निरोग रहने हेतु दादी माँ के घरेलू नुस्खे – Home Remedies

निरोग रहने हेतु दादी माँ के घरेलू नुस्खे – Home Remedies in Hindi

सदियों से घरेलू  इलाज के लिए कुछ नुस्खे (home remedies) अजमाये जाते रहे हैं जो कि एक पीढ़ से दूसरी पीढ़ी में अनुभव के आधार पर आगे बढ़ता रहा है। हम सब की दादी-माता जी को कई नुस्खे तो याद रहते हैं लेकिन बहुत सारे कई बार दिमाग से निकल भी जाते हैं। नीचे 25 नुस्खे दिये गये हैं जो कि कुछ आम रोगों में बहुत लाभदायक हैं। आप निरोग रहने हेतु दादी माँ के ये घरेलू नुस्खे (dadi maa ke gharelu nuskhe) अजमाये इनका कोई साइड अफेक्ट भी नहीं है और रामबाण की तरह कार्य करते हैं।

  1. दाद – दाद पर नींबू का रस 20 दिनों तक लगाने से दाद गायब हो जायेगा।
  2. बालतोड़ में दूध को फिटकरी से फाड़कर कपड़े में रखकर बालतोड़ पर बांधें।
  3. रूसी – कपूर और नारियल तेल मिलाकर लगायें। इससे रूसी में राहत मिलेगी।
  4. मुख दुर्गन्ध – भोजन के बाद 5 तुलसी के पत्ते खाने से मुख से बास नहीं आती है।
  5. बच्चों के पेट में कीड़े – छोटे बच्चों के पेट में कीड़े हों तो सुबह एवं शाम को प्याज का रस गरम करके, एक प्याला पिलाने से कीड़े अवश्य जाते हैं।
  6. हिचकी – कुटकी के चूर्ण को शहद में मिलाकर चटाने से उनकी हिचकियाँ दूर होती हैं।
  7. चेहरे के मस्से के लिए काली मिर्च और फिटकरी बराबर-बराबर चेहरे पर लेप करें तथा सींक से मस्सों में लगायें।
  8. आग से जल जाने पर – कच्चे आलू को पीसकर, उसका रस निकाल लें, फिर जले हुए स्थान पर उस रस को लगाने से आराम मिलता है।
  9. खांसीं – भुनी तथा कच्ची बराबर-बराबर अजवायन पीस कर शाम को फंकी मारें, पानी न पियें, खांसीं में लाभ होगा।
  10. मुंह के छाले – पका हुआ केला और शहर मिलाकर खाने से तुरंत राहत मिलती है आप इसका पेस्ट बनाकर मुंह में भी लगा सकते हैं।
  11. खाज खुजली – नीम और तुलसी के पत्ते मिलाकर खायें भी और लगाये भी।
  12. सरसों के तेल में नमक मिलाकर मंजन करने से दांतों में चमक तथा पायरिया में भी लाभ होता है। मुंह की दुर्गन्ध दूर हो जाती है।
  13. कानदर्द – प्याज पीसकर उसका रस कपड़े से छान लें। फिर उसे गरम करके चार बूंद कान में डालने से कान का दर्द समाप्त हो जाता है।
  14. फोड़े – नीम की मुलायम पत्तियों को पीसकर गाय के घी में पकाकर फोड़े पर हलके कपड़े के सहारे बांधने से पुराने फोड़े भी ठीक हो जाते हैं।
  15. कब्ज दूर बन्द करने हेतु – एक बड़े साइज का नींबू काटकर रात्रि भर ओस में पड़ा रहने दें। फिर प्रातःकाल एक गिलास चीनी के शरबत मेें उस नींबू को निचोड़कर तथा शरबत में नाममात्र का काला नमक डालकर पीने से कब्ज निश्चिित रूप से दूर हो जाता है।
  16. कोमल अमरूद की पत्ती चबाने से मुंह के छालों में लाभ होता है, साथ में चने के सत्तू को पानी में घेलकर पीयें।
  17.  दांत दर्द – हल्दी एवं सेंधा नमक महीन पीसकर, उसे शुद्ध सरसों के तेल में मिलाकर सुबह-शाम मंजन करने से दांतों का दर्द बंद हो जाता है।
  18. जुकाम – एक पाव गाय का दूध गर्म करके उसमें 10-12 दाने काली मिर्च और थोड़ी सी मिश्री-इन दोनों को दूध में मिलाकर सोते समय रात को पी लें। आराम मिलेगा।
  19. पेशाब की कड़क तथा जलन – ताजे करैले को महीन-महीन काट कर उसका पानी इकट्ठा करके दिन में तीन बार थोड़ा-थोड़ा पीने से पेशाब की कड़क एवं जलन ठीक हो जाती है।
  20. टान्सिल बढ़ जाने पर, गले में दर्द होने पर गर्म पानी में फिटकरी, नमक डालकर, गरारे करने से शीघ्र लाल होता है।
  21. जुओं को समाप्त करने के लिए सर धोने के बाद अन्त में नींबू का रस मिले पानी से सिर धोयें, जुएं मर जायेंगे।
  22. आधा सिरदर्द में सोंठ पीसकर देशी घी में भूने तथा कपड़े में बांधकर सूंघें।
  23. सिरदर्द – सोंठ को बहुत महीन पीसकर बकरी के शुद्ध दूध मंे मिलाकर नाक से बार-बार खींचने से सभी प्रकार के सिरदर्द में आराम मिलता है।
  24. मधुमेह – मेथी के प्रयोस से मधुमेह में कमी आती है।
  25. नेत्र रोग – तुलसी के पत्ते के रस में शहद मिलाकर आंख में लगाने से आंख में लाभ होगा।

Also Read : स्वास्थ्य को बेहतर बनाये रखने के उपाय – Health Tips


आपको यह लेख स्वास्थ्य को बेहतर बनाये रखने के उपाय – Health Tips in Hindi कैसा लगा, कृप्या कमेंट बाक्स पर साझा करें। अगर आपके पास विषय से जुडी और कोई जानकारी है तो हमे kadamtaal@gmail.com पर मेल कर सकते है |

आपके पास यदि Hindi में कोई health related article, story है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Email Id है: kadamtaal@gmail.com. हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ प्रकाशित करेंगे |

Random Posts

  • arjun राजकुमार सुधन्वा और अर्जुन (Sudhanva and Arjun War)

    राजकुमार सुधन्वा और अर्जुन Story of war between Rajkumar Sudhanva and Arjun in Hindi राजकुमार सुधन्वा (Sudhanva) चम्पकपुर के नरेश हंसध्वज का छोटा पुत्र था। वह जितना महान शूरवीर था, उतना ही महान ईश्वर भक्त भी था। महाभारत युद्ध के पश्चात धर्मराज युधिष्ठिर ने अश्वमेघ यज्ञ किया। घोड़े के पीछे अर्जुन के नेतृत्व में सेना विजय-यात्रा कर रही थी। किसी भी राजा का […]

  • story of ram in the world विदेशों में राम-कथा (Story of Ram in the World)

    विदेशों में राम-कथा (Story of Ram in the World) राम-कथा भारत की ही नहीं, विश्व की सम्पत्ति है। वह संस्कृत भाषा में रची गई, फिर भारत की अन्य भाषाओं में उसका अनुवाद हुआ और उसके साथ-साथ अन्य देशों की भाषाओं में भी उसका ट्रान्सलेशन (translation) व कुछ परिवर्तित (some changes) रूप में पहुंची। यह जहां भी गई जनमानस केे दिल में […]

  • modern education system वर्तमान शिक्षा पद्धति में भाषा और आचरण

    वर्तमान शिक्षा पद्धति में भाषा और आचरण Language and behavior in the modern education system in Hindi वर्तमान शिक्षा (modern education system) का उद्देश्य तो केवल ऐसी शिक्षा से है जिसमें अधिक से अधिक धन की प्राप्ति हो और उसी के इर्दगिर्द सारी शिक्षा प्रणाली घूमती है। पर आप आज की दशा पर विचार कीजिए। जिस शिक्षा की आज भारत में […]

  • jokar अपने आपको जोकर न बनायें

    आप सबको खुश नहीं रख सकते You cannot make everyone happy मित्रों कभी न कभी तो आप सर्कस गये ही होंगे। वहां लोगों को हंसाने-गुदगुदाने के लिए एक पात्र आता है-जिसे जोकर (joker) कहते हैं। जो अपने चेहरे को अजीब से रंगो और मुखेटे से ढके रहता है। मुझे लगता है जोकर ही वह किरदार है जिसमें हर किसी को […]

3 thoughts on “निरोग रहने हेतु दादी माँ के घरेलू नुस्खे – Home Remedies

  1. बहुत ही बढिया और उपयोगी घरेलू नुस्खों के बारे मेें आपने जानकारी दी हैं । ऐसे ही उपयोगी जानकारी शेयर करते रहिए । धन्यवाद ।

  2. गौरव गिरमे
    अहमदनगर
    श्रीरामपूर
    सर आपके पास सफेद डाग मिटने के घरेलू उपाय है ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*