रेलवे सिपाही की ईमानदारी (Railway cop honesty)

रेलवे सिपाही की ईमानदारी (Railway cop honesty)

railway cop

घटना 6 अप्रेल 1997 की है, जब मैं अपनी भतीजी के विवाह में पटना जाने के लिए जमुई रेलवे स्टेशन पर तूफान-एक्सप्रेस में बेटे के साथ सवार हुआ। बेटा सामान के साथ अन्दर था और मैं भीड़ के कारण पावदान पर ही खड़ा रह गया।

रेल खुल जाने के कारण जमुई पर उतरने वाले कुछ यात्री अपना सामान लिए-दिए घबराहट में नीचे कूद पड़े, उनके साथ ही मेरा वह वेडिंग भी नीचे गिर गया जिसे मैं नहीं देख सका। घंटो बाद अपने वेडिंग को पूरे डिब्बे में खोजा गया, परन्तु नहीं मिला। बड़ा दुःख हुआ।

आठ दिनों को वापिस आने पर मैंने जमुई रेलवे स्टेशन मास्टर से सम्पर्क किया। सामान का कोई पता न लगने की बात जानकर मैं उदास और निराश हो गया।

दूसरे दिन किसी कार्य से मुंगेर जाने के लिए जब मैं पुनः जमुई रेलवे-स्टेशन पर पहुंचा और एक रेलवे-सिपाही से अपने सामान के बारे में पूछ-ताछ की, तब उसने बताया कि ‘हाँ, एक विस्तरबंद तो कल ही मैंने जमा किया है। देख लें, कहीं आपका ही तो नहीं है।’ जा कर देखा तो वह मेरा ही था। अपने खोए हुए सामान को पाकर मेरा खुशी का ठिकाना न रहा। सभी सामान बिल्कुल ज्यो-का-त्यों था।

सिपाही की कर्तव्यपरायणता से मैं बहुत प्रभावित हुआ। मैंने उसे कुछ पैसे देने चाहे, पर उसे स्वीकार नहीं किया। अपने घर वापिस आने पर जब परिचितों और पड़ोसियों ने यह घटना सुनी तो सभी ने एक स्वर में रेलवे सिपाही की सराहना की।

प्रस्तुतिः देवेन्द्र तिवारी
Email id: devendratiwari1955@rediffmail.com

कदमताल पर प्रकाशित कहानियों की सूची


आपको यह real life inspirational story रेलवे सिपाही की ईमानदारी (Railway cop honesty) कैसा लगी, कृप्या कमेंट बाक्स पर साझा करें।

यदि आपके पास वास्तविक जीवन की कोई प्रेरणादायक कहानी है जो कि आपके साथ घटित हुई हो तथा जिसने आपको प्रभावित किया हो तो आप उस कहानी को हमारे साथ kadamtaal@gmail.com पर सेयर कर सकते हैं। हम उसे आपके नाम व पते के साथ प्रकाशित करेंगे।

Random Posts

  • heart touching story नया जन्म | Heart touching story

    नया जन्म | Heart touching story in Hindi यह दिल छूने वाली (heart touching)  हिन्दी जीवन कहानी एक कुष्ठ रोगी (kusht rogi) और उसके साथ होने वाले व्यवहार पर है जिसकी मदद के लिए एक बच्चा और उसका परिवार आगे आया। उनके द्वारा निःस्वार्थ भाव से की गई सेवा से वह कुष्ठ रोगी (kusht rogi) भला-चंगा हो गया । इसके […]

  • man ki shanti हमारी अच्छी सोच-मन की खुशी एवं मन की शान्ति

    हमारी अच्छी सोच-मन की खुशी एवं मन की शान्ति Hamari aachi soch man ki khushi man ki shanti हम अभी इस बात से अनभिज्ञ हैं कि भाग्य क्या है। हमारा luck हमारी thinking पर निर्भर करता है। बहुत महत्वपूर्ण है हमारी अन्दर चल रहे विचारों की और मन की बात। उन विचारों को समझना, गलत विचारों को रोकना है और […]

  • businessman जीवन एक प्रतिध्वनि है

    जीवन एक प्रतिध्वनि है Story of two businessman  दोस्तों, ईश्वर ने हमे प्रकृति का सबसे सुंदर उपहार अर्थात मनुष्य बनाकर भेजा है क्योंकि केवल एक मनुष्य ही है जो अपने विवेक से सही (right) या गलत (wrong) का निर्णय कर सकता है इसलिए हमें वो कार्य करने चाहिए जिससे कोई आहत न हो। एक बार की बात है एक शहर […]

  • sudha chandran सुधा चन्द्रन – यह मेरे सपने हैं

    सुधा चन्द्रन – यह मेरे सपने हैं Inspirational Story of Sudha Chandran (Classical Dancer and Actor) who win the race of success without a leg in Hindi बहुत कम ऐसे लोग देखने में मिलते हैं जिनके जीवन में त्रासदी होने पर भी वे आगे बढ़ने का हौसला नहीं खोते हैं तथा सफलता (success) का उच्च मुकाम हासिल करके सबको अचंभित करते हैं। […]

One thought on “रेलवे सिपाही की ईमानदारी (Railway cop honesty)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*