लालच (Greed)

लालच (Greed) Motivational Story in Hindi

आपने वो पुरानी कथा सो सुनी होगी। एक व्यक्ति ने अपने यहां भोज का आयोजन किया, ऐसे अवसरों पर लोग आसपास से बर्तन माँग कर काम चला लेते थे। मित्रों को दावत दी। अगले दिन जब उसने सबके बर्तन लौटाए तो सभी बड़े बर्तनों के साथ उन्हीं जैसा एक-एक बर्तन भी साथ रखवा कर भिजवाए। जब बर्तन वालों ने इसकी वजह पूछी तो उसके कहा कि रात को तुम्हाने बर्तनों से बच्चे दिए, सो ये भी तो तुम्हारे ही हुए। पड़ोसी खुश। हर बर्तन के साथ मुफ्त में एक छोटा बर्तन भी मिल गया। कुछ दिनों के बाद वह व्यक्ति अपने यहाँ दावत के बहााने फिर पड़ोसियों के यहाँ गया और बर्तन उधार देने के लिए कहा। पड़ोसियों से खुशी-खुशी अपने बर्तन उसे दे दिए, उसे जितने कहे उससे भी ज्यादा बर्तन दे दिए। अगले दिन जब लोग अपने-अपने बर्तन वापसे लेने उसके घर पहुंचे, तो उसे एक खाली कमरा खोलकर दिखाते हुए कहा कि बर्तन तो बच्चा देते हुए भगवान को प्यारे हो गए। सारे बर्तन एक ही रात में चल बसे। अब मैं कहाँ से तुम्हें बर्तन दूँ?

लोग रो-पीटकर रह गए। उसकी बात झुठलाएं भी तो कैसे पहले जब उसने बर्तनों के साथ उनके पैदा हुए बच्चे दिए थे, तो किसी ने भी उसका विरोध नहीं किया था। लालच के कारण वे एक असंभव बात को भी नकार नहीं पाए थे। देर-सवेरे हर लोभ का यही परिणाम होता है। मोटे ब्याज के लालच में मूल से भी हाथ धोना पड़ता है।

इसी कहानी को आज के परिवेश में देखा जाए तो लगेगा नेता और जनता दोनों ही एक दूसरे को बेवकूफ बना रहे हैं। पहले जो नेता कहता है जनता मान लेती है वो चुन लिया जाता है फिर वो जो कहता है जनता को मानना पड़ता है। पहले बिना सोचे समझे जनता उसके झूठे वायदों को सही मानती है क्यों? उदाहरणार्थ दिल्ली में पानी और बिजली की कमी है। नेताओं ने बड़े-बड़े वायदे किये तो क्या जनता नहीं जानती की पानी कहाँ से लायेंगे, बिजली कहाँ से लायेंगे। जब कोई ऐसा जादू तो है नहीं परन्तु जनता है, वोट दिए। रिजल्ट के बाद अब कैसे कहें नेता से पानी और बिजली का प्रबन्ध करो।


आपको यह कहानी लालच (Greed) Motivational Story in Hindi कैसी लगी, कृप्या कमेंट बाक्स पर साझा करें।

आपके पास यदि Hindi में कोई article, story, essay, poem है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ kadamtaal@gmail.com पर E-mail करें. हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ प्रकाशित करेंगे|

Random Posts

  • वाल्मीकि वाल्मीकि । डाकू से महर्षि तक का सफर

    वाल्मीकि । डाकू से महर्षि तक का सफर महर्षि वाल्मीकि का पूर्व नाम रत्नाकर था। रत्नाकर का काम राहगीरों को लूट कर धन कमाना था। रत्नाकर जिस किसी को भी लूटता, वह व्यक्ति उसे रोता, गिड़गिड़ाता, भयभीत होता ही दिखता। आज उसने एक अजीब साधु देखा था, जो बिल्कुल भी नहीं डरा। इस साधु ने तो एक शब्द भी अपनी प्राणरक्षा […]

  • hope in hindi उम्मीद न छोड़ें! सफलता अवश्य मिलेगी।

    उम्मीद न छोड़ें! सफलता अवश्य मिलेगी। Dont Loose Hope in Hindi हम सभी अपने प्रोफेशन जीवन की यात्रा बहुत से सपनों, लक्ष्यों, उम्मीदों और प्रेरणाओं के साथ आरम्भ करते हैं। उस समय सफलता के लिए हमारा मूल मंत्र और सूत्र होता है-मैं जीतूंगा (I will win)। हम अपने जीवन में समाज को कुछ कर दिखाने और बनने की योजना बनाते […]

  • bhojan भोजन करते समय ध्यान दें!! Health Tips

    भोजन करते समय ध्यान दें!! Health Tips ईश्वर ने प्राणीमात्र को आहार का विवेक दिया है, पर मनुष्य को यह विशेष रूप से प्रदान किया है। मात्र मनुष्य ही विवेक का सदुपयोग कर इन पर विचार कर सकता है। संतुलित भोजन हमारे लिए कितना खाना आवश्यक है और हमारा संतुलित आहार कैसा होना चाहिए-इस पर विचार करें। जिन लोगों को […]

  • Nek Chand खुशियाँ सिर्फ पैसों से नहीं मिलती | Nek Chand

    खुशियाँ सिर्फ पैसों से नहीं मिलती | Nek Chand यह प्रेरणादायक कहानी है नेकचंद जी (Nek Chand Saini) की, जो हमें यह शिक्षा देती है कि हमारा हर काम हमेशा पैसों अथवा लाभ को ध्यान में रखकर ही नहीं होना चाहिए। यदि आप अपनी रूचि के प्रति जुनूनी  हैं तो इसके लिए आपको रिवार्ड या एवार्ड की प्रवाह नहीं होनी चाहिए, […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*