भिखारी की ईमानदारी | Inspirational Hindi Story of Beggar

भिखारी की ईमानदारी | Real-life Inspirational Hindi Story of Beggar 

यह हमें अचम्भित करने वाली एक ईमानदार भिखारी (honest beggar) की गजब की सच्ची कहानी है जो कि हम सबको सच्चाई और ईमानदारी की सीख देती है।  बात कुछ समय पहले की है,  हमारे दरवाजे पर एक लंगड़ा भिखारी (beggar) आने लगा था। शुरू में हम उसे कभी पैसे, कभी आटा और कभी चावल आदि दे दिया करते थे, किंतु जब उसने लगभग प्रतिदिन ही हमारे दरवाजे पर धरना देना शुरू कर दिया और बिना कुछ पाये वह टलने का नाम न लेने लगा तब घर के सब सदस्यों ने एकमत से निर्णय लिया कि आगे से भिखारी (beggar) को कुछ भी न दिया जाए।

उस दिन मेरा मन कुछ ठीक नहीं था। तभी वह beggar आ टपका और गिड़गिड़ाने लगा – ‘साहब, कल से भोजन का एक दाना भी नसीब नहीं हुआ है। कुछ खाने को मिल जाए।’ किंतु मैंने डपट दिया और कुछ दिये बिना ही जाने के लिए उसे विवश कर दिया। उसी समय मेरे बड़े भाई साहब ने घर में प्रवेश किया। वे मुझसे बोले कि आज बोनस मिल गया है, मार्केट से सामान आदि लाने के लिए तैयार हो जाओ।

किंतु उन्होेंने जैसे ही पर्स निकालने के लिए जेब में हाथ डाला, वे दंग रह गये। उन्होनें इधर-उधर देखा, फिर से जेब तलाशी ली और कहने लगे-‘अरे! मेरा पर्स कहाँ गया?’भाई साहब घबराये हुए उसी क्षण उल्टे पाँव वापस आॅफिस की तरफ भागे।

उसी समय सामने वह लंगड़ा भिखारी (beggar) आते हुए दिखाई दिया। उसे भाई साहब को चिंतित मुद्रा में देखकर पूछ ही लिया-‘साहब, लगता है आपका कुछ खो गया है।’

भाई साहब बोले-‘हाँ, भाई, मेरा पर्स पता नहीं कहाँ गिर गया है। पूरे आठ हजार रुपये थे उसमे।’

भिखारी प्रसन्न होते हुए बोला-‘तब तो यह पर्स आपका ही होगा साहब!’ उसने अपने चिथड़े में से पर्स निकाला और भाई साहब को थमाता हुआ बोला-

‘यह लीजिये, गिन लीजिये साहब! रुपये पूरे है न? यह तो अच्छा हुआ कि पर्स मुझे मिल गया, अन्यथा भगवान ही जानते होंगे आपको कितना दुःख और परेशानी होती।’

भाई साहब ने रुपये गिने तो पूरे आठ हजार ही थे। वे उसकी ईमानदारी (honesty) तथा परहित की इस निष्ठा (loyalty) को देखकर दंग रह गये। उन्होंने खुश हो कर उसे पाँच सौ रुपये देने चाहे, पर उसने उसे लेने से इन्कार कर दिया। वह बोला-‘यदि कुछ देना ही है तो दो रोटी दे दीजिये इस भूखे पेट के लिये।’ रोटियाँ पाकर, वह सहज भाव से चुपचाप वहां से चला गया, उसके लिए सब कुछ सामान्य हो गया, जैसे कुछ हुआ ही न हो। हम उस गजब के भिखारी को बस देखते ही जा रहे थे और अत्यन्त गरीबी के बावजूद उसकी इस ईमानदारी को देखकर अचंम्भित थे।

प्रेषक: अनुपम भाटिया, बिजनौर

Also Read : रेलवे सिपाही की ईमानदारी (Railway cop honesty)


आपको यह भिखारी की ईमानदारी | Real-life Inspirational Hindi Story of Beggar  कैसी लगी कृप्या कमेंट बाक्स पर साझा करें।

आपके पास यदि Hindi में कोई motivational story, inspirational article, essay है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ kadamtaal@gmail.com पर E-mail करें. हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ प्रकाशित करेंगे|

Random Posts

  • motivation, hardworking, aim, target आखिर हम बार-बार हारते क्यों है?

    आखिर हम बार-बार हारते क्यों है? Why we defeat in Hindi?  हमारे जीवन में असफलता का मुख्य कारण क्या है? कड़ी मेहनत के बावजूद हम अक्सर हार क्यों जाते हैं अर्थात् कड़ी मेहनत के बावजूद भी असफलता का क्या कारण है? सफलता के लिए क्या जरूरी है? हम अक्सर अपने रोजगार के विकास को सही दिशा क्यों नहीं दे पाते हैं? इस […]

  • valentine day वेलेंटाइन डे का सच

    वेलेंटाइन डे का सच – True Story of Valentine Day in Hindi प्रेम की अभिव्यक्ति का इस दिवस का इतिहास वास्तव में romantic तो बिल्कुल भी नहीं है। यह कहानी है एक पुजारी की जिन्होंने प्रेम को जिन्दा रखने के लिए अपने प्राणों की आहूति दी। उनके संघर्ष और बलिदान की याद में ही यह दिवस (valentine day) मनाया जाता है। […]

  • ramanaya in ancient china in hindi प्राचीन चीनी साहित्य में रामायण (Ramayana in Ancient Chinese Literature)

    Ramayana in Ancient Chinese Literature in Hindi प्राचीन चीनी साहित्य में राम कथा पर आधारित कोई मौलिक रचना नहीं हैं। ये रचानाऐं चीन में बौध भिक्षुओं द्वारा ले जायी गयी हैं। जिनको कि जातक में परिवर्तित किया गया जिसके अनुसार  भगवान बुद्ध ही पूर्व जन्म में राम हैं। चीन में रामायण की कथा का प्रवेश तीसरी शताब्दी तक हो गया […]

  • Henry IV France सभ्यता और शिष्टाचार

    सभ्यता और शिष्टाचार (Culture and etiquette), a very short inspirational story of King Henry IV of France एक बार फ्रांस के राजा हेनरी चतुर्थ (13 December 1553 – 14 May 1610) अपने अंगरक्षक के साथ पेरिस की आम सड़क पर जा रहे थे कि एक भिखारी ने अपने सिर का हैट उतार कर उन्हें अभिवादन किया। प्रत्युत्तर में हेनरी ने भी अपना […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*