वेलेंटाइन डे का सच

वेलेंटाइन डे का सच – True Story of Valentine Day in Hindi

प्रेम की अभिव्यक्ति का इस दिवस का इतिहास वास्तव में romantic तो बिल्कुल भी नहीं है। यह कहानी है एक पुजारी की जिन्होंने प्रेम को जिन्दा रखने के लिए अपने प्राणों की आहूति दी। उनके संघर्ष और बलिदान की याद में ही यह दिवस (valentine day) मनाया जाता है।

सन् 270 में रोम सम्राट क्लोडिएस नामक एक क्रूर शासक था। वह अपने खूनी संघर्षों और अलौकप्रिय आदेशों के कारण काफी बदनाम था। क्लोडिएस बहुत विशाल सेना की आकांशा रखता था लेकिन अपनी हरकतों के कारण उसे लोगों को सेना में भर्ती कराने में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था।

उसने अपने स्तर पर इसके कारण जानने का प्रयास किया तो उसे महसूस हुआ कि रोमन लोग अपने परिवार के प्रति बेहत लगाव रखते हैं, इसलिए वे उनसे दूर नहीं जाना चाहते। परिवार के प्रति लोगों का प्रेम ही उन्हें सेना में भर्ती होने से रोक रहा है। इसका नतीजा यह हुआ कि, क्लोडिएस ने पूरे रोम में शादी और सगाई पर रोक लगा दी।

उस समय एक सज्जन Valentine रोम में पुजारी थे। उन्होने इस अजीबो-गरीब आदेश का न सिर्फ विरोध किया बल्कि कई जोड़ों की सगाई और शादी गुपचुप तरीके से कराई।

यह सब कब तक छुपा रह सकता था। आखिर एक दिन राजा को उनके कृत का पता चल ही गया। अपने आदेश का ऐसा उल्लंघन देख उसे बहुत क्रोध आया। उसने वेलेंटाइन को बालों से घसीट कर अपने सामने प्रस्तुत करने का आदेश दिया। वेलनटाइन की बैइज्जती करके राजा के सम्मुख लाया गया तथा अगले आदेश तक के लिए जेल भेज दिया गया।

बहुत से लोग वेलेंटाइन से मिलने और अपना समर्थन जताने जेल जाते थे। जेल के एक अधिकारी की बेटी भी उन्हीं में से एक थी। वह रोज उनके मिलने जाती और वे आपस में घंटों बातें करते। यह सिलसिला चलता रहा। आखिर वह मनहूस दिन आ गया जब उनको मौत की सजा दी जानी थी। अपनी सजा से पहले उन्होने उस युवती का आभार व्यक्त करने के लिए कुछ शब्द लिखे जो कि वह युवती उनकी मृत्यु के बाद पढ़ सके। कहा जाता है कि तब ही से अपना प्रेम प्रदर्शित करने के इस तरह का सिलसिला चल पड़ा। राज आज्ञा के अवेहलना के लिए उन्हें फरवरी 14 को मौत की सजा दी गयी।

शहीद पुजारी सतं वेलेंटाइन ने विवाह प्रथा और प्रेम को जारी रखने के लिए अपना जीवन का बलिदान दिया। उनकी याद में शहादत दिवस को valentine day के रूप में मनाया जाने लगा।

Also Read : लौरा वार्ड ओंगले success story


आपको यह लेख वेलेंटाइन डे का सच – True Story of Valentine Day in Hindi  कैसा लगा, कृप्या कमेंट बाक्स पर साझा करें। अगर आपके पास विषय से जुडी और कोई जानकारी है तो हमे kadamtaal@gmail.com पर मेल कर सकते है |

आपके पास यदि Hindi में कोई motivational article, story, essay है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Email Id है: kadamtaal@gmail.com. हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ प्रकाशित करेंगे.

Random Posts

  • रोचक कहानी खलीफा के बाज़ – रोचक कहानी

    खलीफा के बाज़ – निरंतर गतिशील रहें – रोचक कहानी काफी पुराने समय की बात है। साऊदी अरब के उत्तर-पूर्व दिशा मे जुबैल नाम का एक छोटा सा शहर था। चारों ओर से रेत के पहाड़ों से घिरा होने के कारण वहाँ पेड़-पौधे बहुत कम पाये जाते थे। शहर में एक खलीफा रहता था। उसका महल बहुत ही सुंदर और […]

  • जीवन में आगे बढ़ना है तो माफ करना सीखें

    जीवन में आगे बढ़ना है तो माफ करना सीखें यदि आप बहादुर देखना चाहते हैं तो उनको देखें जो माफ कर सकते हैं यदि आप वीर को देखना चाहते हैं, तो उनको को देखें जो नफरत के बदले प्यार कर सकते हैं। -भगवत गीता महात्मा गांधी भगवत गीता की शिक्षा से बहुत प्रभावित थे। ताकत का प्रतीक – शारीरिक नहीं […]

  • sadhu सच की जीत – Sadhu ki kahani

    सच की जीत – Sadhu ki kahani यह Hindi story एक गांव में आश्रय लेने वाले self respected sadhu की है जिसके good moral character और habits के कारण पूरा गाँव उनका respect और सेवा करता था। अचानक एक दिन स्थिति बदल गयी। सारे गाँव के लोग उस sadhu पर टूट पड़े। उन्होंने कुटी में आग लगा दी, उसका सामान फेंक दिया। उसे गालियाँ (abusing) देते […]

  • mechanic bus संकटमोचक मैकेनिक

    संकटमोचक मैकेनिक (Unforgettable Help of Mechanic)  सन् 2000 में उत्तरकाशी से गंगोत्री वापिस आते समय, बस खराब हो गई थी। ड्राईवर (driver) ने काफी प्रयास किया परन्तु बस स्ट्रार्ट नहीं हो पाई। अंधेरा होने वाला था, आस-पास कोई बस का mechanic भी नहीं मिल पाया। जो लोग मिलें उन्होंने कहा कि रात को यहाँ रूकना खतरनाक है। यह सुनते ही बस की […]

2 thoughts on “वेलेंटाइन डे का सच

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*

one × one =