नकल का प्रभाव | Inspirational story

नकल का प्रभाव | Inspirational story of Thief

नकल chor

एक चोर आधी रात को किसी राजा के महल में सेंधमारी करने जा घुसा। उस समय राजा-रानी के बीच अपनी विवाह योग्य कन्या को लेकर विचार चल रहा था।

चोर ने राजा को रानी से यह कहते सुना कि ‘मैं पुत्री का विवाह उस साधु से करूंगा जो गंगा के किनारे रहता है।’

चोर ने सोचा कि ‘यह अच्छा अवसर है। कल मैं भगवा पहन कर साधुओं के बीच चला जाऊँगा। सम्भव है राजकुमारी का विवाह मेरे साथ ही हो जाए।’

नकल sadhu

दूसरे दिन उसने ऐसा ही किया। राजा के कर्मचारी बारी-बरी से साधुओं के बीच गये और उनसे राजकन्या के साथ विवाह कर लेने की प्रार्थना करने लगे, लेकिन किसी ने स्वीकार नहीं किया। वे उस चोर साधु के पास भी गये ओर वही प्रार्थना वे उससे भी करने लगे। चोर से सोचा कि एकदम प्रस्ताव स्वीकार कर लेने से संदेह उत्पन्न हो सकता है। इसलिए उसने असमन्जस्य की स्थिति का नाटक किया और कोई तत्काल जवाब नहीं दिया।

कर्मचारी राजा के पास गये और उन्होंने सारी स्थिति सच-सच बता दी।

उन्होंने कहा कि-‘महाराज! कोई भी साधु राजकुमारी के साथ विवाह के लिए तैयार नहीं हुआ। एक सन्यासी अवश्य मिला जो कुछ प्रयास करने से सम्भवतः विवाह प्रस्ताव स्वीकार कर ले।

राजा ने कर्मचारियों को तत्काल उसे साधु के पास ले चलने का आदेश दिया। वहाँ पहुँच कर उसने साधु से अपनी पुत्री के साथ विवाह करने का अनुरोध किया।

राजा के स्वयं आने से चोर दंग रह गया और उसका हृदय एकदम परिवर्तित हो गया।

उसने सोचा ‘अभी तो केवल सन्यासियों के कपड़े पहनने का यह परिणाम हुआ है कि इतना बड़ा राजा मुझसे मिलने स्वयं आया है। यदि मैं वास्तव में सच्चा सन्यासी बन जाऊँ तो न मालूम आगे कैसे अच्छे-अच्छे परिणाम देखने को मिलेंगे।’

इन विचारों और घटनाओं से उसके मन में ऐसा अच्छा प्रभाव पड़ा कि उसने राजकुमारी से विवाह करना एकदम अस्वीकार कर दिया और उस दिन से वह एक सच्चा साधु बनने का प्रयास करने लगा। वह आगे चल कर बहुत ही पहुँचा हुआ संत बना।

मित्रों देखा आपने अच्छी बात की नकल से भी कभी-कभी अनपेक्षित और अपूर्व फल की प्राप्ति हो जाती है। अतः हमें किसी से भी अच्छाई ग्रहण करने में कभी भी संकोच नहीं करना चाहिए।

Also Read : आखिर हम बार-बार हारते क्यों है?


आपको यह कहानी inspirational story of thief नकल का प्रभाव  कैसा लगी, कृप्या कमेंट बाक्स पर साझा करें।

Random Posts

  • short hindi stories सच्चाई हर जगह चलती है

    सच्चाई हर जगह चलती है – Short Hindi stories देशबन्धु चित्तरंजनदास जब छोटे थे, तब उनके चाचा ने उनसे पूछा-‘तुम बड़े होकर क्या बनना चाहते हो।’ ‘मैं चाहे जो बनूं, किन्तु वकीन नहीं बनूंगा’-चित्तरंजन ने उत्तर दिया। चाचा फिर बोले-‘ऐसा क्यों, भला।’ ‘वकालत करने वालों को कदम-कदम पर झूठ बोलना पड़ता है। बेईमानों का साथ देना पड़ता है।’-चित्तरंजन ने कहा। […]

  • failure quotes hindi असफलता पर अनमोल विचार

    असफलता पर अनमोल विचार Failure Quotes in Hindi  हर व्यक्ति को खुले दिल से विफलता  (failure)को स्वीकार करना चाहिए। हम विफलता से ही सीखते हैं। दुनिया के सफलतम लोगों को विफलता जैसे कठिन मार्ग ने ही राह दिखाया है।  कभी भी सफलता को अपने दिमाग पर हावी मत होने दो तथा विफलता को दिल से मत लगाओ। Never let success […]

  • man ki shanti हमारी अच्छी सोच-मन की खुशी एवं मन की शान्ति

    हमारी अच्छी सोच-मन की खुशी एवं मन की शान्ति Hamari aachi soch man ki khushi man ki shanti हम अभी इस बात से अनभिज्ञ हैं कि भाग्य क्या है। हमारा luck हमारी thinking पर निर्भर करता है। बहुत महत्वपूर्ण है हमारी अन्दर चल रहे विचारों की और मन की बात। उन विचारों को समझना, गलत विचारों को रोकना है और […]

  • स्वाभिमान | Inspirational Story of Hazrat Umar

    स्वाभिमान | Inspirational Story of Hazrat Umar एक बार हज़रत उमर (Hazrat Umar) अपने नगर की गलियों से गुज़र रहे थे, तभी उन्हें एक झोपड़ी से एक महिला व बच्चों के रोने की आवाज़ सुनाई दी। वे रुके, फिर जिज्ञासावश झोपड़ी के भीतर झांक कर देखा तो पाया कि एक महिला अपने रोते हुए चार बच्चोें को चुप करा रही थी, […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*