उर्दू साहित्य के गौरव । अब्दुल कावी देसनवी

उर्दू साहित्य के गौरव । अब्दुल कावी देसनवी

अब्दुल कावी देसनवी

अब्दुल कावी देसनवी (Abdul Qavi Desnavi عبدالقوى دسنوى) का जन्म 1 नवम्बर 1930 को गाँव देसना, नालंदा, बिहार में हुआ था। उनके पिता जी का नाम सैयद मौहम्मद सईद रजा था। वे उर्दू, अरबी तथा फारसी भाषा के प्रोफेसर थे जो कि मुंबई के सेंट जेवियर्स काॅलेज में पढ़ाते थे।

देसनवी ने अराह, बिहार से अपनी प्राथमिक शिक्षा पूरी की। फिर वे मुंबई चले गये। वहां उन्होंने सेंट जेवियर्स कॉलेज में स्नातकोत्तर तक की शिक्षा ग्रहण की।

देसनवी को बचपन से ही उर्दू साहित्य के प्रति गहरी रूचि थी। सन् 1961 में वे सैफिया पोस्ट ग्रेजुएट कॉलेज के उर्दू विभाग में शामिल हुए। आगे चल कर वे इसी काॅलेज में विभाग के प्रमुख बने तथा यहीं से 1990 में वे सेवानिवृत्त हुए। सेवानिवृत्ति के बाद भी उनका उर्दू साहित्य के प्रति जुनून कम नहीं हुआ।

उनकी साहित्य में गजब की पकड़ थी। उन्होंने कई प्रसिद्ध किताबें लिखी। उनकी बेहतरीन कृतियों में मौलाना अबुल कलाम आज़ाद, मिर्जा गालिब और अल्लामा इकबाल पर लिखे गये लेख माने जाते हैं।

अब्दुल कावी देसनवी को अपने जीवनकाल में विभिन्न पुरस्कारों से सम्मानित किया गया जिसमें 1957 में मिला शिब्ली पुरस्कार तथा 1998 में प्राप्त हुआ शाहिदी पुरस्कार शामिल है।

सेवानिवृति के बाद उन्होंने भोपाल, मध्यप्रदेश में अपना स्थायी निवास बना दिया। वे आजीवन विभिन्न मानक पदों पर कार्य करते रहे जिसमे कि मध्यप्रदेश उर्दू अकादमी के सचिव और बरकतुल्ला विश्वविद्यालय, भोपाल के डीन, फैकल्टी आॅफ आर्टस शामिल है।

सन् 2000 में उनकी एक पुस्तक ‘हयात ए अबुल कलाम आज़ाद’ (Hayat-e-Abdul Kalam Azad) का माॅर्डन पब्लिशिंग हाउस, दिल्ली द्वारा प्रकाशन हुआ। इस पुस्तक को देसनावी के बेहतरीन कार्यों में से एक माना जाता है जिसने उन्हें साहित्य जगत में प्रसिद्धी की बुलंदी तक पहुंचा दिया।

हयात ए अबुल कलाम आज़ाद

7 जुलाई, 2011 को 80 वर्ष की आयु में श्री अब्दुल कावी देसनवी (Abdul Qavi Desnavi) का भोपाल में निधन हो गया। वे कई दिनों से बीमार चल रहे थे। भले ही आज वे नहीं है परन्तु उनकी लिखी गयी अनमोल कृत्तियाँ हमेशा उन्हें हमारे बीच होने का आभास प्रदान करती रहेगी। इन महान हस्ती हो हमारा सत्-सत् नमन।

Also Read :
रबिया बसरी: मुस्लिम महिलाओं की रोल माॅडल
कुरूपता | Malik Mohammad Jayasi Hindi Story
स्वाभिमान | Inspirational Story of Hazrat Umar


आपको यह हिन्दी लेख उर्दू साहित्य के गौरव । अब्दुल कावी देसनवी (Urdu Sahitya Ke Gaurav | Abdul Qavi Desnavi in Hindi)  कैसी लगी, कृप्या कमेंट बाक्स पर साझा करें।

आपके पास यदि Hindi में कोई article, story, essay है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ kadamtaal@gmail.com पर E-mail करें. हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ प्रकाशित करेंगे|

Random Posts

  • जीवन की सार्थकता दूसरों के लिए जीने में है

    जीवन की सार्थकता दूसरों के लिए जीने में है एक बार एक राजा ने राजमार्ग पर एक विशाल पत्थर रखवा दिया। फिर वह छिपकर बैठ गया, यह देखने के लिए कि कोई उसे उठाता है या नहीं। मार्ग में पड़े उस पत्थर उस मार्ग से निकलने वाले, कई धनी सेठों ने, दरबारियों ने भी देखा परन्तु राजमार्ग को बाधारहित करने […]

  • anna mani अन्ना मणि | Mahan Mahila Scientist in Hindi

    अन्ना मणि | Mahan Mahila Scientist in Hindi महान भारतीय वैज्ञानिक अन्ना मणि (ANNA MANI) की सफलता की कहानी पुरुषों और महिलाओं (ladies) को बराबर प्रेरित करती है। उनके समय लिंग के आधार पर होने वाले भेदभाव का उन्होने सफलतापूर्वक सामना किया। एक इंटरव्यू में उन्होने बताया था कि कैसे छोटी-छोटी गलतियों पर भी महिलाओं को असक्षम सिद्ध करने का […]

  • cow and lion गौभक्त राजा दिलीप

    गौभक्त राजा दिलीप Gau Bhakt Raja Dalip in Hindi प्राचीन हिन्दी कहानी है, अयोध्या के राजा दिलीप बड़े त्यागी, धर्मात्मा, प्रजा का ध्यान रखने वाले थे। उनके राज्य में प्रजा संतुष्ट और सुखी थी। राजा को प्रौढावस्था तक भी कोई संतान नहीं हुई। अतः एक दिन वे रानी सुदक्षिणा सहित गुरु वसिष्ठ के आश्रम में पहुंचे और उनसे निवेदन किया […]

  • chanakya दीपक का तेल | Chanakya story

    दीपक का तेल | Chanakya Story in Hindi मित्रों  चाणक्य (Chanakya) के काल में भारत में घरों में ताला नहीं लगाया जाता था। उसी समय चीनी ह्नेनसाँग ने भारत की यात्रा की थी। उसकी यात्रा के एक प्रेरणाप्रद प्रसंग (inspirational instance) की चर्चा कुछ विद्वानों ने की है। यह प्रसंग कुछ इस प्रकार है – जब ह्नेनसाँग भारत आया, उस […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*

seventeen + nine =