कुरूपता | मलिक मुहम्मद जायसी

कुरूपता | Malik Mohammad Jayasi Hindi Story

मलिक मुहम्मद जायसी (Malik Mohammad Jayasi) (सन् 1475-1542 ई.) भक्तिकालीन हिन्दी-साहित्य के महाकवि थे। वे निर्गुण भक्ति की प्रेममार्गी शाखा के सूफी कवि थे। उन्होंने कई ग्रन्थों की रचना की। अवधी भाषा में लिखा हुआ उनका ‘पद्मावत’ ‘Padmawat’ नामक ग्रन्थ विशेष प्रसिद्ध है। उन्होंने जगत् के समस्त पदार्थों को ईश्वरीय छाया से प्रकट हुआ माना है। उनकी मान्यता थी कि इस सृष्टि में जो भी रूप दिखाती देता है, वह परमात्मा ही है। परन्तु दुर्भाग्यवश वे स्वयं कुरूप (ugly) एवं काने (उन्हें एक आंख से दिखाई नहीं देता था)  भी थे।

Malik Mohammad Jayasi

एक बार वे दिल्ली के तत्कालीन बादशाह शेरशाह सूरी (Shershah Suri) से मिलने के लिए उनके दरबार में गये। ज्यों ही वे दरबार पहुंचे, उनकी चाल-ढाल, रूप-रंग और कुरूपता (ugliness) को देखकर सारे दरबारी ठठाकर हंसने लगे। इस अप्रत्याशित ठहाके को सुनकर उनके पांच ठिठक गये। उन्होने दरबारियों पर एक नजर डाली और शान्त भाव से बोले-

‘किस पर हंस रहे हो, मुझ पर या मुझे बनाने वाले पर?

उनके इस प्रश्न से सभी दरबारी स्तब्ध रह गये। उनके सिर शर्म से झुक गये।

महाकवि जायसी ने अपने एक ही प्रश्न से दरबारियों को बता दिया कि किसी की कुरूपता (ugliness) पर हंसना मनुष्य के निर्माता भगवान पर ही हंसना है।

प्रस्तुतिः पं राकेश ध्यानी
Email: acharyadhyanigbd@gmail.com

यह भी पढ़ें:

रबिया बसरी: मुस्लिम महिलाओं की रोल माॅडल

स्वाभिमान | Inspirational Story of Hazrat Umar


आपको यह कहानी कुरूपता | Malik Mohammad Jayasi Hindi Story   कैसी लगी, कृप्या कमेंट बाक्स पर साझा करें।

आपके पास यदि Hindi में कोई प्रेरणात्मक कहानी, घटना है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ kadamtaal@gmail.com पर E-mail करें. हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ प्रकाशित करेंगे|

Random Posts

  • यात्रा यात्रा (Tour)

    Essay on यात्रा (Tour and Travelling) in Hindi यात्रा (Tour and travelling) विषय पर चोैकिए मत, मैने तो ऐसे ही बात छेड़ दी। मुझे लगा आप लोग सफर की तैयारी कर रहे हैं, कहीं आपको कुछ लाभ ही मिल जाए। यात्रा (Tour and travelling), कितना छोटा सा शब्द है जिसमें छिपा है एक परिवर्ततन, जिज्ञासा, इच्छा, जानकारी, आत्मिक संतुष्टि, मिलन […]

  • chanakya दीपक का तेल | Chanakya story

    दीपक का तेल | Chanakya Story in Hindi मित्रों  चाणक्य (Chanakya) के काल में भारत में घरों में ताला नहीं लगाया जाता था। उसी समय चीनी ह्नेनसाँग ने भारत की यात्रा की थी। उसकी यात्रा के एक प्रेरणाप्रद प्रसंग (inspirational instance) की चर्चा कुछ विद्वानों ने की है। यह प्रसंग कुछ इस प्रकार है – जब ह्नेनसाँग भारत आया, उस […]

  • negativity क्या नकारात्मक लोगों से दूर रहना चाहिए

    क्या नकारात्मक लोगों से दूर रहना चाहिए Should we stay away from negative people in Hindi हम सब के मन में कई सवाल उमड़ते रहते हैं। negative people कौन होते हैं? क्या हमें negative persons से दूर रहना चाहिए? हम negativity को जीवन से कैसे दूर करें? हम negative thoughts से कैसे निजाद पायें? क्या negativity वास्तव में progress के लिए हानिकारक […]

  • Nek Chand खुशियाँ सिर्फ पैसों से नहीं मिलती | Nek Chand

    खुशियाँ सिर्फ पैसों से नहीं मिलती | Nek Chand यह प्रेरणादायक कहानी है नेकचंद जी (Nek Chand Saini) की, जो हमें यह शिक्षा देती है कि हमारा हर काम हमेशा पैसों अथवा लाभ को ध्यान में रखकर ही नहीं होना चाहिए। यदि आप अपनी रूचि के प्रति जुनूनी  हैं तो इसके लिए आपको रिवार्ड या एवार्ड की प्रवाह नहीं होनी चाहिए, […]

One thought on “कुरूपता | मलिक मुहम्मद जायसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*

18 + four =