महापुरुषों के पत्रों का महत्व

महापुरुषों के पत्रों का महत्व Importance of the Letters of Great Personalities in Hindi

महापुरुषों के पत्र (letters of great personalities) बड़े ही मनोरंजक एवं प्रेरणा (inspirational) देने वाले होते हैं। विश्व में अनेक महान लेखक हुए हैं, जिनके पत्र उनके साहित्य से कम रोचक या महत्वपूर्ण नहीं हैं। जब हम महापुरुषों के तिथिक्रम से संकलित पत्रों को पढ़ने बैठते हैं तो हमें ऐसा लगता है कि हम उनका जीवन-चरित्र ही पढ़ रहे हैं।

महापुरुषों के जीवनचरित के लेखन में उनके पत्रों का बहुत बड़ा महत्व है। अमेरिका के राष्ट्रपति रुजलबेल्ट के पत्र ‘Roosevelt’s Letters’ एक प्रकार से उनकी जीवनी ही है।

letters great personalities

महामहोपाध्याय पण्डित गोपीनाथ कविराज (Mahamahopadhaya Gopinath Kaviraj, 7 सितम्बर, 1887-12 जून, 1976, जो कि योग और तंत्र के प्रखंड विद्वान थे। 1934 ई. में सरकार ने उन्हें महामहोपाध्याय, आजादी के बाद भारत सरकार ने उन्हें पद्म विभूषण की उपाधि ने नवाजा था) उनकी जीवनी के लेखक डाॅ. भगवतीप्रसाद सिंह ने अपने ग्रंथ में कविराज द्वारा लिखित और प्राप्त पत्रों के लिए ‘पत्रालोक’ शीर्षक से एक स्वतंत्र अध्याय रखा है। इस अध्याय के आरम्भ में उन्होंने कहा है कि मानव जीवन में उनके द्वारा लिखे गये पत्रों का महत्व निर्विवाद है। इनमें व्यक्ति के मानस की उन सूक्ष्मतम प्रवृत्तियों का पता लगता है जो जीवन-निर्माण के अन्य किसी तरीके से सामान्यता लक्षित नहीं किये जा सकते। महापुरुषों एवं साहित्यकारों के पत्र हमारे सम्मुख विश्व-मैत्री का आदर्श उपस्थित करते हैं।

गुरुदेव रविन्द्रनाथ टैगोर द्वारा दीनबन्धु एण्ड्रूज को लंदन से लिखे गये पत्र- ‘Letters to a Friend’ शीर्षक से पुस्तक के रूप में प्रकाशित हुए हैं।

विश्वविख्यात मानवतावादी रूसी साहित्यकार लियो टाल्सटाय (Leo Tolstoy) द्वारा सन् 1887 ई. मे फ्रांसीसी नवयुवक रोमा रोलां (Romain Rolland) को जो पत्र लिखा गया था, वह सांस्कृतिक विचारों से ओत-प्रेत था। उस पत्र में रोमा रोलां की जीवनधारा ही बदल दी। इस सम्बन्ध में पं. बनारसीदास चतुर्वेदी ने लिखा है-

Leo Tolstoy की ‘What is to be done?’ पुस्तक पढ़कर युवक Romain Rolland की मानसिक स्थिति डांवाडोल हो गयी थी। वह Leo Tolstoy को अपना आदर्श मानता था। उसे Tolstoy को पत्र लिखा, कुछ दिनों तक उत्तर की प्रतीक्षा भी की और फिर इस बात को भूल ही गया। उसे बिल्कुल भी आशा नहीं थी कि Tolstoy जैसा महान लेखक उस मामूली युवक के पत्र का उत्तर देगा। किंतु एक दिन शाम के समय वह अपने कमरे में लौटा, तो देखता क्या है कि कहीं से फ्रांसीसी भाषा में एक लम्बी चिट्ठी आयी हुई है। उसको खोलने पर मालूम हुआ कि यह तो Tolstoy का पत्र है। वह पत्र 38 पृष्ठों का था, या यों कहिए कि एक छोटी सी पुस्तक ही थी। उस अपरिचित साधारण युवक को Tolstoy ने ‘प्रिय बन्धु’ लिखा था। पत्र के प्रारम्भिक शब्द थे-‘तुम्हारी पहली चिट्ठी मुझे मिली। उससे मेरा हृदय द्रवित हो गया। पढ़ते-पढ़ते आँखों में आँसू आ गये।’

Motivational Quotes of Leo Tolstoy in Hindi :

प्रत्येक व्यक्ति दुनिया बदलना चाहता है, परन्तु अपने आपको नहीं बदलता। Everyone thinks of changing the world, but no one thinks of changing himself.  -Leo Tolstoy

सबसे बड़े दो योद्धा आपका धैर्य और समय हैं। The two most powerful warriors are patience and time.  Leo Tolstoy

भगवान के लिए, कुछ पल ठहरिए, अपने काम को रोकिए और आसपास देखिए। In the name of God, stop a moment, cease your work, look around you. Leo Tolstoy

प्रसन्नता की पहली शर्त यह है कि मानव और प्रकृति के बीच का सम्बन्ध टूटना नहीं चाहिए। One of the first conditions of happiness is that the link between Man and Nature shall not be broken. Leo Tolstoy

बिना यह जाने कि मैं क्या हूँ और यहां क्यों हूँ, जीवन असम्भव है। Without knowing what I am and why I am here, life is impossible. Leo Tolstoy

जीवन का एकमात्र उद्देश्य मानवता की सेवा होना चाहिए। The sole meaning of life is to serve humanity.  Leo Tolstoy

हम हारते हैं क्यों कि हम मान लेते हैं कि हम हार गये। We lost because we told ourselves we lost. – Leo Tolstoy

इस पत्र ने युवा रोमा रोलां (Romain Rolland) के हृदय में बड़ा भारी  प्रभावा डाला। सबसे महत्वपूर्ण बात उसे यह लगी कि इस विश्वविख्यात महापुरुष ने मेरे जैसे एक साधारण युवक को इतनी लम्बी और दिल से लिखी चिट्ठी भेजी। और, तब से उस युवक ने यह निश्चित किया कि यदि कोई आदमी संकट के समय में अंतरात्मा से कोई पत्र भेजेगा तो मैं अवश्य ही उसका उत्तर दूंगा। क्योंकि संकटग्रस्त मनुष्य की सेवा ही कलाकार का सर्वोत्तम गुण है। उस नवयुवक ने आगे चल कर विश्व साहित्य में अपना एक विशेष स्थान बना लिया और अनेक अमर ग्रंथों की रचना की। उसके ग्रंथों के समान उसके पत्रों का भी महत्व है जिनके द्वारा उनके असंख्य दुःखितों के हृदय को सान्त्वना प्रदान की है। टाल्सटाय की उस एक पत्र ने जो बीज बोया था, वह वटवृक्ष के रूप में पल्लवित हुआ।

Motivational Quotes of Romain Rolland in Hindi :

यदि इस धरती पर कोई ऐसा स्थान है जहाँ मनुष्य ने अपने अस्तित्व से ही सपना देखना शुरू किया और हर किसी के सपने को वहां स्थान मिला, वह जगह केवल भारत ही है।   “If there is one place on the face of the earth where all the dreams of living men have found a home from the very earliest days when man began the dream of existence, it is India. Romain Rolland

हीरो वही है जो अपनी पूरी क्षमता के अनुसार कार्य करता है। A hero is a man who does what he can. Romain Rolland

उन लोगों के साथ तर्क करना असम्भव होता है जिनको लगता है कि सत्य उन्हें पता है और वे कुछ सुनना ही नहीं चाहते। Discussion is impossible with someone who claims not to seek the truth, but already to possess it. Romain Rolland

मैं युद्ध को घृणित समझता हूँ पर वे लोग जो बिना युद्ध में भाग लिए उसका समर्थन करते हैं उनको और अधिक नापसंद करता हूँ। I find war detestable but those who praise it without participating in it even more so.  Romain Rolland

सुबह होने से पहले आज के लिए तैयार रहें। यह न सोचें कि एक साल बाद, अथवा दस साल बाद क्या होगा। वर्तमान में जियें।  Be reverent before the dawning day. Do not think of what will be in a year, or in ten years. Think of to-day. Romain Rolland

मार्क्स और एंगेल्स (Marx and Engles) का पत्र-व्यवहार भी विश्व-इतिहास में सुप्रसिद्ध है।

महात्मा गांधी के पत्र भी अत्यन्त पाठनीय एवं मूल्यवान हैं। आचार्य काका कालेलकर ने बजाज परिवार के नाम लिखे महात्मा गांधी के पत्रों को ‘संत संवाद’ की संज्ञा दी है। इसी प्रकार ‘बापू के पत्र-कुमारी प्रभा बहन कंटक के नाम’ शीर्षक पत्र- संग्रह की भूमिका में उन्होने लोकोत्तर साधनों के पत्र-पठन को ‘तीर्थ-स्नान’ जैसा पुण्य कार्य माना है।

महात्मा गांधी द्वारा 1943 में ब्रिटिश सरकार को लिखा गया पत्र आज की तारीख में अमूल्य धरोहर हैं। इस पत्र में उन्होने लिखा था कि उनकी नजरबंदी में किया जा रहा खर्च व्यर्थ है। इस पत्र में उन्होंने ब्रिटीश सरकार से आग्रह करते हुए कहा था कि उनके साथ नजरबंद किए गए लोगों को रिहा किया जाए। इतिहासकारों के मुताबिक बापू का यह पत्र विश्व इतिहास के लिए एक अहम दस्तावेज हैं।

इस प्रकार हम देखते हैं कि महापुरुषों के पत्र उनके चरित्र के निर्मल दर्पण होते हैं। अतएव महान लोगों के जीवन चरित्र के समान ही उनके पत्र संग्रह से भी हमें चरित्र निर्माण की प्रेरणा मिलती है।


आपको यह लेख महापुरुषों के पत्रों का महत्व Importance of the Letters of Great Personalities in Hindi  कैसा लगा, कृप्या कमेंट बाक्स पर साझा करें। अगर आपके पास विषय से जुडी और कोई जानकारी है तो हमे kadamtaal@gmail.com पर मेल कर सकते है |

आपके पास यदि Hindi में कोई article, story, essay, poem है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Email Id है: kadamtaal@gmail.com. हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ प्रकाशित करेंगे.

Random Posts

  • प्यार की चोट प्यार की चोट। Heart touching story

    प्यार की चोट । Heart touching story in Hindi एक शायर ने क्या खूब लिया है “तेरे जहान मे ऐसा नहीं की प्यार न हो, मगर जहाँ हो इसकी उम्मीद वहाँ नही मिलती।”  बात कुछ साल पहले की है। लखनऊ में एक लड़की अपनी मैडिकल नर्सिंग की पढ़ाई खत्म करके किसी अच्छी नौकरी की तलाश में थी। यूँ तो सुधा ने […]

  • जीवन की सार्थकता दूसरों के लिए जीने में है

    जीवन की सार्थकता दूसरों के लिए जीने में है एक बार एक राजा ने राजमार्ग पर एक विशाल पत्थर रखवा दिया। फिर वह छिपकर बैठ गया, यह देखने के लिए कि कोई उसे उठाता है या नहीं। मार्ग में पड़े उस पत्थर उस मार्ग से निकलने वाले, कई धनी सेठों ने, दरबारियों ने भी देखा परन्तु राजमार्ग को बाधारहित करने […]

  • short hindi stories सच्चाई हर जगह चलती है

    सच्चाई हर जगह चलती है – Short Hindi stories देशबन्धु चित्तरंजनदास जब छोटे थे, तब उनके चाचा ने उनसे पूछा-‘तुम बड़े होकर क्या बनना चाहते हो।’ ‘मैं चाहे जो बनूं, किन्तु वकीन नहीं बनूंगा’-चित्तरंजन ने उत्तर दिया। चाचा फिर बोले-‘ऐसा क्यों, भला।’ ‘वकालत करने वालों को कदम-कदम पर झूठ बोलना पड़ता है। बेईमानों का साथ देना पड़ता है।’-चित्तरंजन ने कहा। […]

  • tea health चाय और हमारा स्वास्थ्य

    चाय और हमारा स्वास्थ्य Impact of Tea in our Health in Hindi क्या आप जानते हैं कि 200 वर्ष पहले भारतीय घरों में चाय नहीं होती थी। परन्तु आज चाय हमारे देश की सभ्यता का आवश्यक अंग बन गई है। घर आये मेहमान का स्वागत बिना चाय के अधूरा सा लगता है। जिस चाय से अधिकांश लोगों को इतना अधिक […]

7 thoughts on “महापुरुषों के पत्रों का महत्व

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*