मेरा परिचय

दोस्तों,  मेरा नाम प्रमोद खरक्वाल (Pramod Kharkwal) है। मेरा मूल निवास पौड़ी गढ़वाल, उत्तराखण्ड है। वर्तमान में परिवार सहित गाजियाबाद, उ.प्र. में रहता हूँ। मैने इकॉनामिक्स में ग्रेजुएशन एल.डी. आर्टस् कॉलेज, गुजरात विश्वविद्यालय, अहमदाबाद तथा पोस्ट ग्रेजुएशन गढ़वाल विश्वविद्यालय से की है।about me

मेरा ब्लॉगर बनने की कहानी अजीब है। शायद नियति ही मुझे इस क्षेत्र में लेकर आयी है जिसने एक ब्लॉगर बनने के लिए मुझे प्रेरणा प्रदान की। तीन साल पहले तक तो मैं यह भी नही जानता था कि बेवसाइट कैसे बनाई जाती है और ब्लॉगिंग कैसे होती है। उस समय मैं नोएडा (उ.प्र.) के एक स्किल डिप्लपमेंट ट्रेनिंग क्षेत्र की मल्टीनेशनल कम्पनी में कार्यरत था। हमारी टीम ऑफ लाइन कन्टेट डिप्लपमेंट का कार्य करती थी। उस समय कम्पनी वित्तीय संकट के दौर से गुजर रही थी, इसलिए कर्मचारियों को अपने डोमेन से हटकर भी कार्य करना होता था।

हमारे टीम लीडर और कुछ साथी कप्यूटर ट्रेनिंग देने के लिए अलग-अलग राज्यों में गये हुए थे। इसी बीच कम्पनी का एक टेंडर पास हुआ था जिसमें कि असम सरकार के 1000 कर्मचारियों को कप्यूटर ट्रेनिंग देनी थी। शर्तों के अनुसार हमारी कम्पनी को निश्चित समय-सीमा पर एक इन्सिप्सन रिपोर्ट (Inception Report) सौंपनी थी । इस प्रोजेस्ट रिपोर्ट को बनाने मे हमारे असम प्रोजेक्ट लीडर ने असमर्थता व्यक्त कर दी थी। अब समस्या सिर पर खड़ी थी क्या किया जाए। कम्पनी के वाईस प्रेसिडेंट (V.P.) ने मुझे बुलाया और रिपोर्ट बनाने का कार्य सौंप दिया। आप विश्वास कीजिए मैंने इससे पहले Inception शब्द भी नहीं सुना था रिपोर्ट तो बहुत बड़ी बात थी मेरे लिए। मैंने इस कार्य को एक चैलेंज की तरह लिया और अपनी क्षमता के अनुसार पूरा प्रयास करने का आश्वासन दिया और कार्य शुरू कर दिया। कुछ दिनों में अंग्रेजी के 110 पन्नों की रिपोर्ट तैयार थी। कम्पनी ने रिस्क लेते हुए इस रिपोर्ट को डिपार्टमेंट में जमा कर दिया । कुछ दिनों में रिपोर्ट पर सहमति भी आ गयी। इस घटना के बाद कम्पनी का मेरे ऊपर विश्वास बढ़ा और प्रोजेक्ट कम्पलीशन रिपोर्ट (Project Completion Report) का कार्य भी मुझे ही सोंपा गया। इस तरह लेखन के क्षेत्र में मेरी रूचि जागी मेरा आत्मविश्वास भी काफी बढ़ चुका था।

कुछ समय बाद मैंने कम्पनी छोड़ दी और दिल्ली में मेडिकल इंट्रेंस की तैयारी करवाने वाली एक एजूकेशन इंस्ट्यिशन ज्वाईन कर लिया। एक साल बाद मुझे वेवसाइट मेंटेन करने, फेसबुक पेज को अपडेट करने और अन्य ऑनलाइन का कार्य भी सौंपा गया। इस कार्य को करते हुए मेरे मन में एक हिन्दी ब्लॉग बनाने का विचार आया जिससे की मैं आप सबके बीच में अपनी भावनाओं, रूचिकर विषयों की जानकारी साझा कर सकूं। यदि मेरे लिखे हुए लेखों से आपको कुछ प्रोत्साहन और प्रेरणा मिलती है तथा जीवन में तेजी से आगे बढ़ने की ललक पैदा होती है तो मैं अपने आपको बहुत भाग्यशाली समझूंगा।

दोस्तों आप मेरा परिचय प्राप्त करने हेतु “मेरा परिचय” पेज पर आये यह मेरा सौभाग्य है। आपके लेख, विचार, सुझाव तथा आलोचनाओं का तहेदिल से स्वागत रहेगा। आप मुझसे निम्न ई-मेल पर सम्पर्क कर सकते हैं।

Email Id: kadamtaal@gmail.com

आपका साथी,
Pramod Kharkwal