मेहनत का फल | Effort Motivational Story

मेहनत का फल | Effort Motivational Story

एक दिन विंध्याचल प्रदेश के राजा के दरबार में तीन व्यापारी आए और राजा से बाले, महाराज! हम रत्नों के व्यापारी हैं, व्यापार के लिए आपके राज्य में आ रहे थे कि रास्ते में डाकुओं ने हमें लूट लिया। हमारे पास भोजन लायक भी पैसा (no money) नहीं हैं, आप कुछ सहायता (help) करें।

व्यापारियों ने सोचा कि राजा उनकी धन से help करेंगे परन्तु उनकी बातें ध्यान से सुनने के बाद राजा ने उन्हें एक-एक बोरी गेहूं देने का आदेश दिया। जब व्यापारी गेहूं लेकर जाने लगे तो राजा ने कहा, तुम्हारे रत्न इस राज्य की सीमा के भीतर लूटे हैं। यह अन्न इसी राज्य की भूमि से उपजा है। इससे तुम्हारा भरण-पोषण होगा। लेकिन इस गेहूं को तुम खुद ही साफ करना और खुद ही खाना। न किसी को देना, न किसी की मदद लेना। जाओ, एक महीने बाद आकर हमसे मिलना।

व्यापारी चले गये। उनमें से दो व्यापारी lazy थे। उन्होंने बोरे से थोड़ा गेहूं लिया, उसे साफ किया और बाकी बोरी सहित चक्की वाले को बेच (sold) दिया। तीसरा व्यापारी honest और hard working था, वह सारा गेहूं निकाल कर उसे साफ करने लगा। जब वह खाली बोरी झोड़ रहा था, तभी उसमें से एक पत्थर गिरा। व्यापारी चैंक पड़ा, वह अनगढ़ हीरा था। जौहरी ने उसे तराशने के लिए रख लिया।

निश्चित दिन तीनों व्यापारी फिर राजा के दरबार में पहुँचे। राजा ने उनसे हालचाल पूछा। दो व्यापारी खाली हाथ थे, उन्होंने बताया कि उनका गेहूं खत्म हो गया है, अब और चाहिए ताकि पेट भर सकें। जब तीसरे व्यापारी से उनका हालचाल पूछा, तो उसने राजा को प्रणाम कर अपना तराशा हुआ हीरा भेंट किया।

राजा मुस्करा कर बोला, यह तुम्हारी मेहनत का फल है, यह तुम्हारा ही है, इसे बेच कर जो धन मिले, उससे business शुरू करो। फिर दूसरे व्यापारियों को देखकर बोला, ऐसा रत्न तुम्हारी बोरियों में भी था, लेकिन तुमने मेहनत (effort) ही नहीं किया।

Also Read : पैसे का मूल्य | Value of Money


आपको यह कहानी मेहनत का फल | Effort Motivational Story in Hindi  कैसी लगी, कृप्या कमेंट बाक्स पर साझा करें।

आपके पास यदि Hindi में कोई article, story, essay है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ kadamtaal@gmail.com पर E-mail करें. हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ प्रकाशित करेंगे|

Random Posts

  • चिनुआ अचेबे आधुनिक अफ्रीकी साहित्य के जनक – चिनुआ अचेबे

    आधुनिक अफ्रीकी साहित्य के जनक – चिनुआ अचेबे Father of Modern African Literature – Chinua Achebe in Hindi चिनुआ अचेबे (Chinua Achebe) वर्तमान काल के महानतम उपन्यासकारों में से एक हैं। उनकी कहानियों का विषय-वस्तु अफ्रीकी जनमानस था। उनकी पुस्तकों का रूपांतरण चालीस से भी अधिक भाषाओं में हुआ है जो कि दुनियाभर में बहुत लोकप्रिय हैं। चिनुआ अचेबे का […]

  • cow and lion गौभक्त राजा दिलीप

    गौभक्त राजा दिलीप Gau Bhakt Raja Dalip in Hindi प्राचीन हिन्दी कहानी है, अयोध्या के राजा दिलीप बड़े त्यागी, धर्मात्मा, प्रजा का ध्यान रखने वाले थे। उनके राज्य में प्रजा संतुष्ट और सुखी थी। राजा को प्रौढावस्था तक भी कोई संतान नहीं हुई। अतः एक दिन वे रानी सुदक्षिणा सहित गुरु वसिष्ठ के आश्रम में पहुंचे और उनसे निवेदन किया […]

  • story of ram in the world विदेशों में राम-कथा (Story of Ram in the World)

    विदेशों में राम-कथा (Story of Ram in the World) राम-कथा भारत की ही नहीं, विश्व की सम्पत्ति है। वह संस्कृत भाषा में रची गई, फिर भारत की अन्य भाषाओं में उसका अनुवाद हुआ और उसके साथ-साथ अन्य देशों की भाषाओं में भी उसका ट्रान्सलेशन (translation) व कुछ परिवर्तित (some changes) रूप में पहुंची। यह जहां भी गई जनमानस केे दिल में […]

  • failure quotes hindi असफलता पर अनमोल विचार

    असफलता पर अनमोल विचार Failure Quotes in Hindi  हर व्यक्ति को खुले दिल से विफलता  (failure)को स्वीकार करना चाहिए। हम विफलता से ही सीखते हैं। दुनिया के सफलतम लोगों को विफलता जैसे कठिन मार्ग ने ही राह दिखाया है।  कभी भी सफलता को अपने दिमाग पर हावी मत होने दो तथा विफलता को दिल से मत लगाओ। Never let success […]

One thought on “मेहनत का फल | Effort Motivational Story

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*