• man ki shanti

    हमारी अच्छी सोच-मन की खुशी एवं मन की शान्ति

    हमारी अच्छी सोच-मन की खुशी एवं मन की शान्ति Hamari aachi soch man ki khushi man ki shanti हम अभी इस बात से अनभिज्ञ हैं कि भाग्य क्या है। हमारा luck हमारी thinking पर निर्भर करता है। बहुत महत्वपूर्ण है हमारी अन्दर चल रहे विचारों की और मन की बात। उन विचारों को समझना, गलत विचारों को रोकना है और […]

  • अनजाने पाप

    अनजाने पाप कपिल वर्मा धीरे-धीरे सड़क पार कर रहे थे, चारों तरफ इतनी भीड़ थी कि सड़क पार करना कठिन था आज वर्मा जी को बहुत समय बाद इस क्षेत्र में आना हुआ था। शौरूम में कदम रखते ही, सभी कर्मचारियों की निगाहें उनकी तरफ उठ गई। शौरूम के मालिक मोहन अपनी कुर्सी से उठकर उनके स्वागत के लिए आगे […]

  • कमरों का आवंटन

    कमरों का आवंटन (Allotment of Hotel Rooms) हम लोगों का यात्रा संगठन है जिसके रमेश चन्द शर्मा जी अध्यक्ष है। श्रीनाथद्वारा की यात्रा के दौरान एक घटना का ज़िक्र करना जरूरी लग रहा है। जैसा कि हर यात्रा में गंतव्य पर पहुंच कर, भाईसाहब रमेश चन्द शर्मा जी कमरे सदस्यों को आवंटित कर देते हैं। यहाँ भी ऐसा ही किया गया। […]

  • mechanic bus

    संकटमोचक मैकेनिक

    संकटमोचक मैकेनिक (Unforgettable Help of Mechanic)  सन् 2000 में उत्तरकाशी से गंगोत्री वापिस आते समय, बस खराब हो गई थी। ड्राईवर (driver) ने काफी प्रयास किया परन्तु बस स्ट्रार्ट नहीं हो पाई। अंधेरा होने वाला था, आस-पास कोई बस का mechanic भी नहीं मिल पाया। जो लोग मिलें उन्होंने कहा कि रात को यहाँ रूकना खतरनाक है। यह सुनते ही बस की […]

  • जीवन की सार्थकता दूसरों के लिए जीने में है

    जीवन की सार्थकता दूसरों के लिए जीने में है एक बार एक राजा ने राजमार्ग पर एक विशाल पत्थर रखवा दिया। फिर वह छिपकर बैठ गया, यह देखने के लिए कि कोई उसे उठाता है या नहीं। मार्ग में पड़े उस पत्थर उस मार्ग से निकलने वाले, कई धनी सेठों ने, दरबारियों ने भी देखा परन्तु राजमार्ग को बाधारहित करने […]

  • value of money

    पैसे का मूल्य | Value of Money

    पैसे का मूल्य | Value of Money एक नवयुवक एक दिन job की तलाश में किसी धर्मशाला में पहुँचा। वहाँ के manager ने कहा, तुम यहाँ पहरेदारी का काम कर लो। कौन आते हैं, कौन जाते हैं, इसका सारा ब्यौरा लिखकर रखना होगा। नवयुवक ने कहा, मालिक! मैं पढ़ा-लिखा नहीं हूँ। प्रबन्धक ने कहा, तब तो तुम हमारे काम नहीं आ […]