बालक का गुस्सा

बालक का गुस्सा (Balak Ka Gussa short moral story in Hindi)

short moral story

एक समय की बात है एक छोटा बच्चा (small child) जो बहुत प्रतिभाशाली, तेज दिमाग और रचनात्मक था, उसमें एक बहुत बड़ी कमी थी। वह आत्मकेन्द्रित और बहुत गुस्से (angry) वाला था। जब उसे गुस्सा (anger) आता तो वह किसी की परवाह नहीं करता तथा उल्टा-सीधा (abusive language) बोल देता था इसलिए उसके बहुत कम दोस्त थे। (short moral story)

जैसे-जैसे बच्चा बड़ा होने लगा, माता-पिता को चिन्ता सताने लगी कि उसका यह दोष कैसे दूर किया जाए। अखिरकार पिता जी को एक आइडिया (idea) आया। उन्होंने बच्चे को हथोड़ा और कीलों का एक थैला दिया। “जब भी तुम्हें गुस्सा आये, तो तुम बाड़े की लकड़ी पर एक कील को हथोड़े से ठोक देना। जितनी तेजी से कील को हथोड़े से मार सको मारो।”

पुराने बाड़े में लगी लकड़ी बहुत मजबूत थी और हथोड़ा भी काफी भारी था इसलिए उसे चलाना इतना भी आसान नहीं था, जैसा कि बच्चे को लग रहा था।

बच्चे (child) में गुस्सा (anger) इतना ज्यादा था कि पहले दिन ही उसने 37 कीलें गाड़ दी। धीरे-धीरे समय बीतने के साथ कीलों को गाड़ने की संख्या कम होने लगी। आखिरकार वह दिन भी आया जब बच्चे को गुस्सा नहीं आया और उसने एक भी कील उस दिन बाड़े पर नहीं गाड़ी।

आज उसे अपने आप पर बहुत गर्व होने लगा। वह भागा-भागा पिता जी के पास गया और अपनी इस उपलब्धी का बखान किया।

उसके पिता जी बहुत खुश हुए। उन्होंने कहा-‘बेटा! जाकर एक कील निकाल दो। अब हर उस दिन जब तुम्हें गुस्सा (anger) न आये एक कील निकाल दिया करो।’

काफी हफ्ते बीत गये। आखिरकार वह दिन भी आया जब एक भी कील निकालनी बाकी नहीं रह गयी। बेटा पिताजी को बाड़ा दिखाने ले गया।

“बेटा! तुमने बहुत अच्छा काम किया है।” पिता ने कहा-“देखो, जहाँ-जहाँ कील गढ़ी हुई थी वहाँ पर छेद रह गया है। अब यह बाड़ा पहले के जैसा कभी नहीं रह सकता। किसी से गुस्सा या बुरा बर्ताव करना भी इसी प्रकार का नतीजा देता है। इससे फर्क नहीं पड़ता कि तुम कितनी बार माफी मांगते हो। दिल में बात तो हमेशा रह ही जाती है। दिल में लगा हुआ घाव शारीरिक घाव से भी बड़ा होता है। अतः हमें हर-एक के साथ प्रेम और सम्मान का व्यवहार करना चाहिए। हमें जितना हो सके उस निशान को रोकने का प्रयास करना चाहिए।”

कदमताल पर प्रकाशित कहानियों की सूची


आपको यह story बालक का गुस्सा (Balak Ka Gussa short moral story in Hindi)  कैसी लगी, कृप्या कमेंट बाक्स पर साझा करें।

आपके पास यदि  Hindi में कोई article, motivational & inspirational story, essay  है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ kadamtaal@gmail.com पर E-mail करें. हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ प्रकाशित करेंगे|

Random Posts

  • kadamtaal पाश्चात्य विद्वानों पर उपनिषदों का प्रभाव (Impact of Upanishads on Western scholars)

    Impact of Upanishads on Western scholars in Hindi उपनिषदों के सिद्धान्त इतने गूढ और सार्वभौम हैं कि उनका विद्वानों पर, चाहे वे किसी भी देश के निवासी और किसी भी धर्म के अनुयायी क्यों न हों, गहरा प्रभाव पड़ता है। विदेशी विद्वान उपनिषदों में बहुत से ऐसे प्रश्नों का समाधान पाकर चकित रह गये हैं, जिनका उत्तर अन्य धर्मों तथा […]

  • flop life फ्लोप लाइफ (Flop Life)

    फ्लोप लाइफ (Flop Life) in Essay आपने दूरदर्शन (Television) पर स्व. जसपाल भट्टी (Jaspal Bhatti) का फ्लोप शौ (Flop Show) देखा ही होगा, ऐसे में मेरी कल्पना में राजेश की फ्लोप लाइफ (Flop Life) है जो कहानी का नायक है। जैसा कि हमारी ज्यादातर हिन्दी फिल्मों का नायक बड़ी जटिल परिस्थितियों में बाल अवस्था बिताता है और बड़ा होकर एक […]

  • श्रीहनुमान का चातुर्य

    श्रीहनुमान का चातुर्य A short story on Sri Hanuman Intelligence in Hindi मित्रों, ऐसी हिन्दी पौराणिक कथा प्रचलित है कि एक समय कपिवर हनुमान जी की प्रशंसा के आनन्द में मग्न श्रीराम ने सीताजी से कहा-‘देवी! लंका विजय में यदि हनुमान का सहयोग न मिलता तो आज भी मैं सीता वियोगी ही बना रहता।’ सीताजी ने कहा-‘आप बार-बार हनुमान की प्रशंसा […]

  • Nek Chand खुशियाँ सिर्फ पैसों से नहीं मिलती | Nek Chand

    खुशियाँ सिर्फ पैसों से नहीं मिलती | Nek Chand यह प्रेरणादायक कहानी है नेकचंद जी (Nek Chand Saini) की, जो हमें यह शिक्षा देती है कि हमारा हर काम हमेशा पैसों अथवा लाभ को ध्यान में रखकर ही नहीं होना चाहिए। यदि आप अपनी रूचि के प्रति जुनूनी  हैं तो इसके लिए आपको रिवार्ड या एवार्ड की प्रवाह नहीं होनी चाहिए, […]

2 thoughts on “बालक का गुस्सा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*

16 − ten =