कुरूपता | मलिक मुहम्मद जायसी

कुरूपता | Malik Mohammad Jayasi Hindi Story

मलिक मुहम्मद जायसी (Malik Mohammad Jayasi) (सन् 1475-1542 ई.) भक्तिकालीन हिन्दी-साहित्य के महाकवि थे। वे निर्गुण भक्ति की प्रेममार्गी शाखा के सूफी कवि थे। उन्होंने कई ग्रन्थों की रचना की। अवधी भाषा में लिखा हुआ उनका ‘पद्मावत’ ‘Padmawat’ नामक ग्रन्थ विशेष प्रसिद्ध है। उन्होंने जगत् के समस्त पदार्थों को ईश्वरीय छाया से प्रकट हुआ माना है। उनकी मान्यता थी कि इस सृष्टि में जो भी रूप दिखाती देता है, वह परमात्मा ही है। परन्तु दुर्भाग्यवश वे स्वयं कुरूप (ugly) एवं काने (उन्हें एक आंख से दिखाई नहीं देता था)  भी थे।

Malik Mohammad Jayasi

एक बार वे दिल्ली के तत्कालीन बादशाह शेरशाह सूरी (Shershah Suri) से मिलने के लिए उनके दरबार में गये। ज्यों ही वे दरबार पहुंचे, उनकी चाल-ढाल, रूप-रंग और कुरूपता (ugliness) को देखकर सारे दरबारी ठठाकर हंसने लगे। इस अप्रत्याशित ठहाके को सुनकर उनके पांच ठिठक गये। उन्होने दरबारियों पर एक नजर डाली और शान्त भाव से बोले-

‘किस पर हंस रहे हो, मुझ पर या मुझे बनाने वाले पर?

उनके इस प्रश्न से सभी दरबारी स्तब्ध रह गये। उनके सिर शर्म से झुक गये।

महाकवि जायसी ने अपने एक ही प्रश्न से दरबारियों को बता दिया कि किसी की कुरूपता (ugliness) पर हंसना मनुष्य के निर्माता भगवान पर ही हंसना है।

प्रस्तुतिः पं राकेश ध्यानी
Email: acharyadhyanigbd@gmail.com

यह भी पढ़ें:

रबिया बसरी: मुस्लिम महिलाओं की रोल माॅडल

स्वाभिमान | Inspirational Story of Hazrat Umar


आपको यह कहानी कुरूपता | Malik Mohammad Jayasi Hindi Story   कैसी लगी, कृप्या कमेंट बाक्स पर साझा करें।

आपके पास यदि Hindi में कोई प्रेरणात्मक कहानी, घटना है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ kadamtaal@gmail.com पर E-mail करें. हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ प्रकाशित करेंगे|

Random Posts

  • Kedareswar Banerjee केदारेश्वर बनर्जी | Great Indian Scientist

    केदारेश्वर बनर्जी | Great Indian Scientist in Hindi प्रोफेसर केदारेश्वर बनर्जी ने भारत में एक्स-रे क्रिस्टेलोग्राफिक (X-ray Crystallographic) (धातु के परमाणु और आणवीक संरचना का अध्ययन क्रिस्टेलोग्राफी कहलाती है) अनुसंधान की नींव रखी। बनर्जी प्रथम पंक्ति के वैज्ञानिक होने के साथ-साथ आकर्षक व्यक्तित्व, दयालु, स्नेही और पक्के इरादों वाले कर्मठ व्यक्ति थे। Prof. Kedareswar Banerjee का जन्म 15 सितम्बर 1900 सथल (पबना), […]

  • water is medicine पानी भी एक दवा है – इसके चमत्कार देखें

    पानी भी एक दवा है – इसके चमत्कार देखें Water is also a medicine – see its miracles in Hindi 1979 में जब अयातुल्लाह ने शाह से ईरान में सत्ता हथिया ली तब एक ईरानी डाक्टर फेरदून बटमंगहिलीज Fereydoon Batmanghelidj (1930 or 1931 – November 15, 2004) को अन्य बुद्धिजीवियों के साथ तेहरान के बदनाम जेल में डाल दिया गया। एक रात […]

  • negativity क्या नकारात्मक लोगों से दूर रहना चाहिए

    क्या नकारात्मक लोगों से दूर रहना चाहिए Should we stay away from negative people in Hindi हम सब के मन में कई सवाल उमड़ते रहते हैं। negative people कौन होते हैं? क्या हमें negative persons से दूर रहना चाहिए? हम negativity को जीवन से कैसे दूर करें? हम negative thoughts से कैसे निजाद पायें? क्या negativity वास्तव में progress के लिए हानिकारक […]

  • kailash katkar कैलाश कटकर | School dropout to successful entrepreneur

    Kailash Katkar | School dropout to successful entrepreneur जीवन में सफलता प्राप्त करने के लिए लगन, कड़ी मेहनत के साथ-ही-साथ हममें दूरदर्शिता और अवसर को पहचानने की क्षमता भी होनी चाहिए। यह story है Kailash Katkar की जो कम स्कूली शिक्षा और कम्प्यूटर टैक्नाॅलाजी के ज्ञान का अभाव होने के वावजूद एंटी-वायरस सॉफ्टवेयर के क्षेत्र के बादशाह हैं। अपनी पारिवारिक […]

One thought on “कुरूपता | मलिक मुहम्मद जायसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*