संकटमोचक मैकेनिक

संकटमोचक मैकेनिक (Unforgettable Help of Mechanic) 

सन् 2000 में उत्तरकाशी से गंगोत्री वापिस आते समय, बस खराब हो गई थी। ड्राईवर (driver) ने काफी प्रयास किया परन्तु बस स्ट्रार्ट नहीं हो पाई। अंधेरा होने वाला था, आस-पास कोई बस का mechanic भी नहीं मिल पाया। जो लोग मिलें उन्होंने कहा कि रात को यहाँ रूकना खतरनाक है। यह सुनते ही बस की महिला यात्री रोने लग गई। जब कोई बात नहीं बनी तब सभी से हनुमान चालीसा का पाठ करने को कहा गया। यात्री पाठ करने लगे और हमने एक दो यात्रियों के साथ आती-जाती बसों को रोकने का प्रयास शुरू किया परन्तु बसें नहीं रूकी।

काफी देर बार एक बस को रोकने में हम कामयाब हो गए। हमने ड्राईवर को बताया कि आस-पास कोई bus mechanic मिल जाये तो हमारा काम बन जाएगा। कृपया करके एक व्यक्ति को वहाँ तक छोड़ दें।

उस बस में बैठे हुए एक व्यक्ति ने पूछा कि बस में क्या खराबी है। मैं देख लेता हूँ। और वह व्यक्ति अपना थैला लेकर उतर गया। वह बस अपने गन्तव्य को चली गई। उसने देख कर बताया कि बस (bus) का एक छोटा सा पुर्जा खराब हो गया है वह नया लगाना पड़ेगा। अब वह पुर्जा रात में पहाड़ों में कहाँ मिलेगा। इस पर उस व्यक्ति ने कहा कि शायद मेरे थैले में एक पुर्जा है लगा कर देख लेते हैं और उस आदमी का प्रयास सफल हो गया। गाड़ी स्ट्रार्ट हो गई। सभी ने हनुमान जी की जय-जयकार की।

Mechanic से मेहनत एवं सामान की राशि चुकाने की बात आई तो उसने पैसे लेने से मना कर दिया। उसने कहा कि हनुमान जी भगवान की पूजा की जा रही थी इससे अधिक में क्या लूँ, मुझे रास्ते में मेरे गाँव के पास छोड़ देना। वह रास्ते में अंधेरे में उतर गए और औझल हो गए। वास्तव में संकटमोचक ही मैकेनिक के रूप में आये थे। उस संकट की विकट घड़ी में हमें जिस तरीके से बचाया है।

प्रेषक: दलीप कुमार, द्वारका, दिल्ली

Also read : भिखारी की ईमानदारी


आपको यह real life inspirational story संकटमोचक मैकेनिक (Unforgettable Help of Mechanic)   कैसी लगी कृप्या कमेंट बाक्स पर साझा करें।

यदि आपके पास वास्तविक जीवन से जुड़ी कोई प्रेरणादायक कहानी है जो कि आपके साथ घटित हुई हो तथा जिसने आपको प्रभावित किया हो तो आप उस कहानी को हमारे साथ kadamtaal@gmail.com पर सेयर कर सकते हैं। हम उसे आपके नाम व पते के साथ प्रकाशित करेंगे।

Random Posts

  • effort मेहनत का फल | Effort Motivational Story

    मेहनत का फल | Effort Motivational Story एक दिन विंध्याचल प्रदेश के राजा के दरबार में तीन व्यापारी आए और राजा से बाले, महाराज! हम रत्नों के व्यापारी हैं, व्यापार के लिए आपके राज्य में आ रहे थे कि रास्ते में डाकुओं ने हमें लूट लिया। हमारे पास भोजन लायक भी पैसा (no money) नहीं हैं, आप कुछ सहायता (help) […]

  • motivational stories in hindi आप मेरी माता हैं

    आप मेरी माता हैं | Maharaja Chhatrasal छत्रसाल (Raja Chhatrasal) बड़े प्रजापालक थे। वे अपनी प्रजा की देखभाल पुत्र के समान करते थे। वे राज्य का दौरा करते और जनता से उसकी कठिनाईयाँ पूछते थे। एक बार एक युवती महाराज की ओर आकर्षित हुई। वह उनके पास आकर बोली-‘राजन! आपके राज्य में मैं दुःखी हूँ।’ यह सुनकर छत्रसाल बड़े व्याकुल […]

  • कमरों का आवंटन

    कमरों का आवंटन (Allotment of Hotel Rooms) हम लोगों का यात्रा संगठन है जिसके रमेश चन्द शर्मा जी अध्यक्ष है। श्रीनाथद्वारा की यात्रा के दौरान एक घटना का ज़िक्र करना जरूरी लग रहा है। जैसा कि हर यात्रा में गंतव्य पर पहुंच कर, भाईसाहब रमेश चन्द शर्मा जी कमरे सदस्यों को आवंटित कर देते हैं। यहाँ भी ऐसा ही किया गया। […]

  • लौरा वार्ड ओंगले लौरा वार्ड ओंगले success story

    लौरा वार्ड ओंगले College Dropout student success motivational story Success उन्हें मिलती है जो कुछ बड़ा करने का जज्बा रखते हैं तथा अपनी गलतियों से सबक सीखते हैं। यह story है एक जुझारू महिला लौरा वार्ड ओंगले (Laura Ward-Ongley) की जिन्होने पढ़ाई बीच मे ही छोड़ दी और आज करोड़ों के कारोबार की मालकिन है। लंदन की 34 वर्षीय Laura Ward एक छोटे […]

One thought on “संकटमोचक मैकेनिक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*