कैलाश कटकर School dropout to successful entrepreneur

कैलाश कटकर School dropout to successful entrepreneur motivational story

जीवन में सफलता प्राप्त करने के लिए लगन, कड़ी मेहनत के साथ-ही-साथ हममें दूरदर्शिता और अवसर को पहचानने की क्षमता भी होनी चाहिए। यह story है कैलाश कटकर (Kailash Katkar) की जो कम स्कूली शिक्षा और कम्प्यूटर टैक्नाॅलाजी के ज्ञान का अभाव होने के वावजूद एंटी-वायरस सॉफ्टवेयर के क्षेत्र के बादशाह हैं।

अपनी पारिवारिक परिस्थिति और पढ़ाई में कोई खास रूचि न होने के कारण कटकर ने अपनी औपचारिक शिक्षा सन् 1985 में दसवीं कक्षा पास करने के बाद छोड़ दी। वे एक रेडियो-टी.वी. और केल्कुलेटर रिपेयर शाॅप में काम करने लगे। उनको लगता था इस तरह से वे अपने परिवार की आय बढानें में सहयोग कर सकते हैं। उन्होने वहां रेडियो, केल्कुलेटर और आॅफिसों में इस्तेमाल होने वाले इलेक्ट्रिकल सामानों रिपेयरिंग का काम सीखा तथा साथ-ही-साथ दुकान में पैसों का हिसाब-किताब रखना भी उन्हे आ गया था।

सन् 1990 में उन्होंने किराये में दुकान लेकर सामान रिपेयर का काम खोला और खुद के व्यवसाय के क्षेत्र में पहला कदम रखा।

उस समय कम्प्यूटर के काम में तेजी आने लगी थी। अतः वे शाम को दुकान बंद करने के बाद कम्प्यूटर की क्लाॅस मे जाने लगे। यह काम अच्छी तरह सीखने के बाद उन्होंने कम्प्यूटर एनुअन मेंटिनेंस (AMC) का काम लेना शुरू कर दिया। शुरू में कई परेशानियों के वावजूद उनका काम कुछ तेजी पकड़ने लगा था।

उस समय कम्प्यूटर में वायरस की काफी समस्या रहती थी। उनका छोटा भाई जो कि कम्प्यूटर इंजीनियरिंक की पढाई पूरी कर चुका था, की मदद से Quickheal नामक software बनाया। उन्होने दुकानदारों में इस software को बेचने का प्रयास किया लेकिन कोई भी इसे लेने को तैयार नहीं था। उन्होनें इस antivirus को AMC के साथ मुफ्त ही देना शुरू कर दिया।

उसी समय एक कम्प्यूटर वायरस आया जिसको उस समय की अंतर्राष्ट्रीय एंटीवायरस साफ्टवेयर भी हटा नहीं पाती थी। उनका साॅफ्टवेयर उसको आसानी ने हटा देता था। यहीं से उनका यह साॅफ्टवेयर काफी महसूर हो गया तथा उनके काम में तेजी आने लगी।

व्यवसाय में कुछ उतार-चढ़ाव के बाद आज उनका यह साफ्टवेयर विश्व में सबसे अधिक इस्तेमाल होने वाले एंटी-वायरस में से एक है और उनकी कम्पनी करोड़ों रूपये टर्नआवर में पहुंच चुकी है।

Also Read : लौरा वार्ड ओंगले success story


आपको कैलाश कटकर School dropout to successful entrepreneur motivational story कैसी लगी, कृप्या कमेंट बाक्स पर साझा करें।

आपके पास यदि  Hindi में कोई article, inspirational story, essay  है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ kadamtaal@gmail.com पर E-mail करें. हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ प्रकाशित करेंगे|

Random Posts

  • red cross society रेड क्रॉस सोसायटी के जनक – हेनरी डूनेंट

    Red Cross Society के जनक – हेनरी डूनेंट in Hindi Henry Dunant (Father of Red Cross Society) का जन्म 8 मई 1828 को जिनेवा, स्वीटजरलेंड में हुआ। उनके माता-पिता बहुत परोपकारी स्वभाव के थे। उनके पिताजी बैंकर थे लेकिन वे हमेशा अनाथ बच्चों को आश्रय प्रदान करने का प्रयास करते थे। हेनरी के घर में अनाथालयों और जेल तथा अस्पतालों की […]

  • gandhi गांधी जी के हनुमान | एक अनसुनी कहानी

    गांधी जी के हनुमान | एक अनसुनी कहानी 1926 के पूरे सालभर Gandhi Ji ने साबरमती और वर्धा-आश्रम में विश्राम किया। उसके बाद वे देश भर में भ्रमण के लिए निकल पड़े जिसका मुख्य उद्देश्य था-खादी चरखा का विस्तार, अस्पृश्यता निवारण, हिंदू मुस्लिम एकता (Hindu Muslim unity) बात सन् 1927 के आरम्भ की है। महाराष्ट्र मे एक दिन उनसे अनुरोध किया […]

  • allopathy hindi आधुनिक चिकित्सा पद्धति (Allopathy) का विकासक्रम

    आधुनिक चिकित्सा पद्धति का विकासक्रम Evolution / History of Modern Medical Practices (Allopathy) in Hindi पुरातनकालीन भित्तिका-चित्रों और गुफाओं की अनुकृतियों के आधार पर इस बात की पुष्टि होती है कि उस समय मनुष्य को शरीर-रचना और विकृत अंगों का पूरा ज्ञान था। मनुष्यों और पशुओं के प्रजन न सम्बन्धी रोगों के चित्र भी इन गुफाओं में मिलते हैं। मिर्जापुर […]

  • लघु हिंदी कहानी बंदर और मछली | स्वर्ग और नरक two short moral stories

    बंदर और मछली | स्वर्ग और नरक छोटी-छोटी कहानियाँ भी हमें बहुत बड़ी सीख दे जाती हैं। नीचे दो लघु हिंदी कहानियाँ (short hindi story) दी गयी हैं – पहली हिन्दी कहानी बंदर और मछली की है जो कि दोस्तों को लेकर हमें सचेत करती है तथा दूसरी लघु हिंदी कहानी मिलजुल कर रहने में ही भलाई है, इस तथ्य को समझाती है।  […]

5 thoughts on “कैलाश कटकर School dropout to successful entrepreneur

  1. मैने आपका ब्लॉग “Bloggers Recognition Award” के लिए नामांकित किया है। जिसका लिंक इस प्रकार है “http://www.jyotidehliwal.com/2017/02/bloggers-recognition-award-for-aapki.html”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*