इण्डोनेशिया में रामायण (Ramayana in Indonesia)

इण्डोनेशिया में रामायण (Ramayana in Indonesia) in Hindi

इण्डोनेशिया में भारतीय शासक ‘अजी कका’ (78 ई.) के समय में संस्कृृत भाषा तथा ‘पल्लव’ एवं ‘देवनागरी’ लिपि के प्रयोग के प्रणाम मिलते हैं। बाद में यह ‘कवि-भाषा’ के रूप में विकसित हुई। राम-कथा के आगमन की तिथि पर विवाद हो सकता है, किंतु सातवीं शताब्दी के प्रम्बनान के शिव-मन्दिर पर शिलोत्कीर्ण राम-कथा मिलती है, जिस पर शैव-मन्दिर पर शिलोत्कीर्ण राम-कथा मिलती है, जिस पर शैव एवं बौध शिल्प-शैलियों का प्रभाव है।

इसके उपरान्त 14वीं शताब्दी में जावा के पनातरान नामक स्थान पर निर्मित शिव-मन्दिर में भी राम-कथा मिलती है। यह राम-कथा भित्ति पर लम्ब रेखाओं में उत्कीर्ण फूल-पत्तियों की बेल से सज्जित बेड शैली में 106 दृश्यों में सम्पन्न हुई है। इन दोनों के अलावा पूर्व जावा में जलतुण्डों के अवशेषों में 10वीं शतब्दी के उत्तरार्द्ध के भित्ति-चित्र उपलब्ध हैं।

बालि में भी भित्ति-चित्रों तथा आधुनिक वास्तुकला में सीता की अग्नि-परीक्षा आदि महत्वपूर्ण दृश्यों
का अंकन होता रहा है। Indonesia में अभिलेख एवं साहित्य के रूप में राम-कथा प्राप्त होRamayana Indonesiaती है। 8वीं शताब्दी के राजा संजय के अभिलेख में राम-कथा का उल्लेख हुआ है। 9वीं शताब्दी तक मध्य जावा में रावण, लंका, पवन, अयुद्धा, भरत, राम, लाघव, सीता, बालि, लक्ष्मण इत्यादि नाम प्रचलित हो चुके थे, जिसका विस्तृृत विवेचन एच.बी. सरकार ने ‘इण्डियन इन्फ्तुएन्सेज आन दि लिटिरेचर आॅफ जावा एण्ड बालि’ में किया है। छठी शताब्दी में मध्य जावा का एक भाग ‘लंग्गा’ कहलाता है। इसी प्रकार राजा बलितुंड के एक अभिलेख में किसी प्राचीन जावा राम-कथा के पाठ की चर्चा आयी है।

प्राचीन जावा-रामायण (Java Ramayana) या प्राचीन ककविन-रामायण Indonesia की सर्वाधिक प्राचीन एवं विशालकाय रचना है, जिसके रचनाकार के रूप में योगश्वर कवि का प्रमाण मिलता है। इस रामायण में 26 सर्ग हैं, जिसमें 2771 श्लोक हैं। इसकी तुलना संस्कृत के भट्टिकाव्य से की जाती हैं, क्योंकि दोनों के कुछ सर्गों में साम्य मिलता है। इसके अतिरिक्त बालि के संस्कृत-साहित्य में भी कई ग्रन्थ हैं, जिसमें राम-कथा मिलती है।

इण्डोनेशिया में आज भी नृृत्य एवं अभिनय के माध्यम से राम-कथा प्रस्तुत की जाती है। राष्ट्रपति सुकर्णो के समय में पाकिस्तान का एक प्रतिनिधिमंडल इंडोनेशिया की यात्रा पर था। उस दौरान प्रतिनिधिमंडल को वहाँ रामलीला देखने का मौका मिला और वह इस बात से हैरान था कि एक मुस्लिम देश में रामलीला का मंचन क्यों किया जाता है। इस बारे में जब उन्होंने राष्ट्रपति से सवाल किया तो उन्होंने तपाक से जवाब दिया,

हमने अपना धर्म बदला है, अपनी संस्कृति नहीं।

Go back to: विदेशों में राम-कथा Story of Ram in the World in Hindi


आपको यह लेख इण्डोनेशिया में रामायण Ramayana in Indonesia in Hindi कैसा लगा, कृप्या कमेंट बाक्स पर साझा करें। अगर आपके पास विषय से जुडी और कोई जानकारी है तो हमे kadamtaal@gmail.com पर मेल कर सकते है |

आपके पास यदि Hindi में कोई motivational inspirational article, story, essay है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Email Id है: kadamtaal@gmail.com. हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ प्रकाशित करेंगे.

Random Posts

  • thread love प्यार की डोर

    प्यार की डोर – Thread of Love (Heart-touching Inspirational story) कड़ी ठंडी रात थी। एक बूढी औरत (old lady) की गाडी सड़क में पैंचर हो गयी। उसके पास स्टेपनी तो थी पर वह बदल नही सकती थी। गाड़ियाँ आ-जा रही थी लेकिन पिछले एक घंटे से उसकी मदद के लिए कोई आगे नहीं आया। गुजरते हुए एक आदमी ने उसको […]

  • dadi maa ke gharelu nuskhe निरोग रहने हेतु दादी माँ के घरेलू नुस्खे – Home Remedies

    निरोग रहने हेतु दादी माँ के घरेलू नुस्खे – Home Remedies in Hindi सदियों से घरेलू  इलाज के लिए कुछ नुस्खे (home remedies) अजमाये जाते रहे हैं जो कि एक पीढ़ से दूसरी पीढ़ी में अनुभव के आधार पर आगे बढ़ता रहा है। हम सब की दादी-माता जी को कई नुस्खे तो याद रहते हैं लेकिन बहुत सारे कई बार दिमाग […]

  • sarab ke labh अति शराब के लाभ – युक्ति से गुरुजी की सीख

    अति शराब के लाभ – युक्ति से गुरुजी की सीख एक समय की बात है पंजाब के एक खुशहाल सूबे में छोटा सा गाँव था-टुन्नपुर। उसका जमीदार काफी सम्पन्न था। बड़ी हवेली, खेत-खलिहान और गाय-भैंसों की कोई कमी नहीं थी। उसे अपना समय को बिताने के लिए रोज़ शाम को मित्रों के साथ बैठकर शराब पीने की लत लग गयी। […]

  • Malik Mohammad Jayasi कुरूपता | मलिक मुहम्मद जायसी

    कुरूपता | Malik Mohammad Jayasi Hindi Story मलिक मुहम्मद जायसी (Malik Mohammad Jayasi) (सन् 1475-1542 ई.) भक्तिकालीन हिन्दी-साहित्य के महाकवि थे। वे निर्गुण भक्ति की प्रेममार्गी शाखा के सूफी कवि थे। उन्होंने कई ग्रन्थों की रचना की। अवधी भाषा में लिखा हुआ उनका ‘पद्मावत’ ‘Padmawat’ नामक ग्रन्थ विशेष प्रसिद्ध है। उन्होंने जगत् के समस्त पदार्थों को ईश्वरीय छाया से प्रकट हुआ […]

One thought on “इण्डोनेशिया में रामायण (Ramayana in Indonesia)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*

15 + 14 =