बाघ और खरगोश

बाघ और खरगोश – Moral Story in Hindi
Tiger and Rabbit 

यह मोरल स्टोरी (moral story) बाघ (tiger) और खरगोश (rabbit) की है जिसमें यह बताया गया है कि शांतचित्त मन से विकट से विकट परिस्थिति का भी सफलतापूर्वक सामना किया जा सकता है। मोरल स्टोरी इस प्रकार है कि एक समय की बात है जंगल में एक खरगोश रहता था। वह काफी समझदार और चालाक था। बहुत छोटा होने के बावजूद वह किसी जानवर से नहीं डरता था।

एक दिन बाघ भोजन की तलाश में इधर-उधर भटक रहा था। उसने कई दिनों से कुछ नहीं खाया था। उसकी नजर खरगोश पर पड़ गयी। वह बहुत धीरे-धीरे छुपता-छुपाता खरगोश के पास गया और उसे झपट लिया। खरगोश के पास बचने को कोई अवसर नहीं था।

बाघ ने कहा-“मैंने कई दिनों से कुछ नहीं खाया है। आज तुम मेरा भोजन हो।”

खरगोश(Rabbit) बाघ का शिकार नहीं बनना चाहता था। उसने शांत बने रहने का प्रयास किया और इधर-उधर नज़र दौड़ाई। वहीं पास ही भैंस का ताजा गोबर पड़ा हुआ था। खरगोश के दिमाग में बचने का एक आइडिया आया।

“मुझे दुःख है कि मैं आपका भोजन नहीं बन सकता। राजा शेर ने मुझे अपने केक की रक्षा करने का आदेश दिया हुआ है।”

“राजा का केक”- बाघ ने उत्सुकतावश कहा।

“हाँ, यही है।” खरगोश ने गोबर की तरफ इशारा किया। “यह बहुत ही स्वादिष्ट है। राजा नहीं चाहते कि इसको कोई खाये इसलिए उन्होंने केक की सुरक्षा के लिए मुझे तैनात किया है।”

“क्या मैं चख सकता हूँ!” बाघ से पूछा।

“मुझे खेद है। आप नहीं चख सकते। राजा बहुत नाराज हो जायेंगे।” खरगोश ने कहा।

“बस थोड़ा सा, प्यारे खरगोश! राजा को कभी पता नहीं चलेगा।” बाघ ने चापलूसी की।

“चलो, ठीक है। परन्तु पहले मुझे दूर जाने दें जिससे की राजा मुझ पर आरोप न लगा सकें।” खरगोश ने कहा।

“ठीक है! तुम जा सकते हो।” बाघ राजी हो गया।

खरगोश सिर में पांव रखकर बड़ी तेजी से भागा।

बाघ ने मुट्ठीभर कर केक उठाया और मुहं में डाला।

छी…छी…छी! वह थूकता जा रहा था। “यह तो केक नहीं भैंस का गोबर है।”

इस मोरल स्टोरी (moral story in hindi) से हमें यह सीख मिलती है कि विकट से विकट परिस्थिति (difficult situation) में भी अपना हौसला नहीं खोना चाहिए। शांतचित्त से विचार करने से बचाव का रास्ता निकल ही जाता है।

यह मोरल स्टोरी भी पढ़ें: कछुआ और बंदर


आपको यह मोरल स्टोरी बाघ और खरगोश Tiger and Rabbit Moral Story in Hindi कैसी लगी, कृप्या कमेंट बाक्स पर साझा करें।

आपके पास यदि कोई moral story है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ kadamtaal@gmail.com पर E-mail करें. हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ प्रकाशित करेंगे|

Random Posts

  • नैन सिंह रावत – जिन्होंने तिब्बत को अपने कदमों ने नापा

    नैन सिंह रावत (Nain Singh Rawat) का जन्म 21 अक्टूबर 1830 में पिथौरागढ़ जिले के मुनस्यारी तहसील स्थित उत्तराखंड के सुदूरवर्ती मिलम गांव में हुआ था। उनके पिताजी का नाम अमर सिंह था जिन्हें कि लोग लाटा बुढ्ढा के नाम से भी पुकारते थे। पहाड में लाटा अत्यधिक सीधे इन्सान अथवा भोले लोगों को मजाक में कहते हैं। उनकी प्रारभिक […]

  • short hindi stories सच्चाई हर जगह चलती है

    सच्चाई हर जगह चलती है – Short Hindi stories देशबन्धु चित्तरंजनदास जब छोटे थे, तब उनके चाचा ने उनसे पूछा-‘तुम बड़े होकर क्या बनना चाहते हो।’ ‘मैं चाहे जो बनूं, किन्तु वकीन नहीं बनूंगा’-चित्तरंजन ने उत्तर दिया। चाचा फिर बोले-‘ऐसा क्यों, भला।’ ‘वकालत करने वालों को कदम-कदम पर झूठ बोलना पड़ता है। बेईमानों का साथ देना पड़ता है।’-चित्तरंजन ने कहा। […]

  • raja shibi राजा शिवि का परोपकार

    राजा शिवि का परोपकार Raja Shibi Ka Paropkar in Hindi पुरुवंशी नरेश शिवि उशीनगर देश के राजा थे। वे बड़े दयालु-परोपकारी शरण में आने वालो की रक्षा करने वाले एक धर्मात्मा राजा थे। इसके यहाँ से कोई पीड़ित, निराश नहीं लौटता था। इनकी सम्पत्ति परोपकार के लिए थी। इनकी भगवान से एकमात्र कामना थी कि मैं दुःख से पीड़ित प्राणियों […]

  • Bharat Ke Mahan Vaigyanik अनिल कुमार गयेन | Bharat Ke Mahan Vaigyanik

    अनिल कुमार गयेन | Bharat Ke Mahan Vaigyanik Our Scientist अनिल कुमार गयेन (Anil Kumar Gain) का जन्म 1 फरवरी 1919 में हुआ था। उनके माता-पिता लक्खी गांव, पूर्वी मिदनापुर के निवासी थे। उनके पिता जी का नाम जिबनकृष्ण और माताजी का नाम पंचमी देवी था। जब वे काफी छोटे थे तभी उनके पिताजी का निधन हो गया। परिवार का […]

One thought on “बाघ और खरगोश

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*