दुनिया के कुछ सफलतम सीईओ की व्यापारिक सोच

दुनिया के कुछ सफलतम सीईओ की व्यापारिक सोच Business thinking of successful top CEO in Hindi

top ceo

वॉल्ट डिजनी, द वॉल्ट डिजनी कंपनी
Walt Disney 
संस्थापक और सीईओ (1923-66) The Walt Disney Company

बार-बार गिर कर उठना – Bouncing back हर बार जब भी उन्हें लगता था कि अब तो सफलता बस सामने ही है, दुर्भाग्य से फिर निराशा ही हाथ लगती थी। हर हार से उन्होंने कोई न कोई सबक सीखा, अपने आपको सम्भाला और अधिक मजबूत होकर उभरे। उन्होंने यह साबित किया कि सच्चे व्यवसायी कभी नहीं हारते जब तक कि वह खुद न मानने लगे।

वॉल्ट डिजनी

  • जोखिम लेने से न घबरायें, भले ही आप छोटे कर्मचारी ही क्यों न हों। हमेशा कुछ नया करने की कोशिश करते रहें। इसी में सीईओ की सफलता निर्धारित है।
  • उद्यमशीलता केवल शीर्ष स्तर पर ही मौजूद नही होती – हर किसी से नया विचार लेने से न हिचकें।
  • हर प्रोजेक्ट के अंत में सहयोगियों के साथ अवश्य चर्चा करें। जो अच्छा हुआ उसे और जिस क्षेत्र में सुधार की आवश्यकता है उसका रिकार्ड रखें।

हेनरी फोर्ड, फोर्ड मोटर कंपनी
Henry Ford 
संस्थापक और अध्यक्ष (1906-19) Ford Motor Company

ग्राहकों के बारे मे सोचें – Think customers फोर्ड अपनी कारों को बेहतर बना सकते थे, या फिर बेहतरीन डिजाइन, या फिर ओर अधिक विशेषता उसमे जोड़ सकते थे। इसके बजाय उन्हें लगा कि कार को सस्ता बनाकर वह पूरी तरह से ग्राहकों के एक नए सेगमेंट तक पहुंच सकते हैं, जिसने अंततः उन्हें सफलता की ऊँचाई तक पहुंचाया।

हेनरी फोर्ड

  • कीमतों को कम करने के लिए प्रौद्योगिकी का उपयोग करें। अनावश्यक स्टॉक को सस्ते में निकाल सकते हो तो निकालें।
  • अपने आंतरिक या बाह्य ग्राहकों को जानें।
  • सुनिश्चित करें कि टीम में हर कोई, चाहे वह किसी भी पद पर क्यों न हो, ग्राहकों से समय-समय पर मिलते रहे। उनकी संवेदना को समझें तथा तुरन्त हल प्रस्तुत करें।

एंडी ग्रोव, इंटेल कार्पोरेशन
Andy Grove 
अध्यक्ष और सीईओ (1987-98) Intel Corp.

हमेशा समय के साथ कदमताल करें – Keeping up the pace अधिकतर सफल कम्पनी समय के साथ अपने उत्पादों में सुधार करती रहती हैं यदि उन्हें प्रतियोगिता में रहना है। जिस तेज गति से इंटेल काम कर रहा था, उसमे अधिकतर कर्मचारियों का नौकरी के साथ तालमेल बैठाना मुश्किल हो रहा था परन्तु ग्रोव ने परवाह नहीं की। आखिर परिणाम सबके सामने है।

एंडी ग्रोव

  • समय के साथ चलने वाले लोगों को बढ़ावा दिया और उन्हें अधिक जिम्मेदारी दी।
  • कुछ लोग निरंतर परिवर्तन के माहौल में फिट नहीं होते हैं, तो उन्हें बाहर निकालें।

सुनील मित्तल, भारती एयरटेल
Sunil Mittal 
अध्यक्ष और सीईओ Bharti Airtel

साझेदारी के माध्यम से आगे बढ़ना – Growing through partnerships मित्तल ने कई विदेशी कंपनियों के साथ भागीदारी के माध्यम से अपना साम्राज्य बढ़ाया। जबकि उनके प्रतिद्वंद्वि स्टील, होटल और विमानन आदि क्षेत्र में व्यवसाय बढ़ा रहे थे, वे मोबाइल टेलीकॉम बाजार को हासिल करने के लिए अन्य कम्पनियों के साथ साझीदारी कर रहे थे। जब टेलीकाॅम सैक्टर की विकास धीमी हो गयी तो उन्होंने खुदरा क्षेत्र में इसी साझीदारी अप्रोच के साथ कदम रखा।

सुनील मित्तल

  • साझेदारी बनायी, संयुक्त उपक्रमों के माध्यम से परस्पर लाभदायक विकास को प्रोत्साहित किया।
  • जब साझेदारी एक बाजार में अच्छी तरह से काम करने लगी तो कर्मचारियों की क्षमता को अन्य क्षेत्र में लगाया।
  • अपने मैनेजरों पर भरोसा किया और उनको अपना साझेदार बनाया।

लैरी एलिसन, ओरेकल
Larry Ellison 
सह-संस्थापक और सीईओ  oracle

प्रतियोगिता पर प्रहार – Attacking the competition विपक्ष पर जोर से प्रहार करो, ओरेकल की सफलता काफी हद तक प्रतिस्पर्धाओं  से कड़ा मुकाबला करना है।

लैरी एलिसन

  • प्रतियोगिताओं के विरुद्ध खुद को मापने की एक प्रणाली बनाई, और ग्राहक की परिप्रेक्ष्य में अपनी और प्रतियोगी की ताकत और कमजोरियों का मुआयना किया।
  • प्रतिस्पर्धात्मक युद्धक्षेत्र चुनें और जीतने पर ध्यान केंद्रित करें, भले ही लाभप्रदता संदिग्ध हो।
  • बाजार से प्रतिस्पर्धी उत्पाद को हटाने से न डरें भले ही प्रतियोगी कम्पनी को खरीदना की क्यों न पड़े।

लियो बर्नेट, लियो बर्नेट वर्ल्डवाइड
Leo Burnett
सीईओ (1935-67) Burnett Worldwide

चित्रों का उपयोग करना – Using  Pictures बर्नेट ने एक उत्पाद के चारों ओर एक छवि बनाने के वाल्टर लिप्मैन के दर्शन का पालन किया। उन्होंने कर्मचारियों को टैक्ट के बजाए दृश्य पर ध्यान केंद्रित करने के लिए प्रोत्साहित किया। उन्होंने माना की उत्पाद की पहचान चित्र से होना चाहिए, टैक्ट आधारित नहीं।

लियो बर्नेट

  • आपके उत्पाद या सेवा के हर पहलू को सुन्दर दिखना चाहिए। डिलिवरी करने वाले लोगों को बेहतर वर्दी में होना चाहिए।
  • एक बार जब आपने कम्पनी का लोगो निर्धारित कर दिया तो उसके साथ जुड़े रहें जब तक कि इसको लोगों की स्वीकृति न मिल जाये।
  • आम लोग आरेख और तस्वीर से अधिक प्रभावी ढंग से सीखते हैं।

मुकेश अंबानी, रिलायंस इंडस्ट्रीज
Mukesh Ambani 
सीईओ , Reliance Industries

अपने व्यवसाय को जाने – Knowing your business एक नया कारोबार को सीखने के लिए समय और प्रयास दोनो की आवश्यकता होती है। जब अंबानी तेल कारोबार को सीख रहे थे, उन्होंने कई-कई राते तेल ट्रक कंटेनरों में सो कर बिताई। वे सुबह की कसरत के दौरान प्रशिक्षण वीडियो देखते थे।

मुकेश अंबानी

  • प्रतियोगी की वेबसाइटों पर ज्यादा समय व्यतीत करें जैसे आप अपनी बेवबसाईट में बिताते है और उनके कारोबार के तरीके को समझें।
  • अपने उद्योग का अध्ययन करें। चीजें हर समय बदलती हैं, कभी-कभी नाटकीय रूप से लेकिन अक्सर आहिस्ता-आहिस्ता।

ब्रेट गॉडफ्रे, वर्जिन ब्लू
Brett Godfrey 
सह संस्थापक और सीईओ Virgin Blue

सहयोगियों पर विश्वास करें – कभी भी सारी चीजें अपने हाथों पर न रखें, गॉडफ्रे सहजता से सर्वसम्मति के फायदे को समझते हैं उनका मंत्र है ‘कोई नियम नहीं, सिर्फ दिशा-निर्देश’। जो कर्मचारियों को अपने पूर्ण समर्थन के साथ-साथ, सुरक्षा में ढिलाई को छोड़ कर, सभी मामलों में नेतृत्व के लिए प्रोत्साहित करता है।

ब्रेट गॉडफ्रे

  • अच्छे निर्णय लेने के लिए सहयोगियों पर भरोसा करें। जमीनी स्तर के कर्मचारी समस्या को सुलझाने में सबसे बेहतर स्थिति में होते है।
  • अपने कर्मचारियों को खुद के लिए सोचने के लिए जगह दें, वे परिणाम उत्पन्न करेंगे और अपनी नौकरी का आनंद लेंगे।
  • एक ऐसी संस्कृति बनाएं जहां लोग अपनी तरह से काम कर सकें, यदि कुछ गलत भी हो जाता है तो उनको अपना समर्थन और सहयोग दें।

मार्टिन विंटरकॉर्न, वोक्सवैगन एजी
Martin Winterkorn 
सीईओ Volkswagen AG

गुणवत्ता पर ध्यान केंद्रित करना – आपका बे्रंड कितना भी मजबूत क्यों न हो, यदि आपने क्वालिटी में  ढिलाई दी तो आप कहीं के नहीं रहेंगे। जब कंपनी ने पहले से ही बेंचमार्क सेट कर दिया है, तो आप मानकों को गिरने नहीं दे सकते हैं, क्योंकि जनता की पसंद अस्थिर रहती है।

मार्टिन विंटरकॉर्न

  • अपने प्रोडक्ट की बेहतरीन गुणवत्ता सुनिश्चित करें जिससे कि लोग उसकी स्वयं तारीफ करें। विकास का सर्वोत्तम मार्ग आपके ब्रांड का लोगों द्वारा समर्थन है।
  • उन मूल्यों और सिद्वान्तों से समझोता न करें। इनको ध्यान में रखकर अपना ब्रांड बनाएं जो पहले स्थान आये।
  • संबंधित उत्पादों और सेवा में भी विस्तार करें।

केनेथ चेनॉल्ट, अमेरिकन एक्सप्रेस
Kenneth Chenault
अध्यक्ष और मुख्य कार्यकारी अधिकारी American Express

सम्मान दिखायें – चेनॉल्ट, जो वित्तीय कारोबार में सर्वश्रेष्ठ सीईओ के रूप में याद किये जायेंगें, अपने कर्मचारियों को उनके सहयोगियों, व्यावसायिक साझेदारों और यहां तक कि शत्रुओं के प्रति सम्मान दिखाने के महत्व की हर दिन याद दिलाते रहे हैं।

केनेथ चेनॉल्ट

  • प्रतिस्पर्धात्मक वातावरण में भी लोगों के साथ वैसा व्यवहार करें जैसा कि आप खुद अपने लिए चाहते हैं। आप खुलेपन की संस्कृति बनाएं।
  • आंतरिक राजनीति से बचें, खासकर सहयोगियों के खिलाफ पीठ पीछे चुगली और चापलूसी।
  • ग्राहकों के साथ खुले और ईमानदार रहें।

Also Read : उम्मीद न छोड़ें! सफलता अवश्य मिलेगी।


आपको यह लिस्ट दुनिया के कुछ सफलतम सीईओ की व्यापारिक सोच Business thinking of successful top CEO  कैसा लगी, कृप्या कमेंट बाक्स पर साझा करें।

Random Posts

  • Ramayana Indonesia इण्डोनेशिया में रामायण (Ramayana in Indonesia)

    इण्डोनेशिया में रामायण (Ramayana in Indonesia) in Hindi इण्डोनेशिया में भारतीय शासक ‘अजी कका’ (78 ई.) के समय में संस्कृृत भाषा तथा ‘पल्लव’ एवं ‘देवनागरी’ लिपि के प्रयोग के प्रणाम मिलते हैं। बाद में यह ‘कवि-भाषा’ के रूप में विकसित हुई। राम-कथा के आगमन की तिथि पर विवाद हो सकता है, किंतु सातवीं शताब्दी के प्रम्बनान के शिव-मन्दिर पर शिलोत्कीर्ण राम-कथा […]

  • sune pahad सूने पहाड़-मेरा संस्मरण

    सूने पहाड़-मेरा संस्मरण अभी कुछ दिनों पहले ही मैं अपने ननिहाल गया। लगभग 14 साल बाद। नानी की मृत्यु के बाद बस जाना ही नहीं हुआ। मेरी माताजी सिर्फ दो बहने हैं। मामा न होने के कारण किसके यहां ठहरने की उधेड़बुन में बस समय बीतता ही चला गया। बचपन की यादों का दौर जैसे चलचित्र की भांति आंखों के […]

  • लघु हिंदी कहानी बंदर और मछली | स्वर्ग और नरक Moral stories in Hindi

    बंदर और मछली | स्वर्ग और नरक Moral stories in Hindi छोटी-छोटी कहानियाँ भी हमें बहुत बड़ी सीख दे जाती हैं। नीचे दो लघु हिंदी कहानियाँ (short moral stories) दी गयी हैं – पहली हिन्दी कहानी (Hindi story) बंदर और मछली की है जो कि दोस्तों को लेकर हमें सचेत करती है तथा दूसरी लघु हिंदी कहानी मिलजुल कर रहने में ही भलाई […]

  • पद्मावती रानी पद्मिनी (पद्मावती) – राजपूताना का गौरव

    रानी पद्मिनी (पद्मावती) – राजपूताना का गौरव सन् 1275 ई. में चित्तौड़ के राजसिंहासन पर राणा लक्ष्मणसिंह आसीन था, उसकी अवस्था उस समय केवल बारह साल की थी। राज्य की देख-रेख चाचा भीमसिंह या रत्नसिंह (रतनसिंह) करता था। रत्नसिंह एक योग्य शासक था। उनकी पहली पत्नी का नाम रानी नागमति था। उस समय राजपरिवारों मे एक से अधिक विवाह का […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*

8 − 1 =