यात्रा (Tour)

Essay on यात्रा (Tour and Travelling) in Hindi

यात्रा (Tour and travelling) विषय पर चोैकिए मत, मैने तो ऐसे ही बात छेड़ दी। मुझे लगा आप लोग सफर की तैयारी कर रहे हैं, कहीं आपको कुछ लाभ ही मिल जाए। यात्रा (Tour and travelling), कितना छोटा सा शब्द है जिसमें छिपा है एक परिवर्ततन, जिज्ञासा, इच्छा, जानकारी, आत्मिक संतुष्टि, मिलन और पुण्य प्राप्ति-ऐसे अनेक लाभ-यात्रा शब्द में सम्मिलित हैं।

होटल में ठहरने के लिए, पूर्व जानकारी ले लें और हो सके तो अग्रिम बुकिंग करा कर ही जायें। जहां ठहरना हैं, उस होटल के कम से कम दो फोन नम्बर जरूर साथ रखें। अपने सामान की स्वयं देखभाल करें। सामान उतना ही ले चले जो बहुत जरूरी हो। जहां आप ठहरेंगे उन होटलों के टेलिफोन नम्बर भी घर पर बता कर जायें।

यदि आप ठंडी जगह जा रहे हैं तो होटल में बिस्तर की व्यवस्था तो होती ही है परन्तु गर्म कपड़े उतने जरूर रख लें जो आप संभाल सकें।

अपने स्वास्थ्य से सम्बन्धित दवाइयों का डिब्बा जरूर साथ रखें। घूमते-घूमते सफ़र में यदि आपका स्वास्थ्य गवाही न दे तो कमरे में ही रूक जायें, लालच में न पड़ें।

जिस समय होटल के रूम से घूमने को निकलें तो गीजर का बटन एवं रूम की लाइट इत्यादि बन्द कर दें। यदि बाहर से मच्छरों की सम्भावना हो तो खिड़की भी बन्द कर दें।

सहयात्रियों के मोबइल नम्बर जरूर नोट करके साथ रख लें। जहा भी जायें, जिस गु्रप में जाऐं, ऐसा जरूर कर लें कि एक मोबाइल फोन आप लोगों में से किसी के पास जरूर हो। पर ये क्या आपने बात तो अमल की परन्तु अधूरी, आपने रात में मोबाइल तो चार्ज ही नहीं किया। अब तो यह किस काम का, परन्तु घबराइये नहीं, पास की STD/ISD दुकान से फोन मिलाइये और अपने साथियों को अपनी जानकारी दे दीजिए।

एक छोटा टार्च, एक छतरी ले जाना न भूलें। जहां आप जा रहे हैं, यदि लौटने में रात हो गई और होटल की लाइट चली गई या बाजार में रात को लाइट चली गई तो क्या करेंगे

एक दो दिन के अन्तराल के बाद घर पर फोन करके, अपने परिवार की खैर-खबर लेना न भूलें।

कभी-कभी ड्राइवर का स्वभाव हमारे अनुकूल नहीं होता है या होटल मैनेजर या अन्य कोई भी, हम अपने शहर से बाहर हैं, ऐसे में हमें संयम रखना ही है परन्तु सभी का मन ठीक रहे, इसलिए कभी-कभी जहर को भी पीना जरूरी हो जाता है। यात्रा प्रबन्ध में आने वाली बाधाओं से घबरा कर काम नहीं चलने वाला है।

जब भी कमरे को खाली करना हो, सामान निकाल लेने के बाद भी, एक बार जरूर, तकिए के नीचे या बाथरूम में झांक लें शायद आपकी अंगूठी या घड़ी छूट गई हो। आपके नुकसान से आपका मन थोड़ा सा खिन्न हो जाएगा, यदि आप सावधानी रखें तो तनाव मुक्त एवं प्रसन्नता के साथ यात्रा (Tour) हो सकती है।

Also Read : सच्चाई हर जगह चलती है, short motivational story of Chittaranjan Das


आपको यह essay यात्रा (Tour and Travelling) in Hindi  कैसी लगी, कृप्या कमेंट बाक्स पर साझा करें।

आपके पास यदि Hindi में कोई article, story, essay है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ kadamtaal@gmail.com पर E-mail करें. हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ प्रकाशित करेंगे|

Random Posts

  • Hindi story अन्याय का कुफल

    अन्याय का कुफल | Hindi Story on Impact of Injustice यह दो व्यापारी मित्रों की हिंदी स्टोरी (Hindi story) है। एक का नाम था धर्मबुद्धि, दूसरे का दुष्टबुद्धि। वे दोनों एक बार व्यापार करने विदेश गये और वहाँ से दो हजार अशर्फियाँ कमा लाये। अपने नगर में आकर सुरक्षा के लिये उन्हे एक वृक्ष के नीचे गाड़ दिया और केवल […]

  • Henry IV France सभ्यता और शिष्टाचार

    सभ्यता और शिष्टाचार (Culture and etiquette), a very short inspirational story of King Henry IV of France एक बार फ्रांस के राजा हेनरी चतुर्थ (13 December 1553 – 14 May 1610) अपने अंगरक्षक के साथ पेरिस की आम सड़क पर जा रहे थे कि एक भिखारी ने अपने सिर का हैट उतार कर उन्हें अभिवादन किया। प्रत्युत्तर में हेनरी ने भी अपना […]

  • ramanaya in ancient china in hindi प्राचीन चीनी साहित्य में रामायण (Ramayana in Ancient Chinese Literature)

    Ramayana in Ancient Chinese Literature in Hindi प्राचीन चीनी साहित्य में राम कथा पर आधारित कोई मौलिक रचना नहीं हैं। ये रचानाऐं चीन में बौध भिक्षुओं द्वारा ले जायी गयी हैं। जिनको कि जातक में परिवर्तित किया गया जिसके अनुसार  भगवान बुद्ध ही पूर्व जन्म में राम हैं। चीन में रामायण की कथा का प्रवेश तीसरी शताब्दी तक हो गया […]

  • savitri सती सावित्री (Sati Savitri)

    सती सावित्री Story Sati Savitri and Satyavan in Hindi मद्रदेश के राजा अश्वपति धर्मात्मा एवं प्रजापालक थे। उनकी पुत्री का नाम सावित्री था। सावित्री जब सयानी और विवाह योग्य हो गयी तब राजा ने उससे कहा-पुत्री! तू अपने योग्य व स्वयं ढूंढ ले। तेरी सहायता के लिए मेरे वृद्ध मंत्री साथ जायेंगे। सवित्री ने संकोच के साथ पिता की बात […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*