XXX का अश्लील फिल्मों तथा पत्र के अंत में इस्तेमाल क्यों!!

XXX का अश्लील फिल्मों तथा पत्र के अंत में इस्तेमाल क्यों!!

xxx

क्या आप जानते हैं कि XXX का अश्लील फिल्मों के लिए क्यों इस्तेमाल होता है?

जब मूवी रेटिंग प्रणाली पहली बार बनाई गई थी, तब वे फिल्मों जिसमें हिंसा या अश्लीलता (sexuality) की मात्रा बहुत अधिक होती थी, उसके लिए X का इस्तेमाल होता था। उस समय फिल्म निर्माताओं की तरफ से शिकायतें आने लगी कि सार्वजनिक सिनेमाघरों में प्रसारित अश्लील फिल्मों (porn movies) और वे फिल्म जिसमें वास्तविक यौन संबंध का प्रदर्शन नहीं था, उन्हें एक ही प्रकार की रेटिंग X प्राप्त हो रही थी ।

इस समस्या को दूर करने के लिए अमेरिका में दो नई रेटिंग सिस्टम बनाये गये R और NC-17 तथा पुरानी X रेटिंग को छोड़ दिया गया। R रेटिंग से तात्पर्य था कि इस प्रकार की फिल्मों को 17 साल से कम उम्र के बच्चे माता-पिता के साथ ही देख सकते हैं। एनसी-17 रेटिंग वाली फिल्मों को देखना बच्चों के लिए किसी भी तरह मान्य नहीं था क्योंकि इनमें अश्लीलता की भरमार होती थी।

पर हुआ यह कि उस समय सार्वजनिक सिनेमाघरों में प्रसारित होने वाले अश्लील फिल्मों के निर्माताओं ने पुराना X का इस्तेमाल जारी रखा क्योंकि जब भी जनता रेटिंग X सुनती थी तो उनके मन में अश्लील फिल्मों (porn movies) का ही विचार आता था। आगे चलकर पोर्न इंडस्ट्री (porn industry) ने अधिक बिक्री करने के लिए XXX का उपयोग शुरू किया जिससे उनका तात्पर्य था कि यह अत्यंत अश्लील फिल्म है।

अगर XXX अश्लीलता के लिए इस्तेमाल होता है तो अक्सर पत्र या लेख के अंत में XXX भला क्यों लगाया जाता है?

X का तात्पर्य ग्रीक अक्षर chi जिसका उच्चारण ची chi है जो कि बार-बार बोलने में किस (Kiss) ‘चुम्बन’ का ध्वनि देता है। यह निशान देखने में दो लोगों का गले मिलते हुए सा प्रतीत होता है। अतः XXX का प्रयोग प्राप्तकर्ता के प्रति प्रेम प्रदर्शित करने के लिए किया जाने लगा जिसका प्रयोग शुरू-शुरू में परिवार को लिखे गये पत्रों (letters and articles) में इस्तेमाल होता था जो कि आज सर्वव्यापी इस्तेमाल में आने लगा है।

Also Read : कदमताल पर प्रकाशित रोचक जानकारियाँ


आपको यह रोचक जानकारी XXX का अश्लील फिल्मों तथा पत्र के अंत में इस्तेमाल क्यों!!  Why XXX used in adult movies and also at the end of the letters कैसा लगा, कृप्या कमेंट बाक्स पर साझा करें। अगर आपके पास विषय से जुडी और कोई जानकारी है तो हमे kadamtaal@gmail.com पर मेल कर सकते है |

आपके पास यदि Hindi में कोई motivational article, story, essay है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Email Id है: kadamtaal@gmail.com. हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ प्रकाशित करेंगे.

Random Posts

  • dadi maa ke gharelu nuskhe निरोग रहने हेतु दादी माँ के घरेलू नुस्खे – Home Remedies

    निरोग रहने हेतु दादी माँ के घरेलू नुस्खे – Home Remedies in Hindi सदियों से घरेलू  इलाज के लिए कुछ नुस्खे (home remedies) अजमाये जाते रहे हैं जो कि एक पीढ़ से दूसरी पीढ़ी में अनुभव के आधार पर आगे बढ़ता रहा है। हम सब की दादी-माता जी को कई नुस्खे तो याद रहते हैं लेकिन बहुत सारे कई बार दिमाग […]

  • Malik Mohammad Jayasi कुरूपता | मलिक मुहम्मद जायसी

    कुरूपता | Malik Mohammad Jayasi Hindi Story मलिक मुहम्मद जायसी (Malik Mohammad Jayasi) (सन् 1475-1542 ई.) भक्तिकालीन हिन्दी-साहित्य के महाकवि थे। वे निर्गुण भक्ति की प्रेममार्गी शाखा के सूफी कवि थे। उन्होंने कई ग्रन्थों की रचना की। अवधी भाषा में लिखा हुआ उनका ‘पद्मावत’ ‘Padmawat’ नामक ग्रन्थ विशेष प्रसिद्ध है। उन्होंने जगत् के समस्त पदार्थों को ईश्वरीय छाया से प्रकट हुआ […]

  • raja shibi राजा शिवि का परोपकार

    राजा शिवि का परोपकार Raja Shibi Ka Paropkar in Hindi पुरुवंशी नरेश शिवि उशीनगर देश के राजा थे। वे बड़े दयालु-परोपकारी शरण में आने वालो की रक्षा करने वाले एक धर्मात्मा राजा थे। इसके यहाँ से कोई पीड़ित, निराश नहीं लौटता था। इनकी सम्पत्ति परोपकार के लिए थी। इनकी भगवान से एकमात्र कामना थी कि मैं दुःख से पीड़ित प्राणियों […]

  • जीवन की सार्थकता दूसरों के लिए जीने में है

    जीवन की सार्थकता दूसरों के लिए जीने में है एक बार एक राजा ने राजमार्ग पर एक विशाल पत्थर रखवा दिया। फिर वह छिपकर बैठ गया, यह देखने के लिए कि कोई उसे उठाता है या नहीं। मार्ग में पड़े उस पत्थर उस मार्ग से निकलने वाले, कई धनी सेठों ने, दरबारियों ने भी देखा परन्तु राजमार्ग को बाधारहित करने […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*

six + eight =