Motivational stories of Great Personalities: जीवन में सफलता मिलती है सकारात्मक सोच और लगातार प्रयास से। जब भी हम-आपको निराशा घेरती है, भविष्य अनिश्चित-सा लगता है, उस समय अपने कार्यक्षेत्र में उन लोगों का जीवन अनुभव, जिन्होंने कड़े संघर्ष के बाद सफलता का स्वाद चखा, हमारे सामने उस […]

10 comments
short moral story

बालक का गुस्सा

बालक का गुस्सा (Balak Ka Gussa short moral story in Hindi) एक समय की बात है एक छोटा बच्चा (small child) जो बहुत प्रतिभाशाली, तेज दिमाग और रचनात्मक था, उसमें एक बहुत बड़ी कमी थी। वह आत्मकेन्द्रित और बहुत गुस्से (angry) वाला था। जब उसे गुस्सा (anger) आता तो वह किसी की परवाह नहीं करता तथा उल्टा-सीधा (abusive language) बोल […]

2 comments
thread love

प्यार की डोर

प्यार की डोर – Thread of Love (Heart-touching Inspirational story of old lady) कड़ी ठंडी रात थी। एक बूढी औरत (old lady) की गाडी सड़क में पैंचर हो गयी। उसके पास स्टेपनी तो थी पर वह बदल नही सकती थी। गाड़ियाँ आ-जा रही थी लेकिन पिछले एक घंटे से उसकी मदद के लिए कोई आगे नहीं आया। गुजरते हुए एक […]

1 comment
बिस्कुट चोर short story hindi

बिस्कुट चोर Short story in Hindi

बिस्कुट चोर Short story in Hindi with moral एक महिला रात को बस अड्डे में अपने गाड़ी का इंतजार कर रही थी। उसकी गाड़ी आने में अभी घंटे से भी ज्यादा समय बाकी था। अपना समय बिताने के लिए उसने स्टाल से किताब और बिस्कुट का एक पैकेट खरीदा और एक खाली सीट देखकर वहां बैठ गई। जब वह किताब पढ़ने मे […]

6 comments
जीवन

जीवन एक प्रतिध्वनि है

जीवन एक प्रतिध्वनि है – A short moral story दोस्तों, ईश्वर ने हमे प्रकृति का सबसे सुंदर उपहार अर्थात मनुष्य बनाकर भेजा है क्योंकि केवल एक मनुष्य ही है जो अपने विवेक से सही या गलत का निर्णय कर सकता है। इसलिए हमें वो कार्य करने चाहिए जिससे कोई आहत न हो। एक बार की बात है एक शहर में […]

2 comments
Henry IV France

सभ्यता और शिष्टाचार

सभ्यता और शिष्टाचार (Culture and etiquette), a very short inspirational story of King Henry IV of France एक बार फ्रांस के राजा हेनरी चतुर्थ (13 December 1553 – 14 May 1610) अपने अंगरक्षक के साथ पेरिस की आम सड़क पर जा रहे थे कि एक भिखारी ने अपने सिर का हैट उतार कर उन्हें अभिवादन किया। प्रत्युत्तर में हेनरी ने भी अपना […]

3 comments
short story of birds

कलह से हानि होती है Hindi Moral Story of Two Birds

कलह से हानि होती है Hind Moral Story of Two Birds प्राचीन काल की बात है, किसी जंगल में एक व्याध रहता था। वह पक्षियों (birds) को जाल में फँसाकर अपनी आजीविका चलाता था। उसी जंगल में दो पक्षी (two birds) भी रहते थे। जो आपस में मित्र थे। सदा साथ-साथ रहते, साथ-साथ उड़ते और रात्रि में एक ही वृक्ष में […]

0 comments
injustice

अन्याय का कुफल

अन्याय का कुफल Impact of Injustice, a short inspirational story in Hindi दो व्यापारी मित्र थे। एक का नाम था धर्मबुद्धि, दूसरे का दुष्टबुद्धि। वे दोनों एक बार व्यापार करने विदेश गये और वहाँ से दो हजार अशर्फियाँ कमा लाये। अपने नगर में आकर सुरक्षा के लिये उन्हे एक वृक्ष के नीचे गाड़ दिया और केवल सौ अशर्फियों को आपस में बाँटकर […]

0 comments
kadamtal

भिखारी की ईमानदारी

भिखारी की ईमानदारी Motivational Story of Beggar’s Honesty in Hindi पिछले कुछ दिनों से हमारे दरवाजे पर एक लंगड़ा भिखारी (beggar) आने लगा था। शुरू में हम उसे कभी पैसे, कभी आटा और कभी चावल आदि दे दिया करते थे, किंतु जब उसने प्रतिदिन हमारे दरवाजे पर धरना देना शुरू कर दिया और बिना कुछ पाये वह टलने का नाम […]

0 comments
motivational story of gandhi

गांधी जी के हनुमान (Gandhi’s Hanuman)

गांधी जी के हनुमान (Gandhi’s Hanuman), short inspirational story in Hindi 1926 के पूरे सालभर गांधी जी ने साबरमती और वर्धा-आश्रम में विश्राम किया। उसके बाद वे देश भर में भ्रमण के लिए निकल पड़े जिसका मुख्य उद्देश्य था-खादी चरखा का विस्तार, अस्पृृश्यता निवारण, हिंदू मुस्लिम एकता। बात सन् 1927 के आरम्भ की है। महाराष्ट्र मे एक दिन उनसे अनुरोध किया […]

0 comments
Chittaranjan Das motivational stories in hindi

सच्चाई हर जगह चलती है

सच्चाई हर जगह चलती है, short motivational story of Chittaranjan Das देशबन्धु चित्तरंजनदास जब छोटे थे, तब उनके चाचा ने उनसे पूछा-‘तुम बड़े होकर क्या बनना चाहते हो।’ ‘मैं चाहे जो बनूं, किन्तु वकीन नहीं बनूंगा’-चित्तरंजन ने उत्तर दिया। चाचा फिर बोले-‘ऐसा क्यों, भला।’ ‘वकालत करने वालों को कदम-कदम पर झूठ बोलना पड़ता है। बेईमानों का साथ देना पड़ता है।’-चित्तरंजन […]

0 comments
motivational stories in hindi

सभ्यता की कसौटी

सभ्यता की कसौटी criteria of civilization, motivational sort story of Swami Vivekananda in Hindi स्वामी विवेकानन्द जब अमेरिका गये थे तो एक दिन वे गेरुए वस्त्र में एक सड़क से गुजर रहे थे। लोगों को उनके वस्त्र बड़े अजीब लगे। वे लोग उनके पीछे-पीछे चलने एवं हँसी-मजाक बनाने लगे। शायद उन लोगों ने सोचा होगा कि यह कोई मूर्ख है। जब […]

0 comments
motivational stories in hindi

आप मेरी माता हैं

आप मेरी माता हैं – inspirational story of Maharaja Chhatrasal महाराजा छत्रसाल (Maharaja Chhatrasal) बड़े प्रजापालक थे। वे अपनी प्रजा की देखभाल पुत्र के समान करते थे। वे राज्य का दौरा करते और जनता से उसकी कठिनाईयाँ पूछते थे। एक बार एक युवती महाराज की ओर आकर्षित हुई। वह उनके पास आकर बोली-‘राजन! आपके राज्य में मैं दुःखी हूँ।’ यह सुनकर […]

1 comment
motivational story of chanakya in Hindi

दीपक का तेल (Lamp oil)

दीपक का तेल (Lamp oil) Motivational story of Chanakya in Hindi मित्रों  चाणक्य के काल में भारत में घरों में ताला नहीं लगाया जाता था। उसी समय चीनी ह्नेनसाँग ने भारत की यात्रा की थी। उसकी यात्रा के एक प्रेरणाप्रद प्रसंग की चर्चा कुछ विद्वानों ने की है। यह प्रसंग कुछ इस प्रकार है – जब ह्नेनसाँग भारत आया, उस […]

1 comment
washerman

धोबी की ईमानदारी (Washerman’s Honesty)

धोबी की ईमानदारी (Short inspirational story on Washerman’s Honesty) घटना शुक्रवार 10 जुलाई 2015 की है। मैने अपनी पेंट की जेब में 5 हजार रूपये रखे थे। दूसरे दिन सुबह घर से आॅफिस जाते समय दूसरी पेंट पहन ली और जिस पेंट में रूपये थे, घर पर छोड़ दिया। उसी दिन पत्नी ने उस पैंट को धुलवाने के लिये धोबी […]

1 comment
kadamtal

उद्यम (Effort)

उद्यम (Effort) – Story Inspirational Story on Effort एक दिन विंध्याचल प्रदेश के राजा के दरबार में तीन व्यापारी आए और राजा से बाले, महाराज! हम रत्नों के व्यापारी हैं, व्यापार के लिए आपके राज्य में आ रहे थे कि रास्ते में डाकुओं ने हमें लूट लिया। हमारे पास भोजन लायक भी पैसा नहीं हैं, आप कुछ सहायता करें। व्यापारियों […]

0 comments
arrogancy in hindi

बहुमत का बोलबाला (Arrogant Majority)

बहुमत का बोलबाला (Arrogant Majority) in Hindi एक पेड़ पर एक उल्लू बैठा था। अचानक एक हंस भी आकर पर बैठ गया। हंस ने कहा, “उफ! कैसी गर्मी है। सूरज आज बड़े प्रचंड से चमक रहा है।” उल्लू बोला, “सूरज! यह सूरज क्या चीज है? इस वक्त गर्मी है-यह तो ठीक है पर वह तो अंधेरा बढ़ने पर हो जाती है।” […]

0 comments
kadamtal

स्वाभिमान (Self Respect)

स्वाभिमान (Self Respect) Motivational Story of Hazrat Umar in Hindi एक बार हज़रत उमर अपने नगर की गलियों से गुज़र रहे थे, तभी उन्हें एक झोपड़ी से एक महिला व बच्चों के रोने की आवाज़ सुनाई दी। वे रुके, फिर जिज्ञासवश झोपड़ी के भीतर झांक कर देखा तो पाया कि एक महिला अपने रोते हुए चार बच्चोें को चुप करा रही […]

0 comments
सच की जीत

सच की जीत

सच की जीत – Inspirational story of Sadhu in Hindi एक गाँव में एक साधु (sadhu) रहता था। उसके उत्तम आचरण के कारण गाँव के सभी लोग उसका सम्मान (respect) तथा उसकी सेवा करते थे, किंतु एक दिन स्थिति बदल गयी। सारे गाँव के लोग उस नवयुवक साधु (sadhu) पर टूट पड़े। उन्होंने कुटी में आग लगा दी, उसका सामान […]

0 comments
Railway cop honesty in hindi

रेलवे सिपाही की ईमानदारी (Railway cop honesty)

Story of Railway Cop Honesty in Hindi घटना 6 अप्रेल 2007 की है, जब मैं अपनी भतीजी के विवाह में पटना जाने के लिए जमुई रेलवे स्टेशन पर तूफान-एक्सप्रेस में बेटे के साथ सवार हुआ। बेटा सामान के साथ अन्दर था और मैं भीड़ के कारण पावदान पर ही खड़ा रह गया। रेल खुल जाने के कारण जमुई पर उतरने […]

0 comments
kadamtaal

नया जन्म (New life)

New Life – Story of Ramcharan in Hindi सुन्दर और शक्तिशाली नौजवान रामचरण को न जाने कैसे अचानक गलने वाला कुष्ठ रोक हो गया। रोग लगातार बढ़ता जा रहा था। शरीर से दुर्गन्ध फैल रही थी, वह सबके लिए अस्पृश्य-सा बन गया था। रामचरण के माता-पिता स्वर्गवासी हो चुके थे। भाई-भाभी थे, किंतु वे भी अब उससे दूरी बनाने लगे […]

1 comment
ugliness in hindi

कुरूपता (Ugliness)

Ugliness – Story of Malik Mohammad Jayasi in Hindi मलिक मुहम्मद जायसी (सन् 1475-1542 ई.) भक्तिकालीन हिन्दी-साहित्य के महाकवि थे। वे निर्गुण भक्ति की प्रेममार्गी शाखा के सूफी कवि थे। उन्होंने कई ग्रन्थों की रचना की। अवधी भाषा में लिखा हुआ उनका ‘पद्मावत’ नामक ग्रन्थ विशेष प्रसिद्ध है। उन्होंने जगत् के समस्त पदार्थों को ईश्वरीय छाया से प्रकट हुआ माना […]

0 comments
Muslim youth save the life of cow in Hindi

मुस्लिम युवक की युक्ति से गाय की प्राण-रक्षा (Muslim youth save the life of cow)

Muslim youth save the life of cow in Hindi फरवरी सन् 2002 के अन्तिम सप्ताह की घटना है, मैं अपने पतिदेव के साथ कुछ आवश्यक खरीदारी के लिये बाजार निकली। मुहल्ले की गली से होकर हम गुजर रहे थे। एक नाले के पुल के पास कुछ लोगों को इकट्ठा देखकर हमें भी कोतूहल हुआ। वहां पहुंचकर हम ठिठक गये। मेरी […]

0 comments
greed Hindi

लालच बुरी बला है (Greed is the root of all evils)

Greed is the root of all evils (Short inspirational story) किसी गांव में हरिदत्त नाम का एक ब्राह्मण रहता था। वह जीविका चलाने के लिए खोती करता था, परंतु इसमें उसे कभी लाभ नहीं होता था। एक दिन दोपहर में धूप से पीड़ित होकर वह अपने खेत के पास स्थित एक वृक्ष की छाया में विश्राम कर रहा था। सहसा उसने […]

2 comments

अनजाने पाप

कपिल वर्मा धीरे-धीरे सड़क पार कर रहे थे, चारों तरफ इतनी भीड़ थी कि सड़क पार करना कठिन था आज वर्मा जी को बहुत समय बाद इस क्षेत्रा में आना हुआ था। शौरूम में कदम रखते ही, सभी कर्मचारियों की निगाहें उनकी तरफ उठ गई। शौरूम के मालिक मोहन अपनी कुर्सी से उठकर उनके स्वागत के लिए आगे बढ़ गए। […]

0 comments

कमरों का आवंटन

श्रीनाथद्वारा की यात्रा के दौरान एक घटना का ज़िक्र करना जरूरी लग रहा है। जैसा कि हर यात्रा में गंतव्य पर पहुंच कर, भाईसाहब रमेश चन्द शर्मा जी कमरे सदस्यों को आवंटित कर देते हैं। यहाँ भी ऐसा ही किया गया। किसी ग्रुप में तीन सदस्यों को एक कमरा मिला जो उन्हें छोटा लग रहा था। किसी यात्री ने उन्हें […]

0 comments

संकटमोचक मैकेनिक

Motivational story of Motor Mechanic सन् 2000 में उत्तरकाशी से गंगोत्री वापिस आते समय, बस खराब हो गई थी। ड्राईवर ने काफी प्रयास किया परन्तु बस स्ट्रार्ट नहीं हो पाई। अंधेरा होने वाला था, आस-पास कोई बस का मैकेनिक भी नहीं मिल पाया। जो लोग मिलें उन्होंने कहा कि रात को यहाँ रूकना खतरनाक है। यह सुनते ही बस की […]

0 comments
taraju नवयुवक

पैसे का मूल्य

पैसे का मूल्य Value of Money एक नवयुवक एक दिन नौकरी की तलाश में किसी धर्मशाला में पहुँचा। वहाँ के प्रबन्धक ने कहा, तुम यहाँ पहरेदारी का काम कर लो। कौन आते हैं, कौन जाते हैं, इसका सारा ब्यौरा लिखकर रखना होगा। नवयुवक ने कहा, मालिक! मैं पढ़ा-लिखा नहीं हूँ। प्रबन्धक ने कहा, तब तो तुम हमारे काम नहीं आ सकोगे। […]

1 comment

जीवन की सार्थकता दूसरों के लिए जीने में है

एक बार एक राजा ने राजमार्ग पर एक विशाल पत्थर रखवा दिया। फिर वह छिपकर बैठ गया, यह देखने के लिए कि कोई उसे उठाता है या नहीं। मार्ग में पड़े उस पत्थर उस मार्ग से निकलने वाले, कई धनी सेठों ने, दरबारियों ने भी देखा परन्तु राजमार्ग को बाधारहित करने के लिए, किसी ने भी कुछ नहीं किया, सब […]

1 comment