औषधि के रूप में दूध का महत्व

औषधि के रूप में दूध का महत्व Importance of Milk as a Medicine in Hindi

भारतवर्ष में गाय के दूध को औषधीय गुण (Medicine) आति प्राचीनकाल से जाना जाता है। चिकित्सकीय दृृष्टिकोण से दूध बहुत महत्वपूर्ण है। यह शरीर के लिये उच्च श्रेणी का खाद्य आहार है।

दूध प्रोटीन, विटामिन, कार्बोहाइड्रेट्स, खनिज, वसा, इन्जाइम तथा आयरन से युक्त होता
है। दूध में प्रोटीन और कैलशियम तत्वों की अधिकता होने से यह दूधिया होता है। मानव-जाति के लिये यह सम्पूर्ण भोजन माना जाता है। दूध (Milk) को बार-बार नहीं उबालना चाजिए, ऐसा करने से उसमें मौजूद पोषिक तत्वों में कमी आ जाता है।

milk medicine

एक स्वस्थ व्यक्ति के लिए दूध (Milk) जितना उपयोगी है उससे अधिक रोगी के लिए तथा उससे भी अधिक छोटे बच्चों और वृद्धों के लिए लाभकारी है। उचित मात्रा में पिया गया दूध जल्दी पच जाता है तथा शक्ति और स्वास्थ्य प्रदान करता है। जो व्यक्ति बचपन से वृद्धावस्था तक दूध का सेवन करता है वह सदैव शक्तिशाली, बलवान, निरोगी और दीर्घजीवी होता है।

चिकित्सक सभी आयु वर्ग के लिये इसे पौष्टिक भोजन के रूप में निम्न कारणों से सेवन करने की सलाह देते हैं:-

  • प्रकृति में उपलब्ध द्रव्यों-पदार्थों में केवल दूध में शुगर लैक्टोज होता है।
  • प्राणियों में मसल्स और बुद्धि के विकास के लिये दुग्ध-शर्करा बहुत आवश्यक है।
  • शारीरिक क्रियाकलापों के लिये कार्बोहाइड्रेट आवश्यक होता है।
  • शरीर में लाल कोषिकाओं के समन्वय एवं शारीरिक शक्ति के सुधार के लिये आयरन आवश्यक है।
  • कैलशियम और फाॅस्फोरस दांतों और हड्डियों को मजबूत रखने में सहायक होते हैं।
  • विटामिन ‘ए’ आंख की रोशनी और त्वचा को स्वस्थ रखता है एवं कम्पन रोग को हटाता है।
  • विटामिन ‘बी’ नाडी-मण्डल एवं शरीर के विकास के लिये आवश्यक है।
  • विटामिन ‘सी’ शरीरिक रोगों के प्रति प्रतिरोधक शक्ति पैदा करता है।
  • विटामिन ‘डी’ सूखे रोगों से सुरक्षा प्रदान करता है।

दूध के नियमित उपयोग की अनुशंसा निम्न कारणों से भी की जाती है।

  • रात्रि में सोने से पहले एक कप दूध का सेवन रक्त के नव-निर्माण में सहायक होता है एंव विषैले पदार्थों को निःसक्रिय करता है।
  • प्रातःकाल हलके गरम दूध का सेवन पाचन क्रिया को संयोजित करने में सहायता करता है।
  • गरम दूध में मिश्री और काली मिर्च मिलाकर लेने से सर्दी-जुकाम ठीक हो जाता है।
  • दूध (Milk) में सबसे कम कोलेस्ट्राॅल होने के कारण शुगर रोगियों को वसारहित दूध सेवन की सलाह दी जाती है।
  • उच्च रक्तचाप से पीडित व्यक्ति को प्रतिदिन कम से कम 200 मी.ली.दूध पीने की सलाह दी जाती है।
  • पेप्टिक अल्सर के रोगियों के लिये दूध एक आदर्श आहार है। 50 मि.ली. ठंडे दूध में एक चम्मच चने का सत्तू दो-दो घंटे पर देने से अल्सर में शीघ्र ही लाभ हो जाता है।
  • दूध के सेवन से मानसिक शुद्धि एवं बौधिक विकास होता है।

आपको यह लेख औषधि के रूप में दूध का महत्व Importance of Milk as a Medicine in Hindi  कैसा लगा, कृप्या कमेंट बाक्स पर साझा करें। अगर आपके पास विषय से जुडी और कोई जानकारी है तो हमे kadamtaal@gmail.com पर मेल कर सकते है |

आपके पास यदि Hindi में कोई article, story, essay, poem है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Email Id है: kadamtaal@gmail.com. हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ प्रकाशित करेंगे |

Random Posts

  • greed Hindi लालच बुरी बला है (Greed is the root of all evils)

    Greed is the root of all evils (Short inspirational story) किसी गांव में हरिदत्त नाम का एक ब्राह्मण रहता था। वह जीविका चलाने के लिए खोती करता था, परंतु इसमें उसे कभी लाभ नहीं होता था। एक दिन दोपहर में धूप से पीड़ित होकर वह अपने खेत के पास स्थित एक वृक्ष की छाया में विश्राम कर रहा था। सहसा उसने […]

  • harish chandra Indian Great Scientist in Hindi हरीश चंद्र | Indian Great Scientist in Hindi

    हरीश चंद्र | Indian Great Scientist in Hindi डा. हरीश चंद्र (Dr. Harish Chandra) समकालीन पीढ़ी के अद्वितीय गणितज्ञों (Greatest Mathematician) में से एक थे। उन्होने अनंत आयामी समूह प्रतिनिधित्व  के सिद्धान्त (Representation Theory) को अपने शोध के द्वारा गणित और फिजिक्स के महत्वपूर्ण शाखा में विकसित किया। उनका जन्म 11 अक्टूबर 1923 में कानपुर में हुआ था। माता जी […]

  • Bharat Ke Mahan Vaigyanik अनिल कुमार गयेन | Bharat Ke Mahan Vaigyanik

    अनिल कुमार गयेन | Bharat Ke Mahan Vaigyanik Our Scientist अनिल कुमार गयेन (Anil Kumar Gain) का जन्म 1 फरवरी 1919 में हुआ था। उनके माता-पिता लक्खी गांव, पूर्वी मिदनापुर के निवासी थे। उनके पिता जी का नाम जिबनकृष्ण और माताजी का नाम पंचमी देवी था। जब वे काफी छोटे थे तभी उनके पिताजी का निधन हो गया। परिवार का […]

  • Ramayana Indonesia इण्डोनेशिया में रामायण (Ramayana in Indonesia)

    इण्डोनेशिया में रामायण (Ramayana in Indonesia) in Hindi इण्डोनेशिया में भारतीय शासक ‘अजी कका’ (78 ई.) के समय में संस्कृृत भाषा तथा ‘पल्लव’ एवं ‘देवनागरी’ लिपि के प्रयोग के प्रणाम मिलते हैं। बाद में यह ‘कवि-भाषा’ के रूप में विकसित हुई। राम-कथा के आगमन की तिथि पर विवाद हो सकता है, किंतु सातवीं शताब्दी के प्रम्बनान के शिव-मन्दिर पर शिलोत्कीर्ण राम-कथा […]

7 thoughts on “औषधि के रूप में दूध का महत्व

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*