भूल सुधार एवं क्षमा करना

भूल सुधार एवं क्षमा करना
Apology and Forgiveness in Hindi

यदि हमें यह आभास हो गया कि संस्कार ही इस जीवन धारा के मूल में विराजमान हैं तो हम अपनी जीवन शैली को बदलने का प्रयास कर सकते हैं। जैसे हमारी पुरानी मान्यताओं/अनुभवों/संस्कारों के कारण जिस किसी से भी हमारे संबन्धों में दरार पड़ गई है। उस दरार को भरने का प्रयास कर सकते हैं। जो भी गलतियाँ हमारी गलत सोच के कारण हुई उन्हें सुधार सकते हैं। हमारी सोच के द्वारा हुए कार्य के फलस्वरूप हमारा भाग्य बन रहा है।

अतः जो कुछ भी हम अपने भाग्य के सुधार के लिए कर सकते हैं, उसके लिए प्रयास आरम्भ कर देने चाहिए। मन में कुंठा के, द्वेष के, घृणा के विचार इत्यादि ऐसे निम्न स्तर के विचार जो परिपक्य होकर हमारी आदत/संस्कार बन गए हैं। जिससे हमारा व्यक्तित्व ही जो होना चाहिए था उसकी बजाए कुछ और ही दिखता है। जैसे ही हम इस निर्णय पर पहुँचे, तो इस जीवन में अब तक हम से जो गलतियाँ/भूल हुई हैं। क्या हमें उनके सुधार के लिए कुछ नहीं करना चाहिए।

हमसे कितनी mistakes तो जाने-अनजाने में हो ही जाती हैं। कुछ हमारी पुरानी मान्यतायें, पुराने अनुभव, हमारी आदतों के कारण, हमने किसी का नुकसान या अहित किया है या हुआ है। हमें आगे बढ़कर उन भूलों का प्रायश्चित (apology) करना चाहिए। इसके साथ-साथ किसी दूसरे की गलती को क्षमा (forgive) कर देना चाहिए जिससे हमारे मन में चल रहा द्वंद्व समाप्त हो जाए। इससे एक नई परिपाटी तैयार हो जाएगी और समाज एवं संसार में अधिकांशतः अनजानी भूलों में सुधार की प्रक्रिया आरम्भ होने से हमारा वर्तमान एवं भविष्य दोनों में ही सुधार हो पाएगा। हम अगर आयु में भी सीनियर सिटिजन हो गए हैं तो हम अपने परिवार के अन्य सदस्यों की सोच को भी धीरे-धीरे बदल सकते हैं। यह एक धीमी गति की प्रक्रिया है जो केवल जिज्ञासु पर ही असर कर सकती है।

Also Read : अनजाने पाप


आपको यह essay भूल सुधार एवं क्षमा करना Apology and Forgiveness in Hindi कैसी लगी, कृप्या कमेंट बाक्स पर साझा करें।

आपके पास यदि Hindi में कोई motivational article, story, essay है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ kadamtaal@gmail.com पर E-mail करें. हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ प्रकाशित करेंगे|

Random Posts

  • अनजाने पाप

    कपिल वर्मा धीरे-धीरे सड़क पार कर रहे थे, चारों तरफ इतनी भीड़ थी कि सड़क पार करना कठिन था आज वर्मा जी को बहुत समय बाद इस क्षेत्रा में आना हुआ था। शौरूम में कदम रखते ही, सभी कर्मचारियों की निगाहें उनकी तरफ उठ गई। शौरूम के मालिक मोहन अपनी कुर्सी से उठकर उनके स्वागत के लिए आगे बढ़ गए। […]

  • short moral story बालक का गुस्सा

    बालक का गुस्सा (Balak Ka Gussa short moral story in Hindi) एक समय की बात है एक छोटा बच्चा (small child) जो बहुत प्रतिभाशाली, तेज दिमाग और रचनात्मक था, उसमें एक बहुत बड़ी कमी थी। वह आत्मकेन्द्रित और बहुत गुस्से (angry) वाला था। जब उसे गुस्सा (anger) आता तो वह किसी की परवाह नहीं करता तथा उल्टा-सीधा (abusive language) बोल […]

  • heliotharapy प्राचीन चिकित्सा पद्धति हिलियोथेरपी

    प्राचीन चिकित्सा पद्धति हिलियोथेरपी Ancient Heliotherapy  treatment in Hindi कई प्राचीन संस्कृतियों में हिलियोथेरेपी (Heliotherapy) से ईलाज किया जाता था, जिसमें प्राचीन ग्रीस, मिस्त्र और प्राचीन रोम के लोग शामिल है। इंका, असीरियन और शुरूआती जर्मन लोग भी सूर्य की स्वास्थ्य के देवता के रूप में पूजा करते थे। प्राचीन भारतीय साहित्य में भी 1500 ईसा पूर्व जड़ी बूटियां और […]

  • ant जीवन में सफल होने के लिए क्या करें?

    जीवन में सफल होने के लिए क्या करें? How to be successful in life in Hindi? हम सब जीवन के अपने-अपने क्षेत्र में सफल (successful) होना चाहते हैं। सब इसके लिए जी-तोड़ पर प्रयास भी करते हैं। हमारे सामने यह सवाल हर समय कौंधता है कि आखिर जीवन में सफल होने के क्या उपाय है तथा तेजी से सफलता के […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*