लालच बुरी बला है (Greed is the root of all evils)

Greed is the root of all evils (Short inspirational story)

किसी गांव में हरिदत्त नाम का एक ब्राह्मण रहता था। वह जीविका चलाने के लिए खोती करता था, परंतु इसमें उसे कभी लाभ नहीं होता था। एक दिन दोपहर में धूप से पीड़ित होकर वह अपने खेत के पास स्थित एक वृक्ष की छाया में विश्राम कर रहा था। सहसा उसने देखा कि एक भयानक सर्प उसके पास ही बाॅबी से निकलकर फन फैलाये बैठा है।

हरिदत्त आस्तिक और धर्मात्मा प्रकृति का सज्जन व्यक्ति था। उसे विचार किया कि ये नागदेव अवश्य ही मेरे खेत के देवता हैं, मैंने कभी इनकी पूजा नहीं की, लगता है इसीलिए मुझे खेती से लाभ नहीं मिला। यह सोचकर वह बाॅबी के पास जाकर बोला ‘हे नागदेवता! मुझे अब तक मालूम नहीं था कि आप यहां रहते हैं, इसलिए मैंने कभी आपकी पूजा नहीं की, अब आप मेरी रक्षा करें।’ ऐसा कहकर एक कटोरे में दूध लाकर नाग देवता के लिए रख कर वह घर चला गया।

प्रातःकाल खेत में आने पर उसने देखा कि कटोरे में एक सोने का सिक्का रखा हुआ है। अब हरिदत्त प्रतिदिन नागदेवता को दूध पिलाता और बदले में उसे सोने का सिक्का प्राप्त होता यह क्रम बहुत समय तक चलता रहा। हरिदत्त की सामाजिक और आर्थिक स्थिति बदल गयी थी। अब वह धनी हो गया था।

Also Read: नया जन्म (New life)

एक दिन उसे किसी कार्यवश दूसरे गांव जाना था। अतः उसने दैनिक कार्य अपने पुत्र को सौंप दिया। पुत्र हरिदत्त के विपरीत लालची और क्रूर स्वभाव का था। वह दूध लेकर गया और सर्प की बाॅबी के पास रख कर लौट आया। दूसरे दिन जब कटोरा लेने गया तो उसने देखा कि वहां एक सोने का सिक्का रखा हुआ है। उसे देखकर उसके मन में लालच आ गया। उसने सोचा कि इस बाॅबी में बहुत सोना होगा और यह सांप उसका रक्षक है। यदि मैं इस सांप का मारकर बाॅबी खोद दूं तो मुझे सारा सोना मिल जाएगा। यह निश्चित कर उसे सांप पर प्रहार किया, परंतु भाग्यवश सांप बच गया एवं क्रोधित हो अपने विषैले दांतों से उसे काट लिया। इस प्रकाार ब्राह्मण पुत्र लोभवश मृत्यु को प्राप्त हुआ।

अतः इसीलिए कहा जाता है कि लालच बुरी बला है।


आपको यह कहानी लालच बुरी बला है ( Greed is the root of all evils ) short inspirational story in Hindi  कैसी लगी, कृप्या कमेंट बाक्स पर साझा करें।

आपके पास यदि Hindi में कोई article, story, essay, poem है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ kadamtaal@gmail.com पर E-mail करें. हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ प्रकाशित करेंगे|

Random Posts

  • अनजाने पाप

    कपिल वर्मा धीरे-धीरे सड़क पार कर रहे थे, चारों तरफ इतनी भीड़ थी कि सड़क पार करना कठिन था आज वर्मा जी को बहुत समय बाद इस क्षेत्रा में आना हुआ था। शौरूम में कदम रखते ही, सभी कर्मचारियों की निगाहें उनकी तरफ उठ गई। शौरूम के मालिक मोहन अपनी कुर्सी से उठकर उनके स्वागत के लिए आगे बढ़ गए। […]

  • hindi first phd हिन्दी के प्रथम डी.लिट्. डा. पीताम्बर दत्त बड़थ्वाल

    13 दिसम्बर 1901 को लैंसडौन (गढ़वाल) के निकट कौड़िया पट्टी के पाली गांव में पंडित गौरी दत्त बड़थ्वाल के घर पीताम्बर दत्त का जन्म हुआ। पिता जी संस्कृत व ज्योतिष के अच्छे विद्वान थे। अतः उनको साहित्यिक अभिरुचियां विरासत में मिलीं । बालक पीताम्बर दत्त की आरम्भिक शिक्षा-दीक्षा का घर पर ही हुई। आगे की शिक्षा के लिए उन्होंने राजकीय […]

  • motivation, hardworking, aim, target आखिर हम बार-बार हारते क्यों है?

    आखिर हम बार-बार हारते क्यों है? Why we defeat?  अपने साथ घटित एक घटना को आपके साथ साझी कर रहा हूँ, जिसने मुझे सोचने को मजबूर कर दिया कि hardworking, motivation, aim, target, honesty होने पर भी हम अक्सर असफल क्यों हो जाते हैं और अपने भाग्य को कोसते हैं। मैं अपने बेग की चेन को ठीक कराना चाह रहा […]

  • K.R. Ramanathan हमारे वैज्ञानिकः के.आर. रामनाथन (K.R. Ramanathan)

    हमारे वैज्ञानिकः के.आर. रामनाथन Our Scientist K.R. Ramanathan in Hindi प्रोफेसर कलपथी रामकृृष्ण रामनाथन (Kalpathi Ramakrishna Ramanathan) का जन्म कलपथी गांव, जिला पालघाट, केरल में 28 फरवरी 1893 में हुआ था। उनके पिताजी संस्कृत व वेदों के ज्ञाता थे जिनकी की खगोल विज्ञान में भी गहरी रूचि थी। जब वे सिर्फ 13 वर्ष के थे तो उनकी माताजी का निधन हो […]

  • maharshi dadhichi महर्षि दधीचि का त्याग

    महर्षि दधीचि का त्याग Story of Maharishi Dadhichi in Hindi आजकल आये दिन हमारे कोई-न-कोई सैनिक सीमा पर दुश्मन की गोली से शहीद हो रहे हैं। वे राष्ट्र की रक्षा के लिए बिना कोई खौफ खाये अपना शरीर तक देश के लिए न्योछावर कर रहे हैं। ये सभी सैनिक महर्षि दधीचि के त्याग और समर्पण की परंपरा के वर्तमान रूप […]

  • जीवन की सार्थकता दूसरों के लिए जीने में है

    एक बार एक राजा ने राजमार्ग पर एक विशाल पत्थर रखवा दिया। फिर वह छिपकर बैठ गया, यह देखने के लिए कि कोई उसे उठाता है या नहीं। मार्ग में पड़े उस पत्थर उस मार्ग से निकलने वाले, कई धनी सेठों ने, दरबारियों ने भी देखा परन्तु राजमार्ग को बाधारहित करने के लिए, किसी ने भी कुछ नहीं किया, सब […]

  • washerman धोबी की ईमानदारी (Washerman’s Honesty)

    धोबी की ईमानदारी (Short inspirational story on Washerman’s Honesty) घटना शुक्रवार 10 जुलाई 2015 की है। मैने अपनी पेंट की जेब में 5 हजार रूपये रखे थे। दूसरे दिन सुबह घर से आॅफिस जाते समय दूसरी पेंट पहन ली और जिस पेंट में रूपये थे, घर पर छोड़ दिया। उसी दिन पत्नी ने उस पैंट को धुलवाने के लिये धोबी […]

  • hanuman and shani fight in hindi हनुमान जी द्वारा शनिदेव को दण्ड

    हनुमान जी द्वारा शनिदेव को दण्ड, short story of Hanuman and Shanidev Fight and why we devote oil to Shanidev in Hindi एक बार की बात है। शाम होने को थी। शीतल मंद-मंद हवा बह रही थी। हनुमान जी रामसेतु के समीप राम जी के ध्यान में मग्न थे। ध्यानविहीन हनुमान को बाह्य जगत की स्मृति भी न थी। उसी […]

  • motivational story of gandhi गांधी जी के हनुमान (Gandhi’s Hanuman)

    गांधी जी के हनुमान (Gandhi’s Hanuman), short inspirational story in Hindi 1926 के पूरे सालभर गांधी जी ने साबरमती और वर्धा-आश्रम में विश्राम किया। उसके बाद वे देश भर में भ्रमण के लिए निकल पड़े जिसका मुख्य उद्देश्य था-खादी चरखा का विस्तार, अस्पृृश्यता निवारण, हिंदू मुस्लिम एकता। बात सन् 1927 के आरम्भ की है। महाराष्ट्र मे एक दिन उनसे अनुरोध किया […]

  • ramanaya in ancient china in hindi प्राचीन चीनी साहित्य में रामायण (Ramayana in Ancient Chinese Literature)

    Ramayana in Ancient Chinese Literature in Hindi प्राचीन चीनी साहित्य में राम कथा पर आधारित कोई मौलिक रचना नहीं हैं। ये रचानाऐं चीन में बौध भिक्षुओं द्वारा ले जायी गयी हैं। जिनको कि जातक में परिवर्तित किया गया जिसके अनुसार  भगवान बुद्ध ही पूर्व जन्म में राम हैं। चीन में रामायण की कथा का प्रवेश तीसरी शताब्दी तक हो गया […]

2 thoughts on “लालच बुरी बला है (Greed is the root of all evils)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*