लालच (Greed)

लालच (Greed) Motivational Story in Hindi

आपने वो पुरानी कथा सो सुनी होगी। एक व्यक्ति ने अपने यहां भोज का आयोजन किया, ऐसे अवसरों पर लोग आसपास से बर्तन माँग कर काम चला लेते थे। मित्रों को दावत दी। अगले दिन जब उसने सबके बर्तन लौटाए तो सभी बड़े बर्तनों के साथ उन्हीं जैसा एक-एक बर्तन भी साथ रखवा कर भिजवाए। जब बर्तन वालों ने इसकी वजह पूछी तो उसके कहा कि रात को तुम्हाने बर्तनों से बच्चे दिए, सो ये भी तो तुम्हारे ही हुए। पड़ोसी खुश। हर बर्तन के साथ मुफ्त में एक छोटा बर्तन भी मिल गया। कुछ दिनों के बाद वह व्यक्ति अपने यहाँ दावत के बहााने फिर पड़ोसियों के यहाँ गया और बर्तन उधार देने के लिए कहा। पड़ोसियों से खुशी-खुशी अपने बर्तन उसे दे दिए, उसे जितने कहे उससे भी ज्यादा बर्तन दे दिए। अगले दिन जब लोग अपने-अपने बर्तन वापसे लेने उसके घर पहुंचे, तो उसे एक खाली कमरा खोलकर दिखाते हुए कहा कि बर्तन तो बच्चा देते हुए भगवान को प्यारे हो गए। सारे बर्तन एक ही रात में चल बसे। अब मैं कहाँ से तुम्हें बर्तन दूँ?

लोग रो-पीटकर रह गए। उसकी बात झुठलाएं भी तो कैसे पहले जब उसने बर्तनों के साथ उनके पैदा हुए बच्चे दिए थे, तो किसी ने भी उसका विरोध नहीं किया था। लालच के कारण वे एक असंभव बात को भी नकार नहीं पाए थे। देर-सवेरे हर लोभ का यही परिणाम होता है। मोटे ब्याज के लालच में मूल से भी हाथ धोना पड़ता है।

इसी कहानी को आज के परिवेश में देखा जाए तो लगेगा नेता और जनता दोनों ही एक दूसरे को बेवकूफ बना रहे हैं। पहले जो नेता कहता है जनता मान लेती है वो चुन लिया जाता है फिर वो जो कहता है जनता को मानना पड़ता है। पहले बिना सोचे समझे जनता उसके झूठे वायदों को सही मानती है क्यों? उदाहरणार्थ दिल्ली में पानी और बिजली की कमी है। नेताओं ने बड़े-बड़े वायदे किये तो क्या जनता नहीं जानती की पानी कहाँ से लायेंगे, बिजली कहाँ से लायेंगे। जब कोई ऐसा जादू तो है नहीं परन्तु जनता है, वोट दिए। रिजल्ट के बाद अब कैसे कहें नेता से पानी और बिजली का प्रबन्ध करो।


आपको यह कहानी लालच (Greed) Motivational Story in Hindi कैसी लगी, कृप्या कमेंट बाक्स पर साझा करें।

आपके पास यदि Hindi में कोई article, story, essay, poem है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ kadamtaal@gmail.com पर E-mail करें. हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ प्रकाशित करेंगे|

Random Posts

  • gandhi गांधी जी के हनुमान | एक अनसुनी कहानी

    गांधी जी के हनुमान | एक अनसुनी कहानी 1926 के पूरे सालभर Gandhi Ji ने साबरमती और वर्धा-आश्रम में विश्राम किया। उसके बाद वे देश भर में भ्रमण के लिए निकल पड़े जिसका मुख्य उद्देश्य था-खादी चरखा का विस्तार, अस्पृश्यता निवारण, हिंदू मुस्लिम एकता (Hindu Muslim unity) बात सन् 1927 के आरम्भ की है। महाराष्ट्र मे एक दिन उनसे अनुरोध किया […]

  • motivational stories in hindi आप मेरी माता हैं

    आप मेरी माता हैं | Maharaja Chhatrasal छत्रसाल (Raja Chhatrasal) बड़े प्रजापालक थे। वे अपनी प्रजा की देखभाल पुत्र के समान करते थे। वे राज्य का दौरा करते और जनता से उसकी कठिनाईयाँ पूछते थे। एक बार एक युवती महाराज की ओर आकर्षित हुई। वह उनके पास आकर बोली-‘राजन! आपके राज्य में मैं दुःखी हूँ।’ यह सुनकर छत्रसाल बड़े व्याकुल […]

  • raja shibi राजा शिवि का परोपकार

    राजा शिवि का परोपकार Raja Shibi Ka Paropkar in Hindi पुरुवंशी नरेश शिवि उशीनगर देश के राजा थे। वे बड़े दयालु-परोपकारी शरण में आने वालो की रक्षा करने वाले एक धर्मात्मा राजा थे। इसके यहाँ से कोई पीड़ित, निराश नहीं लौटता था। इनकी सम्पत्ति परोपकार के लिए थी। इनकी भगवान से एकमात्र कामना थी कि मैं दुःख से पीड़ित प्राणियों […]

  • kadamtal स्वाभिमान | Inspirational Story of Hazrat Umar

    स्वाभिमान | Inspirational Story of Hazrat Umar एक बार हज़रत उमर (Hazrat Umar) अपने नगर की गलियों से गुज़र रहे थे, तभी उन्हें एक झोपड़ी से एक महिला व बच्चों के रोने की आवाज़ सुनाई दी। वे रुके, फिर जिज्ञासावश झोपड़ी के भीतर झांक कर देखा तो पाया कि एक महिला अपने रोते हुए चार बच्चोें को चुप करा रही थी, […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*