सीता को रिझाने के लिए रावण द्वारा राम का रूपधारण

सीता को रिझाने के लिए रावण द्वारा राम का रूपधारण – short story of Ravan Kumbhkaran samvad in Hindi

राम जी इतने अधिक शुद्ध हैं कि जो राम का स्मरण भर करता है, वह भी शुद्ध हो जाता है। श्रीएकनाथ महाराज की भावार्थ-रामायण में पैंतालीस हजार मराठी पद हैं। उसमें रावण द्वारा राम का रूप धरने से होने वाली स्थिति की रावण-कुम्भकरण (Ravan Kumbhkaran Samvad) संवाद कथा इस प्रकार है –

लंका युद्ध चल रहा था। रावण के बड़े-बड़े महारथी युद्ध में मारे जा चुके थे। कुम्भकरण सोया हुआ था, तब युद्ध करने के लिए रावण ने उसे जगाया। कुम्भकरण को खूब शराब पिलायी गयी और मांसाहारी भोजन कराया गया।

ravan kumbhkaran

कुम्भकरण रावण से मिलने आया। उसने रावण से पूछा-‘मुझे क्यों जगाया है?’

रावण ने कहा-‘राम के साथ युद्ध करने के लिए तुम्हें जगाया है।’

कुम्भकरण ने पूछा-‘राम के साथ युद्ध क्यों हो रहा है?’

रावण-‘सीता के लिए युद्ध हो रहा है।’

कुम्भकरण ने रावण को समझाया कि ‘लंका में अनेकानेक देव-गन्धर्व-कन्याएं हैं। फिर भी सीता का अपहरण करने क्यों गये? तुमने घनघौर पाप किया है। तुम सीता को क्यों लाये हो?’

रावण ने कहा-‘लंका में बहुत-सी देव-गन्धर्व कन्याएं तो हैं, परन्तु सीता जैसी एक भी नहीं है। सीता का रूप अतुलनिय है। इसकी तुलना में आ सके, ऐसी कोई नहीं है। इस कारण मैं सीता को लेकर आया हूँ।’

तामसी आहार और मदिरा के कारण कुम्भकरण की बुद्धि में तमोगुण का प्रभाव होने लगा था।

कुम्भकरण ने पूछा-‘तुम सीता को लेकर आये हो तो तुम्हारी इच्छा पूरी हुई कि नहीं।’

रावण ने कहा-‘सीता महान पतिवत्रा है। वह आंख ऊँची करके किसी के सामने देखती तक नहीं।’

तुम तो अनेक रूप धारण करने मे सक्षम हो फिर तुमने राम का रूप धरकर सीता को वश में करने का प्रयास क्यों नहीं किया?-कुम्भकरण ने पूछा।

रावण ने जवाब दिया-‘कुम्भकरण मैने करके देखा है परन्तु मैं क्या कहूं। जब मैं रूप धारण करने के लिए राम के स्वरूप का ध्यान करने लगता हूँ, तब शनैः शनैः मेरे हृदय से सारे विचार ही पलट जाते हैं।’

मायावी रावण को कामरूप होने की शक्ति है, पर जब भी वह राम स्वरूप का ध्यान करता है, तब अन्य स्त्री के प्रति उसके मन में मातृ भाव हो जाता है। परस्त्री में कामभाव रखने वाले राक्षस चरित्र रावण का मन भी पवित्र हो जाता है।

यही है श्रीराम का आदर्श और प्रभाव। राम का नाम लेने और रूप के विचार मात्र से मन के भाव शुद्ध हो जाते हैं।

पूरी लिस्ट: पौराणिक कहानियाँ – Mythological stories


आपको सीता को रिझाने के लिए रावण द्वारा राम का रूपधारण – short story of Ravan Kumbhkaran samvad in Hindi  कैसी लगी, कृप्या कमेंट बाक्स पर साझा करें।

Random Posts

  • ant जीवन में सफल होने के लिए क्या करें?

    जीवन में सफल होने के लिए क्या करें? How to be successful in life in Hindi? हम सब जीवन के अपने-अपने क्षेत्र में सफल (successful) होना चाहते हैं। सब इसके लिए जी-तोड़ पर प्रयास भी करते हैं। हमारे सामने यह सवाल हर समय कौंधता है कि आखिर जीवन में सफल होने के क्या उपाय है तथा तेजी से सफलता के […]

  • negativity क्या नकारात्मक लोगों से दूर रहना चाहिए

    क्या नकारात्मक लोगों से दूर रहना चाहिए Should we stay away from negative people in Hindi हम सब के मन में कई सवाल उमड़ते रहते हैं। negative people कौन होते हैं? क्या हमें negative persons से दूर रहना चाहिए? हम negativity को जीवन से कैसे दूर करें? हम negative thoughts से कैसे निजाद पायें? क्या negativity वास्तव में progress के लिए हानिकारक […]

  • Malik Mohammad Jayasi कुरूपता | मलिक मुहम्मद जायसी

    कुरूपता | Malik Mohammad Jayasi Hindi Story मलिक मुहम्मद जायसी (Malik Mohammad Jayasi) (सन् 1475-1542 ई.) भक्तिकालीन हिन्दी-साहित्य के महाकवि थे। वे निर्गुण भक्ति की प्रेममार्गी शाखा के सूफी कवि थे। उन्होंने कई ग्रन्थों की रचना की। अवधी भाषा में लिखा हुआ उनका ‘पद्मावत’ ‘Padmawat’ नामक ग्रन्थ विशेष प्रसिद्ध है। उन्होंने जगत् के समस्त पदार्थों को ईश्वरीय छाया से प्रकट हुआ […]

  • फ़्लोरेन्स नाइटिंगेल फ़्लोरेन्स नाइटिंगेल | सेवा की प्रतिमूर्ति

    फ़्लोरेन्स नाइटिंगेल | सेवा की प्रतिमूर्ति फ़्लोरेन्स नाइटिंगेल (Florence Nightingale) का जन्म 12 मई सन् 1820 ई. में इटली के शहर फ्लाॅरेन्स में एक ब्रिटिश परिवार में हुआ था। वह उच्च घराने की लड़की थी। परिवार में पैसों की कोई कमी नहीं थी पर फ्लाॅरेन्स का जन्म ही दीन दुखियों की सेवा के लिए ही हुआ था। अतः उनका मन […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*

fourteen − five =