बिस्कुट चोर Short stories in Hindi

बिस्कुट चोर Short stories in Hindi

एक महिला रात को बस अड्डे में अपने गाड़ी का इंतजार कर रही थी। उसकी गाड़ी आने में अभी घंटे से भी ज्यादा समय बाकी था। अपना समय बिताने के लिए उसने स्टाल से किताब और बिस्कुट का एक पैकेट खरीदा और एक खाली सीट देखकर वहां बैठ गई।

जब वह किताब पढ़ने मे तल्लीन थी तो एक आदमी उसकी बगल में बैठ गया। न जाने कब उसने महिला के बेग से बिस्कुट (Biscuit) निकाले और खाने लगा।

बिस्कुट चोर short story hindi

उसने महिला को बिस्कुट (Biscuit) खाने को पूछा। इससे महिला को चिड़ मच गयी। उसने पूरा पेकैट उस आदमी के हाथ से अपने पास ले लिया। अब वह जितनी बार बिस्कुट लेती, वह आदमी भी एक मांग लेता, आखिर में जब एक बिस्कुट बच गया, वह सोचने लगी कि देखो अब यह आदमी क्या करता है।

वह अपने चेहरे में हल्की सी मुस्कुराहट लाता है और आखिरी बिस्कुट भी उठा लेता है और उसके दो टुकड़े करता है। वह आधा बिस्कुट महिला को देता है।

महिला मन नही मन बहुत चिढ़ गयी और विचारने लगी कि यदि मैं इतनी शरीफ न होती तो इस आदमी की अभी तक आंखें फोड़ चुकी होती। है भगवान…. यह कितना बेसरम आदमी है जिसमें थोड़ी सी भी सभ्यता (etiquette)  का नाम नहीं है।

महिला का वहां बैठे-बैठे दम घुटने लगा था। अब जैसे ही गाड़ी आयी, उसने तसल्ली की सांस ली। अपना सारा सामान इकट्ठा किया, गुस्से से बिस्कुट चोर की तरफ देखा और पांव पटकती हुई बस में सवार हो गयी।

बस के थोड़ी दूर जाने पर वह अपनी पूरी किताब पढ़ चुकी थी। वह किताब को बैग में रखने लगी। उसकी आंखे खुली की खुली रह गयी जब उसने देखा कि बिस्कुट (Biscuit) का पैकेट वैसे के वैसे ही रखा हुआ था।

यदि यह मेरा पेकेट है…… इसका मतलब है कि वह पेकेट उस आदमी का था और वह अपने बिस्कुट उसके साथ सेयर कर रहा था। महिला को अब अपनी करनी पर बहुत अफसोस होने लगा था, लेकिन काफी देर हो चुकी थी। उसे ग्लानी महसूस हो रही था कि निर्दयी और बिस्कुट (biscuit) चोर तो वह स्वंय है, न कि वह आदमी।

Also Read : प्यार की डोर – Heart-touching short stories


आपको यह story  बिस्कुट चोर  Short stories in Hindi कैसी लगी, कृप्या कमेंट बाक्स पर साझा करें।

आपके पास यदि  Hindi में कोई short stories, essay  है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ kadamtaal@gmail.com पर E-mail करें. हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ प्रकाशित करेंगे|

Random Posts

  • नैन सिंह रावत – जिन्होंने तिब्बत को अपने कदमों ने नापा

    नैन सिंह रावत (Nain Singh Rawat) का जन्म 21 अक्टूबर 1830 में पिथौरागढ़ जिले के मुनस्यारी तहसील स्थित उत्तराखंड के सुदूरवर्ती मिलम गांव में हुआ था। उनके पिताजी का नाम अमर सिंह था जिन्हें कि लोग लाटा बुढ्ढा के नाम से भी पुकारते थे। पहाड में लाटा अत्यधिक सीधे इन्सान अथवा भोले लोगों को मजाक में कहते हैं। उनकी प्रारभिक […]

  • मानवता के गिरते स्तर में पुराने किस्सों का मोल

    मानवता के गिरते स्तर में पुराने किस्सों का मोल आज अच्छे साहित्य को पढ़ने का समय ही कहाँ रह गया है। फिल्मों एवं दूरदर्शन के सीरियलों में जो कुछ भी दिखाया जा रहा है, उसके अक्रोश, घृणा एवं स्वार्थ को समाज में बढ़ावा ही मिल रहा है। ऐसा नहीं कि सब कुछ गलत ही दिखाया जाता है अपितु ऐसा कह […]

  • G N Ramachandran Our Scientist in Hindi जी.एन. रामचन्द्रन | Our Scientist in Hindi

    जी.एन. रामचन्द्रन | Our Scientist in Hindi गोपालसमुन्द्रम नारायणा रामचन्द्रन (Gopalasamudram Narayana Iyer Ramachandran popularly known as G.N. Ramachandran) उन गिनचुने India’s Great Scientists में से एक हैं जिन्होंने अपने अनुसंधानों से देश का मान ऊँचा किया। उनके पास पश्चिमी देशों से अनुसंधान के लिए कई आर्कषक आॅफर थे, परन्तु अपने गुरू सी.वी. रमण के समान ही, उन्होंने अनगिनत विपरीत […]

  • jokar अपने आपको जोकर न बनायें

    आप सबको खुश नहीं रख सकते You cannot make everyone happy मित्रों कभी न कभी तो आप सर्कस गये ही होंगे। वहां लोगों को हंसाने-गुदगुदाने के लिए एक पात्र आता है-जिसे जोकर (joker) कहते हैं। जो अपने चेहरे को अजीब से रंगो और मुखेटे से ढके रहता है। मुझे लगता है जोकर ही वह किरदार है जिसमें हर किसी को […]

6 thoughts on “बिस्कुट चोर Short stories in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*