यात्रा (Tour)

यात्रा (Tour) विषय पर चोैकिए मत, मैने तो ऐसे ही बात छेड़ दी। मुझे लगा आप लोग सफर की तैयारी कर रहे हैं, कहीं आपको कुछ लाभ ही मिल जाए। यात्रा (Tour), कितना छोटा सा शब्द है जिसमें छिपा है एक परिवर्ततन, जिज्ञासा, इच्छा, जानकारी, आत्मिक संतुष्टि, मिलन और पुण्य प्राप्ति-ऐसे अनेक लाभ-यात्रा शब्द में सम्मिलित हैं।

होटल में ठहरने के लिए, पूर्व जानकारी ले लें और हो सके तो अग्रिम बुकिंग करा कर ही जायें। जहां ठहरना हैं, उस होटल के कम से कम दो फोन नम्बर जरूर साथ रखें। अपने सामान की स्वयं देखभाल करें। सामान उतना ही ले चले जो बहुत जरूरी हो। जहां आप ठहरेंगे उन होटलों के टेलिफोन नम्बर भी घर पर बता कर जायें।

यदि आप ठंडी जगह जा रहे हैं तो होटल में बिस्तर की व्यवस्था तो होती ही है परन्तु गर्म कपड़े उतने जरूर रख लें जो आप संभाल सकें।

अपने स्वास्थ्य से सम्बन्धित दवाइयों का डिब्बा जरूर साथ रखें। घूमते-घूमते सफ़र में यदि आपका स्वास्थ्य गवाही न दे तो कमरे में ही रूक जायें, लालच में न पड़ें।

जिस समय होटल के रूम से घूमने को निकलें तो गीजर का बटन एवं रूम की लाइट इत्यादि बन्द कर दें। यदि बाहर से मच्छरों की सम्भावना हो तो खिड़की भी बन्द कर दें।

सहयात्रियों के मोबइल नम्बर जरूर नोट करके साथ रख लें। जहा भी जायें, जिस गु्रप में जाऐं, ऐसा जरूर कर लें कि एक मोबाइल फोन आप लोगों में से किसी के पास जरूर हो। पर ये क्या आपने बात तो अमल की परन्तु अधूरी, आपने रात में मोबाइल तो चार्ज ही नहीं किया। अब तो यह किस काम का, परन्तु घबराइये नहीं, पास की STD/ISD दुकान से फोन मिलाइये और अपने साथियों को अपनी जानकारी दे दीजिए।

एक छोटा टार्च, एक छतरी ले जाना न भूलें। जहां आप जा रहे हैं, यदि लौटने में रात हो गई और होटल की लाइट चली गई या बाजार में रात को लाइट चली गई तो क्या करेंगे

एक दो दिन के अन्तराल के बाद घर पर फोन करके, अपने परिवार की खैर-खबर लेना न भूलें।

कभी-कभी ड्राइवर का स्वभाव हमारे अनुकूल नहीं होता है या होटल मैनेजर या अन्य कोई भी, हम अपने शहर से बाहर हैं, ऐसे में हमें संयम रखना ही है परन्तु सभी का मन ठीक रहे, इसलिए कभी-कभी जहर को भी पीना जरूरी हो जाता है। यात्रा प्रबन्ध में आने वाली बाधाओं से घबरा कर काम नहीं चलने वाला है।

जब भी कमरे को खाली करना हो, सामान निकाल लेने के बाद भी, एक बार जरूर, तकिए के नीचे या बाथरूम में झांक लें शायद आपकी अंगूठी या घड़ी छूट गई हो। आपके नुकसान से आपका मन थोड़ा सा खिन्न हो जाएगा, यदि आप सावधानी रखें तो तनाव मुक्त एवं प्रसन्नता के साथ यात्रा (Tour) हो सकती है।

Random Posts

  • raja shibi ka paropkar राजा शिवि का परोपकार

    राजा शिवि का परोपकार Raja Shibi Ka Paropkar in Hindi पुरुवंशी नरेश शिवि उशीनगर देश के राजा थे। वे बड़े दयालु-परोपकारी शरण में आने वालो की रक्षा करने वाले एक धर्मात्मा राजा थे। इसके यहाँ से कोई पीड़ित, निराश नहीं लौटता था। इनकी सम्पत्ति परोपकार के लिए थी। इनकी भगवान से एकमात्र कामना थी कि मैं दुःख से पीड़ित प्राणियों […]

  • हमारी अच्छी सोच-मन की खुशी एवं मन की शान्ति

    हम अभी इस बात से अनभिज्ञ हैं कि भाग्य क्या है। हमारा भाग्य हमारी सोच पर निर्भर करता है। बहुत महत्वपूर्ण है हमारी अन्दर चल रहे विचारों की और मन की बात। उन विचारों को समझना, गलत विचारों को रोकना है और अच्छे विचारों को ही स्थान देना है। किसी के द्वारा हमारे साथ किए गए गलत व्यवहार के लिए, […]

  • लौरा वार्ड ओंगले लौरा वार्ड ओंगले success story

    लौरा वार्ड ओंगले College Dropout student success motivational story Success उन्हें मिलती है जो कुछ बड़ा करने का जज्बा रखते हैं तथा अपनी गलतियों से सबक सीखते हैं। यह story है एक जुझारू महिला लौरा वार्ड ओंगले (Laura Ward-Ongley) की जिन्होने पढ़ाई बीच मे ही छोड़ दी और आज करोड़ों के कारोबार की मालकिन है। लंदन की 34 वर्षीय Laura Ward एक छोटे […]

  • motivational story of chanakya in Hindi दीपक का तेल (Lamp oil)

    दीपक का तेल (Lamp oil) Motivational story of Chanakya in Hindi मित्रों  चाणक्य के काल में भारत में घरों में ताला नहीं लगाया जाता था। उसी समय चीनी ह्नेनसाँग ने भारत की यात्रा की थी। उसकी यात्रा के एक प्रेरणाप्रद प्रसंग की चर्चा कुछ विद्वानों ने की है। यह प्रसंग कुछ इस प्रकार है – जब ह्नेनसाँग भारत आया, उस […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*