कलह से हानि होती है Hindi Moral Story of Two Birds

कलह से हानि होती है Hind Moral Story of Two Birds

short story of birds

प्राचीन काल की बात है, किसी जंगल में एक व्याध रहता था। वह पक्षियों (birds) को जाल में फँसाकर अपनी आजीविका चलाता था। उसी जंगल में दो पक्षी (two birds) भी रहते थे। जो आपस में मित्र थे। सदा साथ-साथ रहते, साथ-साथ उड़ते और रात्रि में एक ही वृक्ष में आराम करते थे। बहेलिये की चुतराई समझते हुए वे एक-दूसरे को सचेत करते रहते थे और पृथ्वी पर पड़े अनाज के दानों के लोभ में नहीं पड़ते थे, इसलिये उसके जाल से वे हमेशा बचे रहते। बहेलिया उन चिड़ियों  (those birds) को अपने जाल में फँसाना चाहता, किंतु बहुत दिन ऐसे ही बीत गये, अपनी मित्रता से वे पक्षी बचे रहे।

एक दिन की बात है, उस बहेलिये ने पृथ्वी पर जाल बिछाया और दूर किसी पेड़ की आड़ में छिपकर खड़ा हो गया। संयोग की बात कि उस दिन वे दोनों पक्षी (both birds) जाल में फँस गये। वे दोनों बड़े दुःखी हो गये। जाल से निकलना सम्भव नहीं था। बहेलिया भी उसी ओ आ रहा था। फिर क्या था, दोनों ने राय की और जब तक बहेलिया पास आता कि वे दोनों जाल लेकर आकाश में उड़ गये।

बहेलियाप कुछ निराश तो हुआ, पर उसने हिम्मत न हारी। जिधर-जिधर वे पक्षी (birds) जाते, उधर-उधर ही उनके पीछे जमीन पर वह भी दौड़ता गया।

उसी वन में एक मुनि रहते थे। उन्होंने पक्षियों (birds) को पकड़ने के लिये उनका पीछा करते हुए बहेलिये को देखा तो उन्हें उसकी मुर्खर्ता पर हँसी आ गयी, जब दौड़ते-दौड़ते बहेलिया उनके आश्रम में पहुंचा तो वे उससे कहने लगे-

‘अरे व्याध! तुम मुझे बड़े ही मूर्ख मालूम होते हो, यह बड़ा आश्चर्य हे कि तुम आकाश में उड़ने वाले पक्षियों के पीछे-पीछे पृथ्वी पर पैदल दौड़ रहे हो।’

बहेलिया बोला-‘मुने! आपकी बात तो बिल्कुल ठीक है, किंतु ये पक्षी (two birds) अभी मिले हुए हैं इसलिये मेरे जाल को लिये जा रहे हैं, पर जहाँ ये झगड़ने लगेंगे, वहीं जाल समेत गिर पडेंगे और मेरे वश में आ जायेंगे।’ यह कहकर वह पुनः उन पक्षियों के पीछे भागने लगा।

कुछ दूर वे उड़े थे कि संयोगवश आपस में यह कहकर झगड़ने लगे कि जाल खींचने में तुम ताकत नहीं लगा रहे हो, सारा बोझ मुझ पर ही पड़ रहा है। यह कहते-कहते दोनों आपस में झगड़ने लगे। फलतः जाल की पकड़ ढीली हो गयी। अब वे दोनों आपस में लड़ते-झगड़ते साथ ही नीचे गिरने लगे और कूछ दूर आगे जाकर जालसहित जमीन पर गिर पड़े। बहेलिया तो पीछा कर ही रहा था, ज्यों कि जाल जमीन पर आया, त्यों ही उसने दौड़ कर जाल में फँसे उन दोनों मूर्ख पक्षियों को पकड़ लिया।

इसी प्रकार जो लोग मित्रता (friendship) छोड़कर आपस में कलह करते हैं, वे उन पक्षियों की तरह विनाश को प्राप्त होते हैं। अतः कभी भी परस्पर विरोध नहीं करना चाहिए।

पूरी लिस्टः Motivation stories and articles


आपको यह कहानी कलह से हानि होती है, story of two birds in Hindi  कैसी लगी, कृप्या कमेंट बाक्स पर साझा करें।

आपके पास यदि Hindi में कोई motivational, inspirational article, story, essay है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ kadamtaal@gmail.com पर E-mail करें. हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ प्रकाशित करेंगे|

Random Posts

  • sadhu सच की जीत – Sadhu ki kahani

    सच की जीत – Sadhu ki kahani यह Hindi story एक गांव में आश्रय लेने वाले self respected sadhu की है जिसके good moral character और habits के कारण पूरा गाँव उनका respect और सेवा करता था। अचानक एक दिन स्थिति बदल गयी। सारे गाँव के लोग उस sadhu पर टूट पड़े। उन्होंने कुटी में आग लगा दी, उसका सामान फेंक दिया। उसे गालियाँ (abusing) देते […]

  • mechanic bus संकटमोचक मैकेनिक

    संकटमोचक मैकेनिक (Unforgettable Help of Mechanic)  सन् 2000 में उत्तरकाशी से गंगोत्री वापिस आते समय, बस खराब हो गई थी। ड्राईवर (driver) ने काफी प्रयास किया परन्तु बस स्ट्रार्ट नहीं हो पाई। अंधेरा होने वाला था, आस-पास कोई बस का mechanic भी नहीं मिल पाया। जो लोग मिलें उन्होंने कहा कि रात को यहाँ रूकना खतरनाक है। यह सुनते ही बस की […]

  • jokar अपने आपको जोकर न बनायें

    आप सबको खुश नहीं रख सकते You cannot make everyone happy मित्रों कभी न कभी तो आप सर्कस गये ही होंगे। वहां लोगों को हंसाने-गुदगुदाने के लिए एक पात्र आता है-जिसे जोकर (joker) कहते हैं। जो अपने चेहरे को अजीब से रंगो और मुखेटे से ढके रहता है। मुझे लगता है जोकर ही वह किरदार है जिसमें हर किसी को […]

  • bhojan भोजन करते समय ध्यान दें!! Health Tips

    भोजन करते समय ध्यान दें!! Health Tips ईश्वर ने प्राणीमात्र को आहार का विवेक दिया है, पर मनुष्य को यह विशेष रूप से प्रदान किया है। मात्र मनुष्य ही विवेक का सदुपयोग कर इन पर विचार कर सकता है। संतुलित भोजन हमारे लिए कितना खाना आवश्यक है और हमारा संतुलित आहार कैसा होना चाहिए-इस पर विचार करें। जिन लोगों को […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*