स्वाभिमान | Inspirational Story of Hazrat Umar

स्वाभिमान | Inspirational Story of Hazrat Umar

एक बार हज़रत उमर (Hazrat Umar) अपने नगर की गलियों से गुज़र रहे थे, तभी उन्हें एक झोपड़ी से एक महिला व बच्चों के रोने की आवाज़ सुनाई दी। वे रुके, फिर जिज्ञासावश झोपड़ी के भीतर झांक कर देखा तो पाया कि एक महिला अपने रोते हुए चार बच्चोें को चुप करा रही थी, लेकिन साथ-साथ स्वयं भी रो रही थी।

Hazrat Umar ने सोचा कि बच्चे भूख से बिलख रहे होंगे और खाना अभी तैयार नहीं हुआ होगा। उन्होंने चूल्हे पर चढ़े बर्तन की ओर इशारा कर उस महिला से कहा, तुम इसमे से थोड़ा-बहुत निकाल कर बच्चों को दे क्यों नहीं देती। सामने भोजन देखकर बच्चे आश्वस्त हो जायेंगे कि बस अब तैयार हुआ भोजन उन्हें मिलने ही वाला है।

महिला ने सुबकते हुए इशारा किया कि आप खुद ही देख लें कि बर्तन में क्या है। जब Hazrat Umar ने उसमें झांक कर देखा तो सन्न रह गए। बर्तन में कुछ न था, सिर्फ पानी खौल रहा था, जिसे दिखाकर वह महिला अपने भूखे बच्चों (hungry children) का बहला रही थी।

Hazrat Umar ने पूछा, जब तुम्हारे पास बच्चों को खिलाने को कुछ नहीं है, तो तुमने अपने शासक खलीफा के पास फरियाद क्यों नहीं की?

उस महिला नें स्वाभिमान (self respect) से उत्तर दिया, जब खलीफा ने परिवार के एकमात्र कमाने और देखभाल करने वाले मेरे पति को लड़ाई पर भेजा हुआ है तो क्या उसका कर्तव्य नहीं है कि मेरी और मेरे बच्चों की देखभाल करें, मेरी हालत का पता लगाएं। मुझे ही उनके पास क्यों जाना चाहिए।

Hazrat Umar उस महिला के स्वाभिमान (Self Respect) के प्रति नतमस्तक हो गए। उन्होंने तुरन्त शाही भंडार से राशन मंगवाकर अपने हाथों से उन भूखे बच्चों को खाना खिलाया। इसके साथ ही उन सभी लोगों के घर जिन्हें लड़ाई पर भेजा गया था, दूत भेजकर उनकी हालत का पता लगाया। उन सभी परिवारों के भरण-पोषण की व्यवस्था की और मन ही मन उस महिला को धन्यवाद दिया जिसने शासक का कर्तव्य बताकर उन्हें सही कार्य करने की प्रेरणा दी।

Also Read :

रबिया बसरी: मुस्लिम महिलाओं की रोल माॅडल

मलिक मुहम्मद जायसी : कुरूपता


आपको यह कहानी स्वाभिमान | Inspirational Story of Hazrat Umar कैसी लगी, कृप्या कमेंट बाक्स पर साझा करें।

आपके पास यदि Hindi में कोई motivational inspirational article, story, essay है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ kadamtaal@gmail.com पर E-mail करें. हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ प्रकाशित करेंगे|

Random Posts

  • kadamtaal पाश्चात्य विद्वानों पर उपनिषदों का प्रभाव (Impact of Upanishads on Western scholars)

    Impact of Upanishads on Western scholars in Hindi उपनिषदों के सिद्धान्त इतने गूढ और सार्वभौम हैं कि उनका विद्वानों पर, चाहे वे किसी भी देश के निवासी और किसी भी धर्म के अनुयायी क्यों न हों, गहरा प्रभाव पड़ता है। विदेशी विद्वान उपनिषदों में बहुत से ऐसे प्रश्नों का समाधान पाकर चकित रह गये हैं, जिनका उत्तर अन्य धर्मों तथा […]

  • Malik Mohammad Jayasi कुरूपता | मलिक मुहम्मद जायसी

    कुरूपता | Malik Mohammad Jayasi Hindi Story मलिक मुहम्मद जायसी (Malik Mohammad Jayasi) (सन् 1475-1542 ई.) भक्तिकालीन हिन्दी-साहित्य के महाकवि थे। वे निर्गुण भक्ति की प्रेममार्गी शाखा के सूफी कवि थे। उन्होंने कई ग्रन्थों की रचना की। अवधी भाषा में लिखा हुआ उनका ‘पद्मावत’ ‘Padmawat’ नामक ग्रन्थ विशेष प्रसिद्ध है। उन्होंने जगत् के समस्त पदार्थों को ईश्वरीय छाया से प्रकट हुआ […]

  • लौरा वार्ड ओंगले लौरा वार्ड ओंगले success story

    लौरा वार्ड ओंगले College Dropout student success motivational story Success उन्हें मिलती है जो कुछ बड़ा करने का जज्बा रखते हैं तथा अपनी गलतियों से सबक सीखते हैं। यह story है एक जुझारू महिला लौरा वार्ड ओंगले (Laura Ward Ongley) की जिन्होने पढ़ाई बीच मे ही छोड़ दी और आज करोड़ों के कारोबार की मालकिन है। लंदन की 34 वर्षीय Laura Ward […]

  • वाल्मीकि वाल्मीकि । डाकू से महर्षि तक का सफर

    वाल्मीकि । डाकू से महर्षि तक का सफर महर्षि वाल्मीकि का पूर्व नाम रत्नाकर था। रत्नाकर का काम राहगीरों को लूट कर धन कमाना था। रत्नाकर जिस किसी को भी लूटता, वह व्यक्ति उसे रोता, गिड़गिड़ाता, भयभीत होता ही दिखता। आज उसने एक अजीब साधु देखा था, जो बिल्कुल भी नहीं डरा। इस साधु ने तो एक शब्द भी अपनी प्राणरक्षा […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*