भूल सुधार एवं क्षमा करना

भूल सुधार एवं क्षमा करना
Apology and Forgiveness in Hindi

यदि हमें यह आभास हो गया कि संस्कार ही इस जीवन धारा के मूल में विराजमान हैं तो हम अपनी जीवन शैली को बदलने का प्रयास कर सकते हैं। जैसे हमारी पुरानी मान्यताओं/अनुभवों/संस्कारों के कारण जिस किसी से भी हमारे संबन्धों में दरार पड़ गई है। उस दरार को भरने का प्रयास कर सकते हैं। जो भी गलतियाँ हमारी गलत सोच के कारण हुई उन्हें सुधार सकते हैं। हमारी सोच के द्वारा हुए कार्य के फलस्वरूप हमारा भाग्य बन रहा है।

अतः जो कुछ भी हम अपने भाग्य के सुधार के लिए कर सकते हैं, उसके लिए प्रयास आरम्भ कर देने चाहिए। मन में कुंठा के, द्वेष के, घृणा के विचार इत्यादि ऐसे निम्न स्तर के विचार जो परिपक्य होकर हमारी आदत/संस्कार बन गए हैं। जिससे हमारा व्यक्तित्व ही जो होना चाहिए था उसकी बजाए कुछ और ही दिखता है। जैसे ही हम इस निर्णय पर पहुँचे, तो इस जीवन में अब तक हम से जो गलतियाँ/भूल हुई हैं। क्या हमें उनके सुधार के लिए कुछ नहीं करना चाहिए।

हमसे कितनी mistakes तो जाने-अनजाने में हो ही जाती हैं। कुछ हमारी पुरानी मान्यतायें, पुराने अनुभव, हमारी आदतों के कारण, हमने किसी का नुकसान या अहित किया है या हुआ है। हमें आगे बढ़कर उन भूलों का प्रायश्चित (apology) करना चाहिए। इसके साथ-साथ किसी दूसरे की गलती को क्षमा (forgive) कर देना चाहिए जिससे हमारे मन में चल रहा द्वंद्व समाप्त हो जाए। इससे एक नई परिपाटी तैयार हो जाएगी और समाज एवं संसार में अधिकांशतः अनजानी भूलों में सुधार की प्रक्रिया आरम्भ होने से हमारा वर्तमान एवं भविष्य दोनों में ही सुधार हो पाएगा। हम अगर आयु में भी सीनियर सिटिजन हो गए हैं तो हम अपने परिवार के अन्य सदस्यों की सोच को भी धीरे-धीरे बदल सकते हैं। यह एक धीमी गति की प्रक्रिया है जो केवल जिज्ञासु पर ही असर कर सकती है।

Also Read : अनजाने पाप


आपको यह essay भूल सुधार एवं क्षमा करना Apology and Forgiveness in Hindi कैसी लगी, कृप्या कमेंट बाक्स पर साझा करें।

आपके पास यदि Hindi में कोई motivational article, story, essay है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ kadamtaal@gmail.com पर E-mail करें. हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ प्रकाशित करेंगे|

Random Posts

  • Kedareswar Banerjee केदारेश्वर बनर्जी | Great Indian Scientist

    केदारेश्वर बनर्जी | Great Indian Scientist in Hindi प्रोफेसर केदारेश्वर बनर्जी ने भारत में एक्स-रे क्रिस्टेलोग्राफिक (X-ray Crystallographic) (धातु के परमाणु और आणवीक संरचना का अध्ययन क्रिस्टेलोग्राफी कहलाती है) अनुसंधान की नींव रखी। बनर्जी प्रथम पंक्ति के वैज्ञानिक होने के साथ-साथ आकर्षक व्यक्तित्व, दयालु, स्नेही और पक्के इरादों वाले कर्मठ व्यक्ति थे। Prof. Kedareswar Banerjee का जन्म 15 सितम्बर 1900 सथल (पबना), […]

  • red cross society रेड क्रॉस सोसायटी के जनक – हेनरी डूनेंट

    Red Cross Society के जनक – हेनरी डूनेंट in Hindi Henry Dunant (Father of Red Cross Society) का जन्म 8 मई 1828 को जिनेवा, स्वीटजरलेंड में हुआ। उनके माता-पिता बहुत परोपकारी स्वभाव के थे। उनके पिताजी बैंकर थे लेकिन वे हमेशा अनाथ बच्चों को आश्रय प्रदान करने का प्रयास करते थे। हेनरी के घर में अनाथालयों और जेल तथा अस्पतालों की […]

  • Henry IV France सभ्यता और शिष्टाचार

    सभ्यता और शिष्टाचार (Culture and etiquette), a very short inspirational story of King Henry IV of France एक बार फ्रांस के राजा हेनरी चतुर्थ (13 December 1553 – 14 May 1610) अपने अंगरक्षक के साथ पेरिस की आम सड़क पर जा रहे थे कि एक भिखारी ने अपने सिर का हैट उतार कर उन्हें अभिवादन किया। प्रत्युत्तर में हेनरी ने भी अपना […]

  • sean swarner कोई भी शिखर हिम्मत से ऊँचा नहीं होता

    कोई भी शिखर हिम्मत से ऊँचा नहीं होता Sean Swarner Motivational Story in Hindi उन्होंने दो बार बिल्कुल अलग-अलग किस्म के खतरनाक कैंसर की बीमारी से विजय प्राप्त की। उन्होंने एवरेस्ट को फतह किया, वह भी सिर्फ एक लंग्स के साथ। वे एथलिट के साथ-साथ मोटिवेशनल स्पीकर भी हैं। उनकी गिनती वर्तमान समय के सबसे प्रभावशाली मोटिवेशन स्पीकरों में की जाती […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*