कलह से हानि होती है Hindi Moral Story of Two Birds

कलह से हानि होती है Hind Moral Story of Two Birds

प्राचीन काल की बात है, किसी जंगल में एक व्याध रहता था। वह पक्षियों (birds) को जाल में फँसाकर अपनी आजीविका चलाता था। उसी जंगल में दो पक्षी (two birds) भी रहते थे। जो आपस में मित्र थे। सदा short story of birdsसाथ-साथ रहते, साथ-साथ उड़ते और रात्रि में एक ही वृक्ष में आराम करते थे। बहेलिये की चुतराई समझते हुए वे एक-दूसरे को सचेत करते रहते थे और पृथ्वी पर पड़े अनाज के दानों के लोभ में नहीं पड़ते थे, इसलिये उसके जाल से वे हमेशा बचे रहते। बहेलिया उन चिड़ियों  (those birds) को अपने जाल में फँसाना चाहता, किंतु बहुत दिन ऐसे ही बीत गये, अपनी मित्रता से वे पक्षी बचे रहे।

एक दिन की बात है, उस बहेलिये ने पृथ्वी पर जाल बिछाया और दूर किसी पेड़ की आड़ में छिपकर खड़ा हो गया। संयोग की बात कि उस दिन वे दोनों पक्षी (both birds) जाल में फँस गये। वे दोनों बड़े दुःखी हो गये। जाल से निकलना सम्भव नहीं था। बहेलिया भी उसी ओ आ रहा था। फिर क्या था, दोनों ने राय की और जब तक बहेलिया पास आता कि वे दोनों जाल लेकर आकाश में उड़ गये।

बहेलियाप कुछ निराश तो हुआ, पर उसने हिम्मत न हारी। जिधर-जिधर वे पक्षी (birds) जाते, उधर-उधर ही उनके पीछे जमीन पर वह भी दौड़ता गया।

उसी वन में एक मुनि रहते थे। उन्होंने पक्षियों (birds) को पकड़ने के लिये उनका पीछा करते हुए बहेलिये को देखा तो उन्हें उसकी मुर्खर्ता पर हँसी आ गयी, जब दौड़ते-दौड़ते बहेलिया उनके आश्रम में पहुंचा तो वे उससे कहने लगे-

‘अरे व्याध! तुम मुझे बड़े ही मूर्ख मालूम होते हो, यह बड़ा आश्चर्य हे कि तुम आकाश में उड़ने वाले पक्षियों के पीछे-पीछे पृथ्वी पर पैदल दौड़ रहे हो।’

बहेलिया बोला-‘मुने! आपकी बात तो बिल्कुल ठीक है, किंतु ये पक्षी (two birds) अभी मिले हुए हैं इसलिये मेरे जाल को लिये जा रहे हैं, पर जहाँ ये झगड़ने लगेंगे, वहीं जाल समेत गिर पडेंगे और मेरे वश में आ जायेंगे।’ यह कहकर वह पुनः उन पक्षियों के पीछे भागने लगा।

कुछ दूर वे उड़े थे कि संयोगवश आपस में यह कहकर झगड़ने लगे कि जाल खींचने में तुम ताकत नहीं लगा रहे हो, सारा बोझ मुझ पर ही पड़ रहा है। यह कहते-कहते दोनों आपस में झगड़ने लगे। फलतः जाल की पकड़ ढीली हो गयी। अब वे दोनों आपस में लड़ते-झगड़ते साथ ही नीचे गिरने लगे और कूछ दूर आगे जाकर जालसहित जमीन पर गिर पड़े। बहेलिया तो पीछा कर ही रहा था, ज्यों कि जाल जमीन पर आया, त्यों ही उसने दौड़ कर जाल में फँसे उन दोनों मूर्ख पक्षियों को पकड़ लिया।

इसी प्रकार जो लोग मित्रता (friendship) छोड़कर आपस में कलह करते हैं, वे उन पक्षियों की तरह विनाश को प्राप्त होते हैं। अतः कभी भी परस्पर विरोध नहीं करना चाहिए।

पूरी लिस्टः Motivation stories and articles


आपको यह कहानी कलह से हानि होती है, story of two birds in Hindi  कैसी लगी, कृप्या कमेंट बाक्स पर साझा करें।

आपके पास यदि Hindi में कोई motivational, inspirational article, story, essay है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ kadamtaal@gmail.com पर E-mail करें. हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ प्रकाशित करेंगे|

Random Posts

  • हिन्दी के प्रथम डी.लिट्. डा. पीताम्बर दत्त बड़थ्वाल

    13 दिसम्बर 1901 को लैंसडौन (गढ़वाल) के निकट कौड़िया पट्टी के पाली गांव में पंडित गौरी दत्त बड़थ्वाल के घर पीताम्बर दत्त का जन्म हुआ। पिता जी संस्कृत व ज्योतिष के अच्छे विद्वान थे। अतः उनको साहित्यिक अभिरुचियां विरासत में मिलीं । बालक पीताम्बर दत्त की आरम्भिक शिक्षा-दीक्षा का घर पर ही हुई। आगे की शिक्षा के लिए उन्होंने राजकीय […]

  • harish chandra Indian Great Scientist in Hindi हरीश चंद्र | Indian Great Scientist in Hindi

    हरीश चंद्र | Indian Great Scientist in Hindi डा. हरीश चंद्र (Dr. Harish Chandra) समकालीन पीढ़ी के अद्वितीय गणितज्ञों (Greatest Mathematician) में से एक थे। उन्होने अनंत आयामी समूह प्रतिनिधित्व  के सिद्धान्त (Representation Theory) को अपने शोध के द्वारा गणित और फिजिक्स के महत्वपूर्ण शाखा में विकसित किया। उनका जन्म 11 अक्टूबर 1923 में कानपुर में हुआ था। माता जी […]

  • allopathy hindi आधुनिक चिकित्सा पद्धति (Allopathy) का विकासक्रम

    आधुनिक चिकित्सा पद्धति का विकासक्रम Evolution / History of Modern Medical Practices (Allopathy) in Hindi पुरातनकालीन भित्तिका-चित्रों और गुफाओं की अनुकृतियों के आधार पर इस बात की पुष्टि होती है कि उस समय मनुष्य को शरीर-रचना और विकृत अंगों का पूरा ज्ञान था। मनुष्यों और पशुओं के प्रजन न सम्बन्धी रोगों के चित्र भी इन गुफाओं में मिलते हैं। मिर्जापुर […]

  • mera bharat mahan भारतीय चरित्र – Mera Bharat Mahan

    भारतीय चरित्र – Mera Bharat Mahan प्राचीन भारतीय और विदेशी इतिहासकारों और लेखकों ने भारत की महानता (Bharat ki Mahanta) और भारतीय चरित्र (Indian Character) के विषय में कंठ खोलकर प्रशंसा की है। वे कहते हैं कि भारतीयों में ईमानदारी, नैतिक चरित्रा, मिलनसारिता और दयालुता अतुलनीय है। भारतीय चरित्र के गौरव तथा महत्व के विषय में असंख्य उदाहरणों में से बहुत […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*